टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों के 10 अनचाहे रिकॉर्ड

क्रिकेट के खेल में आये दिन रिकॉर्ड बनते और टूटते रहते रहते हैं। पर कुछ ऐसे अनचाहे रिकॉर्ड भी बन जाते हैं जिससे सभी टीमें और खिलाड़ी बचना चाहते है। टी20 के खेल में ऐसे ही अनचाहे रिकॉर्ड स्टुअर्ट बिन्नी से लेकर स्टुअर्ट ब्रॉड के नाम दर्ज हैं जिससे वो पीछा छुड़ाना चाहते हैं।

इन रिकॉर्ड को सभी टीमें और खिलाड़ी चाहते हैं कि उनके नाम से हट किसी और के नाम पर चले जाएं।

आज हम आपको टी20 के ऐसे ही 10 अनचाहे कीर्तिमानों के बारे में बताएंगे

पारी में टीम का सबसे कम स्कोर

बांग्लादेश में हुए 2014 टी20 विश्वकप नीदरलैंड की टीम के लिए कुछ खास नहीं रहा। उन्होंने इस विश्वकप में किसी भी टीम द्वारा अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच में सबसे कम रन बनाने का कीर्तिमान बना डाला। श्रीलंका के खिलाफ हुए मैच में नीदरलैंड की टीम 10.3 ओवरों में 39 रनों पर ऑल आउट हो गयी।

नुवान कुलासेकरा ने पारी की तीसरी ही गेंद पर विकेट झटक लिया और उसके 10 ओवरों बाद ही पूरी नीदरलैंड की पारी सिमट गई। नीदरलैंड के 11 बल्लेबाजों में सिर्फ एक ही बल्लेबाज दहाई के आंकड़े को छू पाया जबकि 4 बल्लेबाज तो खाता भी नहीं खोल पायें।

श्रीलंका की टीम में इस लक्ष्य को सिर्फ 5 ओवरों में ही हासिल कर लिया और टी20 में सबसे कम गेंदों में लक्ष्य हासिल करने का कीर्तिमान भी स्थापित कर दिया।

नीदरलैंड की टीम के लिए एक ही अच्छी बात रही कि यह टी20 इतिहास का सबसे कम स्कोर नहीं है। यह रिकॉर्ड त्रिपुरा के नाम दर्ज है जो झारखंड के खिलाफ 2009 में 30 रनों पर ऑलआउट हो गयी थी।सबसे मंहगा ओवर

yu

टी20 का यह रिकॉर्ड इंग्लैंड के तेज गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के नाम दर्ज है और आज तक के अंतरराष्ट्रीय टी20 वही एकमात्र ऐसे गेंदबाज हैं जिनके एक ओवर की सभी 6 गेंदों पर छक्के लगे हैं। 2007 टी20 के एक मैच में युवराज सिंह ने डरबन के मैदान पर ब्रॉड की ओवर के सभी गेंदों को मैदान से बाहर मार दिया था और टी20 इतिहास का सबसे तेज अर्धशतक भी जमाया था।

भारतीय पारी के 19वें ओवर में जब ब्रॉड गेंदबाजी करने आये तो युवी ने उन्हें मिड विकेट, फाइन लेग, लॉन्ग ऑफ, पॉइंट और फिर मिड विकेट पर छक्का जड़कर युवी ने 6 छक्के की आस जगा दी।

सभी खेल प्रेमी उम्मीद कर रहे थे कि हर्शल गिब्स की तरह युवी भी ओवर की सभी गेंदों पर छक्का लगा देंगे और युवी ने ऐसा ही किया। ब्रॉड द्वारा आगे फेंकी गेंद को युवी ने एक बार फिर मिड विकेट सीमारेखा से बाहर भेजकर यह शर्मनाक रिकॉर्ड उनके नाम डाल दिया।

एक ऐसा मौका आया जब लगा कि भारत के स्टुअर्ट बिन्नी ब्रॉड की बराबरी कर लेंगे लेकिन उनकी इस ओवर में 32 रन ही बने।बल्लेबाज द्वारा सर्वाधिक शून्य का स्कोर

22

अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों की सूची में तीसरे क्रम पर रहने के बाबजूद सबसे ज्यादा शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड श्रीलंका के तिलकरत्ने दिलशान के नाम दर्ज है। दिलशान अपने टी20 अंतरराष्ट्रीय करियर में 10 बार शून्य पर आउट हुए हैं।

इसके अलावा लगातार मैचों में शून्य पर आउट होने का रिकॉर्ड 6 खिलाड़ियों के नाम दर्ज हैं। ये सभी खिलाड़ी लगातार 3 मैचों में शून्य के स्कोर पर आउट हुए हैं। सबसे पहले यह शर्मनाक रिकॉर्ड स्कॉटलैंड के विकेटकीपर बल्लेबाज कॉलिन स्मिथ के नाम दर्ज हुआ। वो नीदरलैंड, न्यूज़ीलैंड और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ लगातार 3 मैचों शुन्य का स्कोर बनाया।

इसके अलावा वेस्टइंडीज के आंद्रे फ्लेचर, पाकिस्तान के मोहम्मद हाफिज, ज़िम्बाब्वे के कायल जार्विस, इंग्लैंड के मोईन अली और श्रीलंका के दासुन शनाका भी यह शर्मनाक रिकॉर्ड दर्ज है।मैच में सर्वाधिक अतिरिक्त रन

df

टी20 अंतरराष्ट्रीय में एक मैच में सबसे ज्यादा अतिरिक्त रन बनने का कीर्तिमान 2007 विश्वकप के पहले मैच में बना। दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के बीच हुए इस मैच में 400 से ज्यादा रन बने जबकि क्रिस गेल ने शतक और हर्शल 90 रन बनाए। इस मैच में अतिरिक्त रन मैच में तीसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज जस्टिन कैम्प के 46 रनों से ठीक पीछे थी।

इस मैच में कुल 45 अतिरिक्त रन बने जिसमें दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों में 17 रन दिए जबकि वेस्टइंडीज के गेंदबाजों ने 28 दिए। इस मैच में कुल 35 वाइड गेंदे फेंकी गई, यह भी एक अंतरराष्ट्रीय टी20 मैच में सबसे ज्यादा है। इसके अलावा 2 नो बॉल और 8 लेग बाई गए।

एक पारी में सबसे ज्यादा अतिरिक्त रन भी दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के मैच में ही आये हैं। 2008 में जोहान्सबर्ग में खेले मैच में वेस्टइंडीज ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 131/7 का स्कोर बनाया। जिसमें दक्षिण अफ्रीका के गेंदबाजों ने सिर्फ 5 वाइड गेंदें फेंकीं लेकिन 15 रन बाई और 9 रन लेग बाई से बने और कुल 29 अतिरिक्त रन हो गए।

इस मैच में वेस्टइंडीज की तरफ से डैरेन ब्रावो ने सर्वाधिक 24 रन बनाए जो अतिरिक्त रनों से भी कम था। टी2प मैचों में ऐसे 3 ही मौके आएं है जब टीम का कोई बल्लेबाज भी अतिरिक्त से ज्यादा रन नहीं बना पाया।एक पारी में सर्वाधिक रन देने वाला गेंदबाज

bd

टी20 मैचों को बल्लेबाजों के खेल कहा जाता है लेकिन ऐसा नहीं है कि यहां कोई गेंदबाज सफल नहीं हो पाता। कई ऐसे गेंदबाज है जिनकी गेंदबाजी पर बल्लेबाज रन बनाने के लिए तरस जाते हैं लेकिन कई इनसे भी मौके होते हैं जब गेंदबाज टी20 मैचों में ही इतने रन दे देते है जितने एकदिवसीय मैचों के 10 ओवर में भी नहीं दे पाते।

टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में कुल 10 ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने पारी में 60 या उससे ज्यादा रन दिए है लेकिन एक मैच में सर्वाधिक रन देने का शर्मनाक रिकॉर्ड आयरलैंड के बैरी मैकार्थी के नाम दर्ज है। इस तेज गेंदबाज ने ग्रेटर नोएडा में हुए मैच में अफगानिस्तान के खिलाफ मैच में बिना कोई विकेट लिए 69 रन दिए।लगातार हार का कीर्तिमान

sdw

ज़िम्बाब्वे ने क्रिकेट इतिहास में कई बार बुरा दौर देखा है लेकिन सबसे बुरा दौर 2010 से 2013 के बीच रहा था। 3 मई 2010 से 3 मार्च 2013 के बीच ज़िम्बाब्वे को लगातार 16 अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों में हार का सामना करना पड़ा। यह टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में लगातार हार का रिकॉर्ड है।

ज़िम्बाब्वे की हार का यह दौर श्रीलंका के खिलाफ 14 रनों की हार के बाद शुरू हुआ जो करीब 3 सालों तक चला जबकि उसे अंतिम हार वेस्टइंडीज के खिलाफ मिली। इस दौरान ज़िम्बाब्वे को श्रीलंका, न्यूज़ीलैंड, भारत, दक्षिण अफ्रीका, पाकिस्तान और वेस्टइंडीज के हाथों हार झेलनी पड़ी।

अंतरराष्ट्रीय टी20 मैचों में भले 16 मैचों के यह रिकॉर्ड बहुत बड़ा लगता हो लेकिन टी20 मैच में लगातार हार रिकॉर्ड क्वेटा बियर्स के नाम दर्ज है जिसने 2005 से 2012 के बीच लगातार 27 हार झेली है।पारी में सबसे घटिया स्ट्राइक रेट

awe

टी20 मैचों के दूसरे नाम ही होता है तेजी से रन बनाना लेकिन कई मौकों पर बल्लेबाज इस बात को नहीं समझ पाते। इस रिकॉर्ड में उन्हीं बल्लेबाजों को लिया गया है जिन्होंने पारी में कम से कम 10 गेंदों का सामना किया है। कनाडा के संदीप ज्योति और हॉन्ग कॉन्ग के किंचित शाह ने क्रमशः 12 और 10 गेंद खेलने के बाद भी खाता नहीं खोला और उनका स्ट्राइक रेट 0 रह गया।

टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों की किसी भी पारी में रन बनाने के बाबजूद सबसे कम स्ट्राइक रेट का रिकॉर्ड न्यूज़ीलैंड के सलामी बल्लेबाज रॉब निकल के नाम दर्ज है। 2012 में श्रीलंका के खिलाफ कैंडी में हुए मैच में निकल में 12 गेंदों पर सिर्फ 1 रन ही बना पाए और शमीन्दा इरांगा का शिकार हो गए। इस पारी में उनका स्ट्राइक रेट 8.33 का था जो किसी भी बल्लेबाज जिसने अंतरराष्ट्रीय मैच में खाता खोला हो और 10 से ज्यादा गेंद खेले हो उसमें सबसे कम है। यह मैच बारिश के कारण रदद् हो गयी था। उनके अलावा टी20 अंतरराष्ट्रीय में 3 और ऐसे बल्लेबाज हैं जिनका स्ट्राइक रेट 10 से कम रहा है।एक पारी में सबसे कम रन रेट

run

टी20 मैचों में बल्लेबाज हमेशा अपना स्ट्राइक रेट बढाने की ओर देखता है जिससे उसकी टीम का रन रेट बेहतर बना रहे। हर बल्लेबाज कम से कम 140 या उससे ऊपर का स्ट्राइक रेट बनाये रखना चाहता है। पर जब यह रिकॉर्ड लोगों के सामने आता है कि एक टीम का रन रेट 4 से भी कम रहा हो तो काफी आश्चर्य होता है।

टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में अभी तक 12 ऐसे मौके आये हैं जब पारी खत्म होते समय किसी टीम का रन रेट 4 से नीचे का रहा हो।

पारी में सबसे कम रन रेट का रिकॉर्ड केन्या के नाम दर्ज है। अफगानिस्तान के खिलाफ हुए मैच में केन्या की टीम 18.4 ओवरों में 56 रनों पर ऑल आउट हो गयी। इस पारी में केन्या का रन रेट 3 का था जो टेस्ट मैचों से भी कम का है। शारजाह में खेले इस मैच में केन्या के सामने 163 का लक्ष्य था लेकिन वो यह मैच 106 रनों से हार गई।एक मैच में सबसे ज्यादा शून्य का स्कोर

aer

एक मैच में सर्वाधिक शून्य पर आउट होने वाले खिलाड़ियों की संख्या 8 है। जिस मैच में 40 ओवरों में 184 रन बने उस मैच में 8 खिलाड़ी खाता भी नहीं खोल पाए। वेस्टइंडीज और ज़िम्बाब्वे के बीच हुए इस मैच में ज़िम्बाब्वे के 6 बल्लेबाज खाता नहीं खोल पायें और यह भी टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में एक रिकॉर्ड ही है।

पोर्ट ऑफ स्पेन टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी ज़िम्बाब्वे की शुरुआत बेहद खराब रही और टीम का खाता खुलने से पहले ही 3 बल्लेबाज पवेलियन लौट गए। शुरू के 5 बल्लेबाजों में से वुसी सिबांडा, स्टुअर्ट मसिकेनयेरी, तातेंदा ताईबु और ब्रेंडम टेलर बिना खाता खोले पवेलियन लौट गए और पूरी पारी में सिर्फ 3 बल्लेबाजों ने ही दहाई का आंकड़ा पार किया और ज़िम्बाब्वे की टीम 105 के स्कोर तक पहुंच गई।

जवाब में बल्लेबाजी करने उतरी वेस्टइंडीज के आंद्रे फ्लेचर और डैरेन ब्रावो भी बिना खाता खोले आउट हो गए और शून्य पर आउट आउट होने वाले बल्लेबाजों की संख्या 8 हो गयी। इसके पारी वेस्टइंडीज की पारी 79/7 तक ही पहुंच पाई और ज़िम्बाब्वे में मैच अपने नाम कर लिया।पारी में सबसे घटिया इकॉनमी रेट

q

किसी भी मैच के एक पारी में किसी भी गेंदबाज ने कम से कम एक ओवर फेंका है तो उसमें सबसे घटिया इकॉनमी रेट स्टुअर्ट बिन्नी का है। बिन्नी का इकोनॉमी रेट 32 का है जो वेस्टइंडीज और भारत के बीच 2016 में अमेरिका में हुए टी20 अंतरराष्ट्रीय मैच में बना था।

इस मैच में करीब 500 रन बने जिसमें बिन्नी ने सिर्फ एक ओवरों डाला था जिसमें वेस्टइंडीज के सलामी बल्लेबाज एविन लुईस ने पहली 5 गेंदों पर 5 छक्के लगाए और अंतिम गेंद पर 2 रन बनाये। उसके बाद बिन्नी को कोई ओवर नहीं मिला और अंत मे भारत यह मैच भी हार गया।

टी20 अंतरराष्ट्रीय मैचों में जिमी नीशम और मोहम्मद शहजाद का इकॉनमी रेट 36 का रहा है लेकिन इन दोनों ने पारी में सिर्फ एक ही गेंद फेंक था जो छक्के के लिए सीमारेखा से बाहर चली गयी थी।

लेखक- श्रीहरि अनुवादक- ऋषिकेश सिंह

Edited by Staff Editor