सहवाग-गांगुली

सौरव गांगुली बैन से बचने के लिए हमारे पास आए- संगकारा

  • सौरव गांगुली भारत के सफलतम कप्तानों में से एक माने जाते हैं
  • भारतीय टीम को जीत की राह पर लाने के श्रेय सौरव गांगुली को जाता है
Naveen Sharma
FEATURED WRITER
Modified 13 Jul 2020, 18:42 IST

सौरव गांगुली को लेकर श्रीलंका के पूर्व कप्तान कुमार संगकारा ने एक खुलासा किया है। चैम्पियंस ट्रॉफी 2002 की घटना का जिक्र करते हुए संगकारा ने कहा कि सौरव गांगुली बैन से बचने के लिए हमारे ड्रेसिंग रूम में आए थे। इसके बाद हमने सौरव गांगुली को आश्वस्त किया था कि हम आप पर बैन नहीं लगने देंगे। सौरव गांगुली उस समय भारतीय टीम के कप्तान थे।

स्टार स्पोर्ट्स के शॉ पर संगकारा ने कहा कि रसेल आर्नल्ड के साथ कहासुनी पर दादा को अम्पायर से दादा को अंतिम चेतावनी मिली जिस पर उनकी अम्पायर से बहस हो गई। इसके बाद वे हमारे ड्रेसिंग रूम में आए थे और कहा कि यह घटना लम्बी चलेगी तो मेरे ऊपर प्रतिबन्ध लगाया जा सकता है। इसके बाद हमने उन्हें कहा कि हम उसका मुद्दा नहीं बनाएँगे, आप पर बैन नहीं लगने देंगे।

Advertisement
Ad

यह भी पढ़ें:सुनील गावस्कर ने नासिर हुसैन की बातों को बकवास कहा

सौरव गांगुली की आर्नल्ड से हुई थी बहस

श्रीलंका और भारत के बीच मैच के दौरान रसेल आर्नल्ड शॉट खेलकर पिच के बीच में भाग रहे थे। भारतीय टीम को दूसरी पारी में बल्लेबाजी करनी थी इसलिए सौरव गांगुली उन्हें बार-बार ऐसा करने से रोक रहे थे। रसेल आर्नल्ड और सौरव गांगुली में बहस के बाद अम्पायर को मामले में बीच में आना आना पड़ा था। एक मैच ऐसा भी था जिसमें सौरव गांगुली ने आर्नल्ड को हेलमेट लगाने के लिए कहा था।

युवराज-गांगुली

गौरतलब है कि चैम्पियंस ट्रॉफी 2002 में पहला फाइनल मैच बारिश की भेंट चढ़ने के बाद दूसरे दिन रिजर्व डे था। अगले दिन भी बारिश ने खलल डाला और दोनों टीमों को संयुक्त विजेता घोषित कर दिया गया। दोनों दिन श्रीलंकाई टीम ने पहले बल्लेबाजी की तथा भारतीय बल्लेबाजी शुरू होते ही बारिश आ गई। सौरव गांगुली के पास उस समय काफी युवा टीम थी और सभी ने मिलकर बेहतरीन प्रदर्शन के बल पर भारतीय टीम को फाइनल में पहुँचाया था।

Advertisement
Ad
Published 13 Jul 2020, 18:42 IST
 
 
 
×