Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

कबड्डी के विभिन्न प्रकार और उनके नियम

Enter caption
EXPERT COLUMNIST
Modified 15 Apr 2020, 14:44 IST
फ़ीचर
Advertisement

कबड्डी एक ऐसा खेल है जिसके अलग अलग प्रकार हैं। उदाहरण के लिए - अंतर्राष्ट्रीय नियमों के तहत खेली जाने वाली कबड्डी को वो सारे देश मानते हैं जो लगातार इस खेल से जुड़े हैं। कबड्डी के बहुत सारे भारतीय स्टाइल भी हैं क्योंकि इसकी शुरुआत 1000 साल पहले प्राचीन भारत में ही हुई थी। देश के अलग अलग हिस्सों में अलग अलग नियमों का पालन किया जाता है।

कबड्डी के कुछ प्रसिद्ध भारतीय रूप अमर, पंजाबी, संजीवनी और गामिनी हैं। दक्षिण एशिया में कबड्डी बहुत ही प्रसिद्ध है और बांग्लादेश और नेपाल का राष्ट्रीय खेल भी है।

खेल के अंतर्राष्ट्रीय प्रारूप में दो टीमों के सात खिलाड़ी जीतने के लिए आपस में भिड़ते हैं और जिसके भी ज्यादा अंक होते हैं वो विजयी होता है। पुरुषों के मैच में फील्ड का आकर 10x13 m होता है तो वहीँ महिलाओं के लिए ये 8x12 m होता है। हर टीम के पास तीन रिज़र्व खिलाड़ी होते हैं जिनका इस्तेमाल परिस्थिति के हिसाब से किया जाता है। खेल का हरेक हाफ 20 मिनट का होता है और हाफ टाइम के 5 मिनट के ब्रेक के बाद टीमें अपनी अपनी साइड बदल लेती है।

हरेक टीम अपना रेडर दूसरे टीम के हाफ में भेजती है और पॉइंट जीतने के लिए उस रेडर को अपने सांस को थामकर रखते हुये विरोधी टीम के अधिक से अधिक खिलाडियों को छूना होता है और फिर बिना सांस लिए अपने हाफ में आना होता है। रेडर को रेड के दौरान 'कबड्डी कबड्डी' बोलना होता है जिससे कि रेफरी को लगे कि वो एक ही सांस में ये कर रहा है। रेडर अगर सांस बहार छोड़ता है या अपने हाफ में आने में असफल रहता है तो उसे बाहर कर दिया जाता है।

विरोधी टीम के उन खिलाड़ियों को भी बाहर किया जाता है जो टैग होने के बाद उस रेडर को अपने हाफ में जाने से नहीं रोक पाते। उस डिफेंडरों का यही काम होता है कि वो किसी भी तरह से रेडर को पछाड़ सके। डिफेंडरों को सेंट्रल लाइन पार करने की अनुमति नही होती ठीक उसी तरह रेडर को बाउंड्री लाइन पार करने की अनुमति नही होती। हालाँकि एक बोनस लाइन भी होता है जिसे छूकर अगर रेडर अपने हाफ में लौट आता है तो उसे बोनस पॉइंट्स मिलते हैं।

जिन खिलाडियों को रेफरी द्वारा बाहर किया जाता है वो कुछ देर मैच में नही होते। एक प्लेयर के आउट होने पर एक पॉइंट मिलता है और अगर पूरी टीम बाहर हो जाए तो दूसरी टीम को 3 बोनस पॉइंट मिलते हैं। खेल के अंत में जिस टीम के सबसे अधिक पॉइंट्स होते हैं वो विजयी होती है।

भारतीय अमच्योर कबड्डी फेडरेशन ने खेल के 4 तरीके बताये

संजीवनी स्टाइल कबड्डी में विरोधी टीम के एक प्लेयर के आउट होने पर दूसरी टीम का एक प्लेयर वापस आ जाता है। ये खेल 40 मिनट का होता है जिसमे दोनों हाफ के बीच 5 मिनट का ब्रेक होता है। हरेक टीम में 7 खिलाड़ी होते हैं और दूसरी टीम के सभी खिलाडियों को आउट करने पर 4 पॉइंट मिलते हैं।

गामिनी स्टाइल कबड्डी में भी एक टीम में 7 खिलाड़ी होते हैं और अगर खिलाड़ी आउट होता है तो वो तब तक वापस नहीं आ सकता जब तक उसकी पूरी टीम आउट न हो जाए। इस खेल में कोई समय सीमा नही होती और खेल तब तक चलता है जब तक कि ऐसे 5 या 7 पॉइंट कोई टीम अर्जित न कर ले

अमर स्टाइल कबड्डी में भी गामिनी कि तरह ही समय सीमा नही होती लेकिन इसमें आउट होने वाला खिलाड़ी खेल में रहता है और एक टैग होने पर एक पॉइंट मिलते हैं।।

1 / 2 NEXT
Published 26 Jul 2017, 13:22 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit