टेनिस

भारत के स्टार टेनिस प्लेयर रोहन बोपन्ना ने जीता 2017 फ्रेंच ओपन का ख़िताब

रोहन बोपन्ना और उनकी पार्टनर गेब्रिएला डब्रोवस्की दोनों ने पहला ग्रैंडस्लैम ख़िताब जीता

भारत के शीर्ष डबल्स टेनिस खिलाड़ी रोहन बोपन्ना ने गुरुवार को अपनी पार्टनर कनाडा की गेब्रिएला डब्रोवस्की के साथ फ्रेंच ओपन का मिक्स्ड डबल्स (मिश्रित युगल) ख़िताब जीत लिया है।

इंडो-कनाडियन जोड़ी ने पहले सेट में पिछड़ने के बावजूद दमदार वापसी करते हुए कोलंबिया के रोबर्ट फराह और उनकी पार्टनर जर्मनी की एना-लेना ग्रोएनफेल्ड को सुपर टाई-ब्रेकर में 2-6, 6-2, 12-10 से हराकर ख़िताब जीता। बता दें कि भारत के रोहन बोपन्ना और उनकी पार्टनर गेब्रिएला डब्रोवस्की दोनों ने पहली बार ग्रैंडस्लैम ख़िताब जीता।

बोपन्ना दूसरी बार ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचे थे और पहली बार उन्हें ख़िताब जीतने की सफलता मिली। इससे पहले वो पाकिस्तान के ऐसाम उल हक कुरैशी के साथ 2010 यूएस ओपन के मेन्स डबल्स (पुरुष युगल) के फाइनल में पहुंचे थे। तब ये जोड़ी अमेरिका के ब्रायन बंधुओं से दो सेट टाई ब्रेकर्स में हार गई थी।

बोपन्ना ग्रैंडस्लैम जीतने वाले भारत के चौथे खिलाड़ी बन गए हैं। वो फ्रेंच ओपन में मिक्स्ड डबल्स जीतने वाले भी चौथे भारतीय खिलाड़ी ही बने। इससे पहले महेश भूपति ने 1999 में रिसा ओज़ाकी के साथ और बाद में सानिया मिर्ज़ा के साथ मिक्स्ड डबल्स का ख़िताब जीता था। वहीं लिएंडर पेस इस टूर्नामेंट के गत चैंपियन थे, जिन्होंने स्विट्ज़रलैंड की मार्टिना हिंगिस के साथ मिक्स्ड डबल्स का ख़िताब जीता था।

डब्रोवस्की ग्रैंडस्लैम ख़िताब जीतने वाली कनाडा की पहली महिला खिलाड़ी बन गई हैं। डेनियल नेस्टर ग्रैंडस्लैम जीतने वाले कनाडा के पहले पुरुष खिलाड़ी बने थे।

37 वर्षीय बोपन्ना के लिए वर्ष 2017 बहुत सफल रहा है। भारतीय खिलाड़ी ने मेन्स डबल्स वर्ग में उरुग्वे के पाब्लो केवास के साथ प्रतिष्ठित एटीपी मास्टर्स 1000, मोंटे कार्लो मास्टर्स का ख़िताब जीता था।

बहरहाल, मैच में बोपन्ना-डब्रोवस्की पहले सेट में पूरी तरह बैकफुट पर नजर आए। जर्मनी की ऐना-लेना ग्रोएनफेल्ड ने नेट पर शानदार खेल दिखाते हुए इंडो-कनाडाई जोड़ी को खूब परेशान किया। फराह के बैकहैंड भी काफी सटीक रहे और उनके कई शॉट बोपन्ना-डब्रोवस्की को चीरते हुए निकल गए।

कोलंबियाई-जर्मन जोड़ी ने पहला सेट सिर्फ 20 मिनट में 2-6 से अपने नाम किया। हालांकि, दूसरे सेट में इंडो-कनाडाई जोड़ी ने जोरदार वापसी की और 6-2 से सेट अपने नाम किया। बोपन्ना ने कोर्ट के हर कोने से रिटर्न शॉट खेले और कई बड़ी रैलीज में अंक हासिल किए। वहीं उनकी जोड़ीदार डब्रोवस्की ने बैकहैंड का खूबसूरत इस्तेमाल करते हुए महत्वपूर्ण अंक दिलाए।

पहले दो सेट 1-1 की बराबरी पर रहने के बाद दोनों टीमों को टाई-ब्रेक मुकाबला खेलना पड़ा, जिसमें दूसरा चैंपियनशिप पॉइंट हासिल करते हुए बोपन्ना-डब्रोवस्की ने खिताबी जीत हासिल की और स्कोर 12-10 का रहा।