Create
Notifications

प्रो कबड्डी के नियम

<p>
Naveen Sharma
FEATURED WRITER

कबड्डी खेल पूरी तरह भारतीय है और भारत की टीम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर श्रेष्ठ है। इसे और अधिक लोकप्रिय बनाने के उद्देश्य से प्रो कबड्डी लीग की शुरुआत की गई और आज इसे करोड़ों फैन्स देखते हैं। इस बार इस लीग का छठा सीजन अक्टूबर में शुरू होगा और 13 हफ़्तों तक चलेगा। कुल 12 टीमें इसमें भाग ले रही है और कई विदेशी खिलाड़ियों से सज्जित यह टूर्नामेंट ख़ासा पसंद किया जाता है। इस सीजन टूर्नामेंट में 138 मैच खेला जाएंगे और फाइनल मैच अगले साल 5 जनवरी को खेला जाएगा। पिछला सीजन पटना पाइरेट्स ने गुजरात फार्च्यूनजायंट्स को हराकर जीता था।

आइये आपको कबड्डी के नियमों से रूबरू कराते हैं:

1. हर टीम में 12 खिलाड़ी होते हैं लेकिन पाले में 7 खिलाड़ी खेलते हैं, 5 खिलाड़ी सुरक्षित होते हैं जिन्हें विशेष परिस्थितियों में इस्तेमाल किया जाता है।

2. मैच में 20-20 मिनट के दो हाफ होते हैं और 5 मिनट का विश्राम होता है। एक हाफ के बाद टीमें पाला बदल लेती हैं और महिलाओं के लिए 15-15 मिनट के दो हाफ होते हैं।

3. खेल में मैदान से बाहर जाने वाला खिलाड़ी आउट माना जाता है तथा मैच शुरू होने के बाद लॉबी को भी मैदान का हिस्सा ही माना जाता है।

5. तीन या 4 खिलाड़ियों को रेडर द्वारा एक बार में आउट करने को सुपर रेड कहते हैं। डू और डाई में रेडर को अंक लेना होता है तथा विपक्षी टीम को आउट करना होता है।किसी नियम के उल्लंघन पर रेडर को रेफरी से चेतावनी मिलती है और फिर से ऐसा होने पर विपक्ष को अंक दिया जाता है लेकिन रेडर को आउट नहीं माना जाता।

6. मैच में यदि 1 या 2 खिलाड़ी शेष हैं तो कप्तान को अधिकार होता है कि वह सभी खिलाड़ियों को बुला ले लेकिन उतने अंक और 2 अंक अतिरिक्त विपक्षी टीम को मिलते हैं।विपक्षी क्षेत्र में सांस तोड़ने पर रेडर को आउट करार दिया जाता है। रेडर की रेडिंग के दौरान विपक्षी टीम का कोई खिलाड़ी रेड के लिए नहीं जा सकता।

7. बचाव करने वाली टीम के सदस्य का पांव पीछे की रेखा से बाहर निकलने पर आउट माना जाता है।

8. रेड करने वाले खिलाड़ी को रेडर कहते हैं और वह लगातार कबड्डी-कबड्डी शब्द का उच्चारण करता है।

9. सुपर टैकल के समय बचाव करने वाली टीम के 3 या 2 खिलाड़ी रेडर को आउट कर दें तो उसे सुपर टैकल कहते हैं।

10. एक से अधिक खिलाड़ी रेड के लिए जाते हैं तो रेफरी उन्हें वापस भेजता है और वह मौका भी छीन लेता है, इस दौरान कोई खिलाड़ी आउट नहीं माना जाता।

11. किसी विशेष परिस्थिति में कप्तान 2 टाइम आउट ले सकता है और इनकी अवधि 30-30 सेकण्ड की होती है।

12. खिलाड़ी के शरीर का कोई भाग मैदान के बहरी क्षेत्र को टच कर जाता है तो उसे आउट करार दिया जाता है।

13. मैदान पर एक अम्पायर होता है और एक टीवी अम्पायर होता है, इसके अलावा एक रेफरी भी होता है।

14. बचाव करने वाली टीम का रेड करने वाली टीम का कोई भी सदस्य किसी भी खिलाड़ी को धक्का देकर बाहर नहीं कर सकता।

15. उद्दंड व्यवहार के लिए अम्पायर खिलाड़ी को चेतावनी दे सकता है अथवा उसे और टीम को उस मैच के लिए अयोग्य घोषित कर सकता है।

16. पूरी टीम को आउट करने पर विपक्षी टीम को 2 अतिरिक्त अंक मिलते हैं जिसे लोना कहते हैं

17. सबसे पहले आउट होने वाला खिलाड़ी मैदान पर पुनर्जीवित होकर सबसे पहले आता है।

18. एक बार बदला गया खिलाड़ी वापस नहीं आ सकता।

19. मैच का समय समाप्त होने पर दोनों टीमों के बराबर अंक हो, तो अतिरिक्त 5-5 रेड दी जाती है।

Edited by Naveen Sharma
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now