सौरव गांगुली

3 मौके जब सौरव गांगुली ने दिखाया था कि वे ही असली बॉस हैं

  • सौरव गांगुली को भारतीय क्रिकेट का आक्रामक कप्तान माना जाता है
  • भारतीय क्रिकेट को सौरव गांगुली नई ऊँचाइयों पर पहुंचाया है
Naveen Sharma
FEATURED WRITER
Modified 31 May 2020, 13:54 IST

भारतीय टीम में पुराने जमाने से लेकर अब तक कई कप्तान आए लेकिन सौरव गांगुली उनमें सबसे अलग नाम निकलकर आया। दादा के नाम से मशहूर सौरव गांगुली अपनी बात कहने से कभी पीछे नहीं हटते थे। मैदान पर विपक्षी टीम की गलत हरकतें हों या नियम कायदों की बात हो, सौरव गांगुली ने हर जगह आगे आकर टीम के लिए लड़ाई लड़ी है। सौरव गांगुली को भारतीय क्रिकेट इतिहास का सबसे आक्रामक कप्तान माना जाता है। सौरव गांगुली ने मैदान पर विपक्षी टीम के सामने यह बात कई बार दर्शाई भी है।

Advertisement
Ad

भारतीय क्रिकेट टीम को नई ऊँचाइयों पर लेकर जाने का श्रेय भी सौरव गांगुली को ही जाता है। कोटन बनने के कुछ साल बाद ही उन्होंने टीम को चैम्पियंस ट्रॉफी और वर्ल्ड कप के फाइनल तक का सफर तय कराया था। इसके अलावा उन्होंने सचिन तेंदुलकर के साथ बल्लेबाजी में भी टीम के लिए उम्दा योगदान दिया था। सौरव गांगुली ने अपनी कप्तानी के दौरान कई मौकों पर विपक्षी टीम को दिखाया है कि मैं ही भारतीय टीम का बॉस हूँ। उन पलों में से मैदान पर घटित कुछ बातें इस आर्टिकल में बताई गई है।

यह भी पढ़ें: 3 बल्लेबाज जो निचले क्रम से भारतीय टीम में ओपनर बने

सौरव गांगुली ने इन मौकों पर खुद को बॉस साबित किया

रसेल आर्नल्ड के साथ कहासुनी

गांगुली-आर्नल्ड

यह घटना उस समय हुई थी जब 2002 चैम्पियंस ट्रॉफी में भारत का मुकाबला श्रीलंका के खिलाफ हो रहा था। श्रीलंकाई बल्लेबाज रसेल आर्नल्ड ने अनिल कुंबले की एक गेंद को पॉइंट की तरफ कट करके रन लेने की कोशिश की लेकिन सफल नहीं हुए। वे पिच पर रफ बनाने के प्रयास में थे जिसे राहुल द्रविड़ ने नोटिस किया और दादा को बताया। सौरव गांगुली आर्नल्ड के पास गए और बोला कि यहाँ से दूर ही रहना। गांगुली ने ऐसा इसलिए कहा क्योंकि दूसरी पारी में भारत को बल्लेबाजी करनी थी और श्रीलंकाई स्पिनरों को मदद मिल सकती थी। गांगुली ने आर्नल्ड को बुरी तरह झाड़ा और चेतावनी भी दी।

स्टुअर्ट ब्रॉड को बल्ले से जवाब

Advertisement
Ad
गांगुली-ब्रॉड

जब 2007 में सात मैचों की सीरीज के छठे मैच में भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ लक्ष्य का पीछा कर रही थी तब यह घटना हुई। सचिन और गांगुली ने अच्छी शुरुआत भारत को दी थी। गांगुली ने स्टुअर्ट ब्रॉड की एक गेंद को ऑफ़ साइड में शॉर्ट कवर से खेली लेकिन सफल नहीं रहे और फील्डर वहां मौजूद थे। इस पर ब्रॉड और गांगुली के बीच कुछ कहासुनी हुई। अम्पायर अलीम डार ने मामला सुलझाया। इसके बाद ब्रॉड अगले ओवर में आए तब गांगुली ने खुद को रूम देते हुए गेंद को ब्रॉड के सिर के ऊपर से छक्के के लिए भेजकर अपनी दादागीरी दिखाई।

Advertisement
Ad
1 / 2 Next
Published 31 May 2020, 13:54 IST
 
 
 
×