इंजमाम उल हक

शॉर्ट बॉल से निपटने में सुनील गावस्कर ने मेरी मदद की थी-इंजमाम उल हक

  • इंजमाम उल हक पाकिस्तान के जबरदस्त बल्लेबाज थे और काफी रन बनाए थे
  • सुनील गावस्कर की इस सलाह से इंजमाम उल हक की ये परेशानी दूर हो गई थी
सावन गुप्ता
SENIOR ANALYST
Modified 14 Jul 2020, 11:32 IST

पाकिस्तान के पूर्व दिग्गज कप्तान इंजमाम उल हक ने सुनील गावस्कर की काफी तारीफ की है। इंजमाम उल हक ने कहा है कि एक बार वो शॉर्ट बॉल की समस्या से जूझ रहे थे लेकिन सुनील गावस्कर की सलाह ने उनकी इस समस्या को हमेशा के लिए दूर कर दिया। इंजमाम उल हक ने कहा कि उन्होंने इस मामले में सुनील गावस्कर से मदद मांगी थी।

अपने यू-ट्यूब चैनल पर इंजमाम उल हक ने कहा कि मैं 1992 वर्ल्ड कप के बाद इंग्लैंड दौरे पर गया था। वर्ल्ड कप में मैंने बेहतरीन प्रदर्शन किया था और वो मेरा इंग्लैंड का पहला दौरा था। मुझे बिल्कुल भी नहीं पता था कि उन पिचों पर किस तरह से खेला जाए। मैं उस वक्त खराब फॉर्म में भी था और शॉर्ट पिच गेंदों पर मुझे काफी दिक्कत हो रही थी।

Advertisement
Ad

ये भी पढ़ें: आरसीबी की टीम में आने के बाद मेरी जिंदगी में बदलाव आना शुरु हुआ- युजवेंद्र चहल

इंजमाम उल हक ने आगे कहा कि आधे सीजन के बाद मैं एक चैरिटी मैच के दौरान सुनील गावस्कर से मिला। हम दोनों वो चैरिटी मुकाबला खेलने गए थे। मैंने उनसे कहा कि सुनील भाई मुझे शॉर्ट पिच गेंद खेलने में दिक्कत आ रही है, मैं क्या करुं? महान खिलाड़ी हमेशा महान ही होते हैं, उन्होंने मुझे एक बेहद अहम सलाह दी। सुनील गावस्कर ने मुझसे कहा कि जब गेंदबाज बॉलिंग के लिए आए तो शॉर्ट पिच गेंदों के बारे में मत सोचो, अगर ऐसा करोगे तो फिर आपको दिक्कत आएगी। इंजमाम ने बताया कि सुनील गावस्कर ने मुझे सलाह दी कि जब गेंदबाज गेंदबाजी करेगा तब अपने आप ही तुम समझ जाओगे।

इंजमाम उल हक ने कहा कि सुनील गावस्कर की ये सलाह मानकर मैंने ठीक उसी तरह से प्रैक्टिस की। मैंने शॉर्ट गेंदों के बारे में सोचना ही बंद कर दिया। इसका नतीजा ये हुआ कि मेरी ये कमजोरी दूर हो गई। 1992 से लेकर जब तक मैं रिटायर हुआ, तब तक मुझे शॉर्ट पिच गेंदों पर कभी दिक्कत महसूस नहीं हुई।

ये भी पढ़ें: सुरेश रैना और ऋषभ पंत ने नेट्स में एक साथ किया अभ्यास

इंजमाम उल हक ने टेस्ट और वनडे दोनों में बेहतरीन प्रदर्शन किया

आपको बता दें कि इंजमाम उल हक अपने समय के जबरदस्त बल्लेबाज थे। उनका प्रदर्शन टेस्ट और वनडे दोनों ही फॉर्मेट में काफी बेहतरीन रहा। उन्होंने 120 टेस्ट मुकाबलो में 8830 रन बनाए और 378 वनडे मैचों में 11739 रन बनाए।

Advertisement
Ad
Published 14 Jul 2020, 11:32 IST
 
 
 
×