Create
Notifications

Pro Kabaddi League में इस्तेमाल होने वाले शब्द (Term) जिन्हें आपको जरूर जानना चाहिए 

Pro Kabaddi League, PKL का 8वां सीजन 22 दिसंबर से शुरू होने वाला है
Pro Kabaddi League, PKL का 8वां सीजन 22 दिसंबर से शुरू होने वाला है
मयंक मेहता

प्रो कबड्डी लीग (PKL 8) का आठवां सीजन इस समय बैंगलोर में चल रहा है। हर दिन जबरदस्त मुकाबले देखने को मिल रहे हैं। यह टूर्नामेंट जरूर बिना फैंस के खेला जा रहा है, लेकिन इसमें रोमांच की कोई कमी नहीं है।

फैंस वैसे तो प्रो कबड्डी के मुख्य नियमों को जानते ही हैं। जैसे 20-20 मिनट के दो हाफ होते हैं और कैसे हर टीम को मैच के दौरान 5-5 सबस्टीट्यूट मिलते हैं। इसके अलावा दोनों टीमों को टाइम आउट मिलते हैं और पहले हाफ के बाद कोर्ट भी बदले जाते हैं। हालांकि इस आर्टिकल में आपके लिए मैच के दौरान इस्तेमाल होने वाले अहम शब्दों (Terms) का मतलब बताने वाले हैं।

Pro Kabaddi League, PKL में इस्तेमाल होने वाले खास शब्द का मतलब क्या है?

डू और डाई रेड - रेडिंग करने वाली टीम अगर लगातार दो रेड में एक भी पॉइंट हासिल नहीं करती है, तो तीसरी रेड डू और डाई होती है। इसमें रेड करने वाले खिलाड़ी को पॉइंट हासिल करना ही होता है, नहीं तो वो खिलाड़ी आउट हो जाता है।

सुपर रेड - रेड करने वाला खिलाड़ी अगर विपक्षी टीम के 3 या उससे ज्यादा खिलाड़ियों को आउट करता है तो इसे सुपर रेड कहा जाता है। रेडर अगर दो डिफेंडर्स को आउट करता है और साथ में बोनस भी लेता है, तो उसे भी सुपर रेड कहा जाएगा।

सुपर टैकल - सुपर टैकल में डिफेंस करने वाली टीम को 2 पॉइंट मिलते हैं। जब डिफेंस करने वाली टीम में 3 या उससे कम डिफेंडर होते हैं और वो एक रेडर को आउट करते हैं तो उसे सुपर टैकल कहा जाता है।

सुपर 10 - एक मैच में जब कोई रेडर 10 या उससे ज्यादा पॉइंट रेड के जरिए हासिल करता है तो उसे सुपर 10 कहा जाता है। इसमें टच और बोनस पॉइंट शामिल होते हैं।

हाई 5 - जब डिफेंडर एक मैच में 5 या उससे ज्यादा पॉइंट्स टैकल के जरिए हासिल करता है तो इसे हाई 5 कहा जाता है।

बोनस - एक रेडर का एक पैर हवा और दूसरा बोनस लाइन के पार होता है तो उसे बोनस पॉइंट मिलता है। एक बोनस पॉइंट हासिल करने के लिए दूसरी टीम में कम से कम 6 खिलाड़ी होने जरूरी हैं। इसके अलावा अगर रेडर बोनस पॉइंट हासिल करने के बाद आउट हो जाता है, तो भी उसे बोनस पॉइंट मिलेगा।

रिव्यू: हर टीम को मैच में सिर्फ एक रिव्यू मिलता है। टीम को अगर रेफरी का फैसला गलत लगता है, तो वो इसे चैलेंज कर सकते हैं। हालांकि अगर उनका रिव्यू गलत होता है, तो उन्हें पूरे मैच में दूसरा रिव्यू नहीं मिलेगा।

ऑलआउट : जब एक टीम अपने प्रतिद्वंदी के सभी प्लेयर्स को आउट कर देती है तो इसे ऑलआउट कहा जाता है। ऑलआउट करने वाली टीम को 2 पॉइंट अतिरिक्त मिलते हैं और इसके बाद ऑलआउट होने वाली टीम के सभी मेंबर्स मैच में शामिल हो सकते हैं।

लॉबी रूल: कोई खिलाड़ी बिना टच के पीले रंग वाले हिस्से में चला जाता है, तो वो आउट हो जाता है। रेडर के साथ जितने डिफेंडर लॉबी का हिस्सा बनते हैं उन्हें भी आउट दिया जाता है।


Edited by मयंक मेहता

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...