×

3 कारण जो बताते हैं कि क्यों वर्ल्ड कप 2019 में संघर्ष कर सकता है भारत

विश्व कप में इन तीन कारणों से संघर्ष कर सकता है भारत

Neeraj P
ANALYST
Timeless

Advertisement
Ad

साल 2019 को क्रिकेटिंग जगत का हाल का सबसे महत्वपूर्ण साल माना जा रहा है क्योंकि इसी साल क्रिकेट का सबसे बड़ा टूर्नामेंट वर्ल्ड कप 2019 खेला जाना है। 2017 की शुरुआत में महेन्द्र सिंह धोनी द्वारा वनडे टीम की कप्तानी छोड़ने के बाद भारतीय क्रिकेट टीम ने विराट कोहली की कप्तानी में शानदार प्रदर्शन किया है और खुद को वनडे क्रिकेट के सुपरपॉवर के रूप में उभारा है।

एशिया में अपने दबदबे के अलावा कोहली एंड कंपनी ने दक्षिण अफ्रीका, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में भी सीरीज़ जीतने में सफलता हासिल की है। भले ही भारत को विश्व कप के प्रबल दावेदार के रूप में देखा जा रहा है लेकिन टीम में कुछ खामियां हैं जो टूर्नामेंट में निराशा का कारण बन सकती हैं। एक नजर उन 3 मुख्य कारणों पर जिनकी वजह से विश्व कप में भारत को संघर्ष करना पड़ सकता है।

#1 मध्यक्रम में निरंतरता की कमी

पाकिस्तान के खिलाफ 2017 में चैंपियन्स ट्रॉफी का फाइनल हारने के बाद से भारतीय टीम ने वनडे क्रिकेट में सबसे ज़्यादा निरंतरता दिखाई है। हालांकि, भारत के मध्यक्रम की अनिश्चितता उन्हें काफी दर्द दे सकती है। नंबर 4 पर बल्लेबाजी के लिए युवराज सिंह, मनीष पाण्डेय, केएल राहुल, सुरेश रैना, दिनेश कार्तिक जैसे बल्लेबाजों को आजमाने के बाद भारतीय टीम ने अंबाती रायुडु को इसके लिए उपयुक्त माना है।

रायुडु के आंकड़ों को देखें तो वह मध्यक्रम के लिए बेस्ट हो सकते हैं लेकिन आंकड़ें ही सबकुछ नहीं होते हैं। धोनी के साथ ही रायुडु भी पारी की शुरुआत में काफी डॉट गेंदे खेलते हैं जिससे कि विकेटों का पतन रोका जा सकता है लेकिन यह हमेशा फायदे का सौदा नहीं साबित हो सकता है।

हाइ- स्कोरिंग मुकाबले में उनके द्वारा खेले गए 10-15 डॉट गेदों से जीत हार का अंतर तय हो सकता है।इसके अलावा भारतीय टीम हाल के समय में आखिरी 10 ओवरों का भरपूर फायदा उठाने में नाकामयाब रही है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

1 / 3
Advertisement
Ad
Add a Comment