COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

5 मौके जब महेंद्र सिंह धोनी के क्रीज पर रहते भारतीय टीम को हार का सामना करना पड़ा

CONTRIBUTOR
टॉप 5 / टॉप 10
3.48K   //    13 Oct 2018, 20:16 IST

Enter caption

इंसान के जीवन और उसके कार्यों में उतार चढ़ाव हमेशा आते रहते हैं। कभी ख़ुशी और कभी गम संसार का नियम है। कार्य के दौरान आप कभी फेल भी होते हो। भारतीय क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी बेशक विश्व के महान फिनिशर माने जाते हैं लेकिन कई बार उनके साथ भी निराशा जुड़ी है और वे मैच खत्म करने में नाकाम रहे हैं। माही ने कई बड़े मुकाबलों में टीम को जीत दिलाई है लेकिन ऐसे पल भी आए हैं जब टीम को बेहद करीबी हार भी मिली। महेंद्र सिंह धोनी ने कई बड़े मैचों में भारतीय टीम को जीत दिलाई है। सबसे अहम 2011 विश्वकप का फाइनल मुकाबला है जिसमें उन्होंने गौतम गंभीर के साथ मिलकर टीम को न केवल संकट से बाहर निकाला बल्कि अंत में छह रन से मैच समाप्त भी किया। टीम इंडिया को चैम्पियन बनाने में इनकी 91 रनों की नाबाद पारी जिम्मेदार मानी जा सकती है। आज हम ऐसे ही पांच मैचों की बात करेंगे जिनमें धोनी के रहते टीम को पराजय मिली। इन मैचों में माही टीम को जीत नहीं दिला पाए। मुकाबले में टीम इंडिया काफी नजदीक जाकर लक्ष्य से महज कुछ कदम पहले पराजित हुई और सभी मौकों पर महेंद्र सिंह धोनी क्रीज पर मौजूद थे।


वेस्टइंडीज vs भारत, पहला टी20, अगस्त 2016 (भारत की 1 रन से हार)

फ्लोरिडा में पहले खेलते हुए वेस्टइंडीज ने 245/6 का स्कोर बनाया। लक्ष्य का पीछा करते हुए भारत बेहद करीब पहुंच गया था। केएल राहुल ने भारत के लिए नाबाद 110 रन बनाए। भारत को अंतिम एक बॉल में जीतने के लिए 2 रन चाहिए थे और धोनी स्ट्राइक पर थे लेकिन वे आउट हो गए। ब्रावो की गेंद पर शॉर्ट थर्डमैन पर धोनी ने सैमुएल्स को कैच थमा दिया। टीम एक रिकॉर्ड चेज करते हुए एक रन से हार गई। धोनी की काफी आलोचना हुई। माही ने 25 गेंद पर 43 रन बनाए।


1 / 5 NEXT
Topics you might be interested in:
CONTRIBUTOR
Fetching more content...