Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

वर्ल्ड कप 2018: बेल्जियम ने ट्यूनीशिया को 5-2 से हराया, लुकाकू ने की रोनाल्डो की बराबरी

24 Jun 2018, 02:22 IST

बेल्जियम ने फीफा विश्व कप के ग्रुप जी के मुकाबले में ट्यूनीशिया को 5-2 से हरा दिया। बेल्जियम के लिए ईडन हेजार्ड और रोमेलू लुकाकू ने दो-दो गोल दागे। एक गोल मिची बेतशुआई ने किया। वहीं ट्यूनीशिया के लिए डायलन ब्रोन और वाहबी खजरी ने एक-एक गोल किया। बेल्जियम अब ग्रुप में छह अंक के साथ सबसे ऊपर है वहीं ट्यूनीशिया दोनों मैचों में हार के कारण लगभग विश्व कप से बाहर हो चुकी है।
स्पार्टक स्टेडियम में हुए इस मुकाबले में बेल्जियम ने शुरू से ही अपना दबदबा कायम रखा। मैच के छठे मिनट में ही पेनल्टी पर गोल दागकर कप्तान ईडन हेजार्ड ने टीम को 1-0 की बढ़त दिला दी। 16वें मिनट में लुकाकू ने शानदार गोल कर टीम की बढ़त दोगुनी कर दी। लुकाकू का यह इस विश्व कप में तीसरा गोल है।
हालांकि दो मिनट बाद ही ट्यूनीशिया ने डायनल ब्रोन के गोल की बदौलत मैच में वापसी की। यह गोल फ्री किक पर किया गया। ब्रोन का यह पहला अंतरराष्ट्रीय गोल था। पहला हाफ समाप्त होने के बाद इंजुरी टाइम के दौरान बेल्जियम के लुकाकू ने टीम के लिए तीसरा गोल दागा। इस तरह पहले हाफ में बेल्जियम 3-1 से आगे थी।
दूसरे हाफ में भी बेल्जियम हावी रहा। 51वें मिनट में कप्तान हेजार्ड ने मौका मिलते ही गेंद को सीधा ट्यूनीशिया के गोल पोस्ट में पहुंचाकर टीम की बढ़त 4-1 कर दी। बेल्जियम के रोमेलू लुकाकू ने इस विश्व कप में सर्वाधिक गोल करने के मामले में क्रिस्टियानो रोनाल्डो की बराबरी कर ली। दोनों के नाम चार-चार गोल हैं।
मैच के 90वें मिनट में बेल्जियम के लिए पांचवां गोल बेतशुआई ने किया। हालांकि इसके बाद भी ट्यूनीशिया ने हिम्मत नहीं हारी और इंजुरी टाइम के दौरान एक गोल दागकर हार के अंतर को कम किया।

आखिरी मिनट में गोल कर क्रूस ने जर्मनी को दिलाई जीत

फीफा विश्व कप 2018 में खिताब के प्रबल दावेदार गत चैंपियन जर्मनी ने स्वीडन को 2-1 से हराया। करो या मरो के इस मुकाबले में जीत के साथ जर्मनी ने राउंड 16 में पहुंचने की उम्मीद बरकरार रखी है। ड्रॉ की ओर बढ़ रहे मैच में जर्मनी के टोनी क्रूस ने इंजुरी टाइम के दौरान गोल दागकर मैच का फैसला अपने हक में कर लिया। जर्मनी के लिए एक अन्य गोल मार्को रेयूस ने 48वें मिनट में किया।
पहले हाफ में दोनों टीमों ने शानदार खेल दिखाया। हालांकि आंकड़ों के मुताबिक पहला 30 मिनट जर्मनी के नाम रहा। उसने आक्रामक खेल के सहारे स्वीडन पर दबदबा बना कर रखा। 32वें मिनट में स्वीडन की तरफ से ओला टोइवोनेन ने गोल दागकर विपक्षी के दबदबे को तोड़ा। इसके साथ ही स्वीडन पहले हाफ के समाप्त होने तक 1-0 से आगे था।
दूसरे हाफ के 48वें मिनट में जर्मनी के लिए मार्को रेयूस ने बराबरी का गोल दागा। जहां पहले हाफ में एक गोल गंवाने से जर्मनी के खिलाड़ी निराश दिख रहे थे वहीं दूसरे हाफ में उन्होंने शानदार वापसी की। हालांकि इस दौरान दोनों के डिफेंस की भी कड़ी परीक्षा हुई। एक समय ऐसा लग रहा था कि मैच 1-1 ड्रॉ हो जाएगा तभी इंजुरी टाइम के दौरान जर्मनी के टोनी क्रूस ने निर्णायक गोल दागकर टीम को जीत दिला दी।

मेक्सिको ने दक्षिण कोरिया को 2-1 से हराया
कार्लोस वेला और जेवियर हर्नांडेज के गोलों की मदद से गत चैंपियन जर्मनी को हराने वाली मेक्सिको ने ग्रुप एफ के मुकाबले में दक्षिण कोरिया को 2-1 से शिकस्त दी। दक्षिण कोरिया के लिए एकमात्र गोल उसके स्टार फॉरवर्ड सोन हेंग-मीन ने इंजरी टाइम में किया। इसके साथ ही मेक्सिको ने नॉकआउट में भी जगह लगभग पक्की कर ली है।
पूरे मैच में कोरियाई टीम के खिलाड़ियों ने कमजोर प्रदर्शन किया। वह गेंद को गोल पोस्ट के करीब लाकर भी उसे गोल में नहीं बदल सके। मैच के 24वें मिनट में दक्षिण कोरिया के जैंग ह्यून का हाथ गेंद के संपर्क में आ गया। हालांकि उन्होंने यह जानबूझकर नहीं किया। इस अनजान गलती ने मेक्सिको को एक बेहतरीन मौका दे दिया। रेफरी के पेनल्टी के इशारे के साथ ही 26वें मिनट में मेक्सिको के कार्लोस वेला ने गोल दागकर 1-0 की बढ़त बना ली। 28वें मिनट में मेक्सिको को एक और मौका मिला जब लोजानो का शॉट गोल पोस्ट के थोड़ा ऊपर से निकल गया। कुछ समय बाद मेक्सिको के लोजानो ने कॉर्नर की साइड से एक खूबसूरत शॉट लगाया लेकिन गोलकीपर ने इसका अच्छा बचाव किया। पहला हाफ मेक्सिकन टीम के नाम रही।
दूसरे हाफ के 66वें मिनट में मेक्सिको के जेवियर हर्नांडेज ने विपक्षी के डिफेंस को आसानी से भेदते हुए शानदार गोल किया। इस गोल से मेक्सिको की टीम 2-0 से आगे हो गई। अब तक कोरिया की टीम कोई भी गोल करने में नाकाम रही। मैच धीरे-धीरे समाप्ति की ओर बढ़ रहा था तभी कोरियाई खिलाड़ी ली यंग को पीला कार्ड दिखाया गया। इस टूनार्मेंट में यह उनका दूसरा पीला कार्ड है इसलिए यही भी तय हो गया कि वे अगला मैच नहीं खेल पाएंगे। 90 मिनट तक कोरियाई टीम गोल करने में असफल रही। हालांकि इंजुरी टाइम में सोन हेंग मीन ने एक शानदार गोल किया लेकिन वह अपनी टीम को हार से नहीं बचा सके।

Advertisement
Advertisement
Fetching more content...