रविंद्र जडेजा

AUS vs IND - रविंद्र जडेजा ने तूफानी पारी के बाद एम एस धोनी की अहम सलाह का किया जिक्र

  • रविंद्र जडेजा ने हार्दिक पांड्या के साथ मिलकर जबरदस्त साझेदारी की
  • रविंद्र जडेजा ने जीत के बाद कहा कि उन्होंने एम एस धोनी के नक्शे-कदम पर चलने की कोशिश की
सावन गुप्ता
SENIOR ANALYST
Modified 03 Dec 2020, 09:48 IST

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे वनडे में तूफानी पारी के बाद दिग्गज ऑलराउंडर रविंद्र जडेजा ने एम एस धोनी की एक अहम सलाह का जिक्र किया है। जडेजा के मुताबिक एम एस धोनी उनसे हमेशा कहा करते थे कि अगर आप मैच को अंत तक ले जाएंगे तो फिर आखिर के कुछ ओवरों में काफी रन बन सकते हैं और इस मुकाबले में ऐसा ही हुआ।

पोस्ट मैच इंटरव्यू में रविंद्र जडेजा ने एम एस धोनी की इस सलाह का जिक्र किया। उनसे ये भी पूछा गया कि आखिरी वनडे में ऑस्ट्रेलिया को हराकर भारतीय टीम ने निश्चित तौर पर राहत की सांस ली होगी। इस पर जडेजा ने कहा,

Advertisement
Ad
ऑस्ट्रेलिया में आकर उन्हें हराना काफी अच्छा होता है। इससे बड़ी खुशी की बात कुछ और नहीं हो सकती है क्योंकि अपने कंडीशंस में ऑस्ट्रेलिया की टीम काफी मजबूत है। हमने भले ही पहले 2 वनडे मुकाबलों में अच्छा प्रदर्शन नहीं किया लेकिन कम से कम आखिरी मुकाबला तो जीता और इस मोमेंटम को टी20 सीरीज में भी बनाए रखने की कोशिश हम करेंगे।

ये भी पढ़ें: वनडे में सबसे तेज 12 हजार रन बनाने वाले 3 बल्लेबाज

वीरेंदर सहवाग ने रविंद्र जडेजा से ये भी पूछा कि क्या इस बेहतरीन पारी के बाद वो कप्तान कोहली से बैटिंग में खुद को प्रमोट किए जाने के बारे में पूछेंगे। इस पर जडेजा ने कहा,

निश्चित तौर पर बड़ी पारी खेलने के लिए मुझे लंबा समय मिलेगा लेकिन जरुरत के हिसाब से मैं हर पोजिशन पर बेहतर करना चाहता हूं। जैसा मैंने इस मुकाबले में किया।

अपनी बैटिंग पर एम एस धोनी के प्रभाव को लेकर रविंद्र जडेजा ने दी प्रतिक्रिया

रविंद्र जडेजा और एम एस धोनी

वीरेंदर सहवाग ने रविंद्र जडेजा से ये भी पूछा कि पारी को फिनिश करते समय क्या उन्होंने ये सोचा था कि एम एस धोनी अगर इन परिस्थितियों में होते तो फिर वो किस तरह पारी को आगे लेकर जाते। इस पर जडेजा ने कहा,

निश्चित तौर पर माही भाई ने भारत और चेन्नई के लिए काफी सालों तक खेला है। जो बैट्समैन होता है उसके साथ वो पार्टनरशिप बनाने की कोशिश करते हैं। सेट होने के बाद वो बड़ी पारी खेलते हैं। इस तरह के हालात में मैंने उनको कई बार बैटिंग करते हुए देखा है और मैंने उनके साथ खेला भी है। वो मुझसे कहते थे कि अगर हम मैच को अंत तक लेकर गए तो फिर आखिर के 4 से 5 ओवरों में काफी रन बना सकते हैं।
Advertisement
Ad
Published 03 Dec 2020, 09:47 IST
 
See more comments
 
 
×