×

Download SK app for faster reading

Advertisement
Ad

IPL के 5 ऐसे सबसे कम स्कोर जिनको सफलतापूर्वक डिफेंड किया गया

टी-20 में लक्ष्य का बचाव करना एक ऑर्ट है और छोटे लक्ष्य का बचाव करना तो काफी मुश्किल हो जाता है

सावन गुप्ता
Timeless
Advertisement
Ad

टी-20 में लक्ष्य का बचाव करना आसान नहीं होता है। टी-20 वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में भारत और वेस्टइंडीज के मुकाबले में क्या हुआ सबको पता है। लगभग 200 रन बनाने के बावजूद भारतीय टीम स्कोर का बचाव नहीं कर पाई। अक्सर देखा गया है कि बड़े स्कोर का पीछा आसानी से किया जा सकता है जबकि छोटे स्कोर में टीमें फंस जाती हैं।

टी-20 का पूरा मैच 40 ओवरों का होता है ऐसे में किसी टीम की हार-जीत में पिच का भी ज्यादा योगदान नहीं रहता है।ओस एक वजह हो सकती है लेकिन इसका फायदा दूसरी पारी में बल्लेबाजी करने वाली टीम को मिलता है। जो टीमें लक्ष्य का पीछा करती हैं उन्हें पता होता है कि कब और कैसे खेलना है। इसलिए टी-20 में लो स्कोर बहुत कम बार डिफेंड किए गए हैं। आपको बता दें 110 से कम का स्कोर का टी-20 में कभी भी बचाव नहीं किया जा सका है।

आपको बता दें कि अगर इस स्कोर की वनडे मैच से तुलना करें तो स्कोर 275 रन होगा। वनडे के हिसाब से 275 रन काफी ज्यादा हैं लेकिन 50 ओवर में काफी कुछ हो सकता है।

टी-20 में काफी तेज क्रिकेट खेला जाता है जबकि वनडे मैचों में बल्लेबाज को समझने का मौका मिलता है। लेकिन आईपीएल में कुछ कम स्कोर ऐसे रहे हैं जिनका सफलतापूर्वक बचाव किया गया। यहां पर हमने उन 5 मैचों का लेखा-जोखा निकाला है जिनमें कम स्कोर का सफलतापूर्वक बचाव किया गया। (यहां आपको बता दें कि हमने बैंगलोर में 2013 में खेले गए आरसीबी और चेन्नई के उस मैच को नहीं शामिल किया है जिसमें महज 8 ओवरों में 106 रन बने थे और आरसीबी ने उसका सफलतापूर्वक बचाव किया था)।

Advertisement
Ad

#5. पुणे में 2012 में मुंबई इंडियंस की टीम ने पुणे वॉरियर्स के खिलाफ 120 रनों का स्कोर डिफेंड किया

2012 के आईपीएल सीजन के 45वें मैच में मुंबई इंडियंस की टीम ने दिखाया कि बदला क्या होता है। वानखेड़े स्टेडियम में मुंबई की टीम छोटे स्कोर का पीछा करते हुए पुणे से हार चुकी थी। मैच में पहले बल्लेबाजी करते हुए मुंबई की टीम मात्र 120 रन ही बना पाई।

सचिन तेंदुलकर ने 35 गेंदों पर सबसे ज्यादा 34 रन बनाए। हालांकि मुंबई की शुरुआत अच्छी रही और सलामी बल्लेबाजों ने पहले विकेट के लिए 50 रन जोड़ दिए थे। लेकिन इसके बाद भुवनेश्वर कुमार और आशीष नेहरा ने शानदार गेंदबाजी कर पुणे को मैच में वापस ला दिया। भुवनेश्वर कुमार ने 3 ओवरों में 9 रन देकर 2 विकेट चटकाए। वहीं नेहरा ने भी 4 ओवरों में 19 रन देकर 2 विकेट चटकाए।

लक्ष्य का पीछा करने उतरी पुणे की टीम 7 ओवरों में 1 विकेट पर 40 रन बनाकर अच्छी स्थिति में थी। लेकिन इसके तुरंत बाद टीम ने जल्दी-जल्दी अपने 3 विकेट गंवा दिए। गांगुली और मिथुन मिन्हास ने 5वें विकेट के लिए जरुर 47 रन जोड़े लेकिन 17वें ओवर में गांगुली का विकेट गिरने के बाद टीम बिखर गई। मिथुन मिन्हास ने 34 गेंदों पर नाबाद 42 रनों की नाबाद पारी खेलकर टीम को जीत दिलाने की पूरी कोशिश की लेकिन पुणे की टीम महज 1 रन से ये मैच हार गई। हरभजन सिंह ने मुंबई इंडियंस की तरफ शानदार गेंदबाजी करते हुए 18 रन देकर 2 विकेट चटकाए। जबकि लसिथ मलिंगा ने भी 25 रन देकर 2 विकेट चटकाए।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं

1 / 5
IPL 2020: प्रत्येक टीम के ऐसे खिलाड़ी जिन्हें अगली नीलामी से पहले रिलीज किया जा सकता है
Advertisement
Ad
IPL 2020: 5 खिलाड़ी जिन्हें उनकी टीमें कभी भी रिलीज नहीं करेंगी
आईपीएल इतिहास की 3 सबसे सफल टीमों पर एक नजर
Advertisement
Ad
आईपीएल के इतिहास में टॉप 5 सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों द्वारा प्रत्येक रन की लागत
IPL 2020: हर टीम का एक महंगा खिलाड़ी जिसे रिलीज कर देना चाहिए
Advertisement
Ad
आईपीएल 2019: मुंबई इंडियंस ने चेन्नई सुपरकिंग्स को रोमांचक फाइनल में एक रन से हराया, रिकॉर्ड चौथी बार खिताब पर किया कब्ज़ा 
आईपीएल 2019: 34 वर्ष से ऊपर के खिलाड़ियों को मिलकर बनाई गई सर्वश्रेष्ठ प्लेइंग XI  
Advertisement
Ad
आईपीएल 2019: 3 टीमें में जो इस साल चैंपियन बनने की प्रबल दावेदार हैं
IPL इतिहास की अब तक की 5 सर्वश्रेष्ठ टीम
Advertisement
Ad
आईपीएल इतिहास में मुंबई इंडियंस के ऊपर चेन्नई सुपर किंग्स की 3 यादगार जीत
Add a Comment