Create
Notifications

वर्ल्ड कप इतिहास के 10 सबसे बड़े विवाद

2015 Cricket World Cup Countdown
शारिक़ुल होदा Shariqul Hoda

भले ही क्रिकेट को जेंटलमैन गेम कहा जाता है, लेकिन इस खेल पर अक्सर बदनामी का साया मंडराता रहता है। आईसीसी क्रिकेट वर्ल्ड कप भी विवादों से परे नहीं रहा है, इस टूर्नामेंट के इतिहास में कई ऐसी घटनाएं हुई हैं जिससे पूरा क्रिकेट जगत शर्मसार हुआ है। वर्ल्ड कप के दौरान कई इसी चीज़ें सामने आई हैं जिसकी उम्मीद किसी को नहीं थी। कभी डोपिंग तो कभी हंगामा तो कभी नियमों को लेकर झगड़ा देखने को मिला है। हम यहां आईसीसी वर्ल्ड कप इतिहास के 10 सबसे बड़े विवाद को लेकर चर्चा कर रहे हैं।


#10 एंड्रयू फ्लिंटॉफ का पैडल बोट पर नशे में धुत्त हो जाना

Enter caption

ये घटना आईसीसी वर्ल्ड कप 2007 की है। इस दौरान इंग्लैंड के एंड्रयू फ़्लिंटॉफ़ को उप-कप्तानी से हाथ धोना पड़ा था। इसके अलावा उन पर एक मैच का बैन लगाया गया था। इंग्लैंड के ऑलराउंडर ने नशे में धुत्त होकर पैडल बोट की सवारी की थी, जिसको लेकर काफ़ी विवाद हुआ था। ये घटना शायद ‘पाइरेट्स ऑफ़ कैरेबियन’ मूवी की स्क्रीनिंग के बाद घटी थी। इस वारदात के दौरान फ़्लिंटॉफ़ के साथ जेम्स एंडरसन, लियम प्लंकेट, जॉन लुइस, इयान बेल और पॉल निक्सन थे। ख़बरों के मुताबिक फ़्लिंटॉफ़ पैडल बोट से असंतुलित होकर गिर गए थे, जिसके बाद उन्हें बचाया गया था।


#9 2.5 मीटर का नियम

Enter caption

साल 2011 के वर्ल्ड कप के दौरान भारत और इंग्लैंड के बीच बैंगलोर में मैच जारी था। इंग्लैंड के बल्लेबाज़ इयान बेल एलबीडब्ल्यू आउट दिए जा सकते थे, लेकिन अंपायर बिली बाउडेन ने ऐसा नहीं किया। कप्तान धोनी ने डीआरएस लिया लेकिन उसका कोई फ़ायदा टीम इंडिया को नहीं मिला। दरअसल उस वक़्त के नियम के मुताबिक बैट्समैन से बॉल टकराने और स्टंप के बीच दूरी 2.5 मीटर से ज़्यादा हो तो बल्लेबाज़ नॉट आउट रहेगा। धोनी और बीसीसीआई ने इस नियम पर कड़ा ऐतराज़ जताया। इसका नतीजा ये हुआ कि टूर्नामेंट के बीच में इस नियम को बदलना पड़ा। वर्ल्ड कप के दौरान नियम के बदले जाने को लेकर आईसीसी की तीखी आलोचना हुई थी।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

#8 ईडन गार्डेन में आगजनी

Enter caption

साल 1996 के वर्ल्ड कप का सेमीफ़ाइनल मैच कोलकाता के ईडन गार्डेन में खेला जा रहा था। टीम इंडिया श्रीलंका के ख़िलाफ़ 252 रन के लक्ष्य का पीछा कर रही थी। इसी क्रम में भारत के 8 विकेट महज़ 120 रन पर गिर गए थे। टीम इंडिया के इस बुरे प्रदर्शन को देखकर स्टेडिम में मौजूद भीड़ आग बबूला हो गई। पहले तो दर्शकों ने मैदान में बोतल फेंकने शुरू किए और स्टैंड में आगजनी की। मैच रेफ़री क्लाइव लॉयड ने मैच को 15 मिनट के लिए रोका, लेकिन इसका कोई असर दर्शकों पर नहीं पड़ा। नतीजा ये हुआ कि डकवर्थ-लुईस नियम के तहत श्रीलंका को जीत दे दी गई।


#7 लोकतंत्र की हत्या – साल 2003

Enter caption

साल 2003 के वर्ल्ड कप की मेज़बानी दक्षिण अफ़्रीका, कीनिया और ज़िम्बाब्वे कर रहे थे। ज़िम्बाबे का पहला मैच हरारे में नामीबिया के ख़िलाफ़ हो रहा था, उस मैच में ज़िम्बाब्वे के 2 खिलाड़ी एंडी फ़्लावर और हेनरी ओलंगा ने अपनी-अपनी बांहों पर काले रंग का फीता बांध लिया था। दरअसल ये दोनों खिलाड़ी ज़िम्बाब्वे के राष्ट्रपति रॉबर्ट मुगाबे के ख़िलाफ़ विरोध कर रहे थे। ओलंगा और एंडी ने कहा कि वो “ज़िम्बाब्वे में लोकतंत्र की हत्या” का विरोध कर रहे थे। इसके बाद इंग्लिश टीम ने भी ज़िम्बाब्वे में खेलने से इंकार कर दिया था।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

#6 श्रीलंका के मैदान में खेलने से इनकार

Enter caption

साल 1996 के वर्ल्ड कप की मेज़बानी भारत, पाकिस्तान और श्रीलंका कर रहे थे। उस साल की शुरुआत में श्रीलंका के विद्रोही संगठन एलटीटीई ने वहां के सेंट्रल बैंक पर बमबारी की थी। इस वजह से सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज़ की टीम ने श्रीलंका में श्रीलंकाई टीम के ख़िलाफ़ अपने-अपने ग्रुप मैच खेलने से इनकार कर दिया। इसका नतीजा ये हुआ कि श्रीलंका की टीम को इन दोनों मैच के पूरे अंक दे दिए गए। श्रीलंका ने उस साल वर्ल्ड कप जीता था।


#5 2011 वर्ल्ड कप ट्रॉफ़ी – असली या नकली?

Enter caption

साल 2011 में करीब 28 साल बाद टीम इंडिया ने वर्ल्ड कप पर कब्ज़ा जमाया था। मीडिया की ख़बरों के मुताबिक जो ट्रॉफ़ी भारतीय टीम को प्रेज़ेंटेशन सेरेमनी में दी गई थी वो असली नहीं थी। एक रिपोर्ट के मुताबिक जब असली ट्रॉफ़ी कोलंबो से मुंबई लाई जा रही थी, तब मुंबई एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने उसे जब्त कर लिया था, क्योंकि उस ट्रॉफ़ी पर आयात शुल्क नहीं दिया गया था। कप्तान धोनी को जो ट्रॉफ़ी सौंपी गई थी वो पुरानी ट्रॉफ़ी से देखने में थोड़ी अलग थी। ऐसे में शक होना लाज़मी हैं। हालांकि आईसीसी के तत्कालीन सीईओ हारून लोगार्ट ने ऐसी ख़बरों से इनकार किया था, लेकिन वो ये नहीं बता पाए कि नई और पुरानी ट्रॉफ़ी दिखने में अलग क्यों है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

#4 2007 वर्ल्ड कप फ़ाइनल के दौरान अंधेरा

Enter caption

आईसीसी वर्ल्ड कप 2007 का फ़ाइनल मैच ब्रिजटाउन के केनिंग्सटन ओवल में खेला जा रहा था उस वक़्त स्टेडियम में करीब 28 हज़ार दर्शक मौजूद थे। इस मैदान में फ़्लड लाइड की कोई व्यवस्था नहीं थी। बारिश और दिन में अंधेरा छा जाने के कारण ये मैच बाधित हुआ था। इस वजह से मैच को 38-38 ओवर का कर दिया गया था। ऑस्ट्रेलिया ने ये मैच जीत लिया, लेकिन मैदान में अंधेरा छा जाने और फ़्लड लाइट का इंतज़ाम न होने की वजह से आयोजकों की काफ़ी फजीहत हुई थी।


#3 बारिश को लेकर नियम

Enter caption

1992 वर्ल्ड कप के दौरान एक अजीब ओ ग़रीब घटना हुई थी। सेमीफ़ाइनल मैच इंग्लैंड और दक्षिण अफ़्रीका के बीच खेला जा रहा था। इंग्लैंड ने पहले खेलते हुए 45 ओवर में 252 रन बनाए थे। लक्ष्य का पीछा करते हुए साउथ अफ़्रीका ने रन बनाना शुरु किया। आख़िरी 13 गेंदों में दक्षिण अफ़्रीका को जीत के लिए 22 रन बनाने की ज़रूरत थी, लेकिन तेज़ बारिश की वजह से मैच में डकवर्थ लुईस नियम (मोस्‍ट प्रोडक्‍टिव ओवर्स नियम) लग गया । दक्षिण अफ़्रीका को अब 1 गेंद में 22 रन बनाने थे जो कि कतई मुमकिन नहीं था। दक्षिण अफ़्रीका ये मैच हार गया। इस मैच के बाद इस नियम की काफ़ी आलोचना हुई थी।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

#2 2003 वर्ल्ड कप से पहले शेन वार्न पर प्रतिबंध

Enter caption

साल 2003 के वर्ल्ड कप के दौरान शेन वॉर्न ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम का अहम हिस्सा थे। लेकिन वो अपनी टीम के लिए एक भी मैच नहीं खेल पाए थे। वर्ल्ड कप शुरू होने से पहले वो डोप टेस्ट में पॉज़िटिव पाए गए। इस घटना के बाद शेन वॉर्न पर एक साल का प्रतिबंध लग गया था। उन्हें दक्षिण अफ़्रीका से अपने देश वापस भेज दिया गया। वर्ल्ड एंटी डोपिंग एजेंसी ने शेन वॉर्न के बैन पर सवाल उठाए थे, क्योंकि बैन के दौरान वो चैरिटी मैच खेलते हुए पाए गए थे।


#1 2007 वर्ल्ड कप के दौरान बॉब वूल्मर की मौत

Enter caption

18 मार्च 2007 को वर्ल्ड कप के दौरान पाकिस्तानी क्रिकेट टीम के कोच बॉब वूल्मर जमैका में अपने होटल के कमरे में मृत पाए गए थे। 22 मार्च को जमैका की पुलिस ने हत्या की आशंका जताते हुए इसकी जांच शुरू कर दी। उनकी मौत की असली वजह क्या थी ये अब तक एक रहस्य बना हुआ है। अगर उनका मर्डर हुआ तो क्यों हुआ ? क्या कोच वूल्मर को किसी मैच फ़िक्सिंग की जानकारी थी ? उनकी मौत ने वर्ल्ड कप जैसे बड़े टूर्नामेंट पर एक बदनुमा दाग़ लगा दिया था।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज स्पोर्टसकीड़ा पर पाएं।

Edited by सावन गुप्ता

Comments

Fetching more content...