Create
Notifications
Advertisement

10 भारतीय खिलाड़ी जो टी20 वर्ल्ड कप टीम का हिस्सा होने के बावजूद प्लेइंग इलेवन का हिस्सा नहीं बन पाए 

  • 2007, 2010 और 2012 में एक तो 2009 और 2014 में दो खिलाड़ियों प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका नहीं मिला
  • 2016 में सबसे ज्यादा तीन खिलाड़ियों को खेलने का मौका नहीं मिला है
FEATURED COLUMNIST
फ़ीचर
Modified 24 Mar 2020, 09:23 IST

इन खिलाड़ियों को नहीं मिला खेलने का मौका
इन खिलाड़ियों को नहीं मिला खेलने का मौका

भारतीय टीम ने 2007 में हुए पहले टी20 वर्ल्ड कप को जीता था। उसके बाद से अभी तक 5 टी20 वर्ल्ड कप (2009,10,12,14 और 2016) और हो चुके हैं। हालांकि भारतीय टीम पहले टूर्नामेंट के बाद सिर्फ 2014 और 2016 में ही नॉकआउट मुकाबलों तक पहुंची।

2009, 2010 और 2012 में भारतीय टीम का सफर सुपर 8 में ही समाप्त हो गया। दूसरी तरफ 2014 में हुए टूर्नामेंट में भारत ने फाइनल तक का सफर तय किया, जहां उन्हें श्रीलंका के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा था। 2016 में भारत सेमीफाइनल तक पहुंचा था।

हालांकि हर वर्ल्ड कप में ऐसे खिलाड़ी रहे, जोकि 15 सदस्यीय टीम का हिस्सा तो थे, लेकिन उन्हें प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका नहीं मिला।

आइए नजर डालते हैं उन 10 खिलाड़ियों पर जिन्हें टी20 वर्ल्ड कप की टीम का हिस्सा होने के बावजूद खेलने का मौका नहीं मिला:

#) 2007 टी20 वर्ल्ड कप (पीयूष चावला)

पीयूष चावला
पीयूष चावला

भारतीय टीम: महेंद्र सिंह धोनी, युवराज सिंह, वीरेंदर सहवाग, गौतम गंभीर, दिनेश कार्तिक, रॉबिन उथप्पा, रोहित शर्मा, यूसुफ पठान, हरभजन सिंह, आरपी सिंह, श्रीसंत ,इरफान पठान, अजीत अगरकर, पीयूष चावला और जोगिंदर शर्मा।

2007 में दक्षिण अफ्रीका में पहला टी20 वर्ल्ड कप हुआ था। फाइनल में भारत ने पाकिस्तान को हराते हुए खिताबी जीत दर्ज की थी। 2007 टी20 वर्ल्ड कप में भारतीय टीम की 15 सदस्यीय टीम से 14 खिलाड़ियों को खेलने का मौका मिला था। हालांकि लेग स्पिनर पीयूष चावला एक भी मैच नहीं खेल पाए और उन्हें पूरे टूर्नामेंट के दौरान बाहर ही बैठना पड़ा था।


1 / 6 NEXT
Published 24 Mar 2020, 09:23 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit