Create
Notifications

मोच का घरेलू उपचार- Moch ka gharelu upchar

मोच का घरेलू उपचार(फोटो:freepik)
मोच का घरेलू उपचार(फोटो:freepik)
Ritu Raj

मोच की समस्या सभी ने कभी न कभी जरूर महसूस की होगी। मोच आने पर व्यक्ति को अत्यधिक पीड़ा का सामना करना पड़ता है। हड्डियों में किसी तरह के क्षतिग्रस्त होने से मोच की समस्या उत्पन्न होती है क्योंकि, हड्डियों में ऊतक एक दूसरे से जुड़े होते हैं। चलते-चलते पैर के अचानक मुड़ जाने, दौड़ते वक्त पैर ट्विस्ट हो जाने या फिर गिरने की वजह से पैर में मोच आ जाती है। दरअसल, हड्डियों में किसी भी तरह का डैमेज होने से मोच की समस्या होती है। ऐसे में इसे भी घरेलू उपचार के जरिए ठीक किया जा सकता है।

मोच का घरेलू उपचार- Home Remedies For Sprain

बर्फ की सिकाई

मोच लगने के तुरंत बाद उस जगह पर बर्फ की सिकाई करने से सूजन नहीं आती है। इसके अलावा बर्फ की सिकाई करने से दर्द में भी आराम मिलता है। ऐसे में मोच आने पर हर एक से 2 घंटे में बर्फ से सिकाई करनी चाहिए। हालांकि, सीधे ही बर्फ से सिकाई नहीं करनी चाहिए, बर्फ को हमेशा किसी कपड़े में लपेटकर सिकाई करना चाहिए।

लौंग का तेल

मोच की समस्या आने पर लौंग का तेल भी काफी असरदार है। लौंग के तेल में एनेस्थेटिक गुण मौजूद होते हैं जो स्वेलिंग और दर्द को कम करता है। इस तेल को दो चम्मच लेकर मोच वाले जगह पर अच्छे से मालिश करें। मसल्स के पेन में काफी आराम मिलेगा। इसे दिन भर में 3 से 4 बार लौंग के तेल से मालिश करें।

हल्दी का दूध

हल्दी का दूध कोई भी दर्द खींचने में काफी मददगार होता है। मोच की समस्या आने पर हल्दी का दूध जरूर पिएं। ये पेनकिलर जैसा काम करता है।

हल्दी एक नहीं कई गुणों से भरपूर है। ये एंटीसेप्टिक के रूप में काम करती है। इसे इस्तेमाल करने के लिए पानी में दो चम्मच हल्दी डालकर उसका पेस्ट बना लें। अब इस हल्दी के पेस्ट को मोच वाली जगह पर लगाएं और 2 घंटे के लिए छोड़ दें। फिर गुनगुने पानी से साफ कर लें। इसके साथ ही एक ग्लास गर्म दूध में आधा चम्मच फिटकरी मिलाकर पीने से भी दर्द में काफी आराम मिलता है।

सेंधा नमक

सेंधा नमक सूजन विरोधी होती है और मांसपेशियों के दर्द व ऐंठन को कम करने में मदद करते है। इसमें प्राकृतिक तौर पर मैग्नीशियम होता है जो हड्डियों के दर्द को दूर करता है। यह नमक द्रव पदार्थ को बाहर निकाल देता है और सूजन से आराम दिलाता है। गुनगुने पानी में सेंधा नमक डालकर प्रभावित जगह पर सिकाई करने से काफी आराम मिलता है।

अरंडी का तेल

अरंडी के तेल में बहुत से औषधीय गुण होता है जो हड्डियों के दर्द को कम करता है। गठिया रोग के लोगो के लिए अरंडी के तेल से मालिश करने से सूजन व ऐंठन कम होती है। इसके अलावा मोच को ठीक करने के लिए अरंडी के तेल का उपयोग करना फायदेमंद होता है।


Edited by Ritu Raj

Comments

Fetching more content...