Create

क्रिकेट इतिहास के 10 ऐसे महान टेस्ट बल्लेबाज़ जो वनडे में नाम के अनुरुप नहीं कर पाए प्रदर्शन

Himanshu Kothari

क्रिकेट में टेस्ट फॉर्मेट में सफल होने वाले क्रिकेटर को वनडे फॉर्मेट की तुलना में बेहतर खिलाड़ी माना जाता है। टेस्ट मैच में खिलाड़ी की तकनीक और स्वभाव का परीक्षण किया जाता है तो वहीं वनडे में पिच पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है। दूसरी ओर वनडे क्रिकेट जल्दी रन बटोरने के मामले में भी टेस्ट मैचों से आगे हैं। वनडे में किसी टीम और किसी खिलाड़ी से जल्दी रन बटोरने की उम्मीद की जाती है। क्रिकेट में ऐसे कई खिलाड़ी होंगे जो टेस्ट मैच में शानदार प्रदर्शन के लिए जाने जाते हैं तो वहीं कुछ ऐसे भी खिलाड़ी होंगे जो वनडे में शानदार खेल के लिए जाने हैं। इसके अलावा कुछ ऐसे खिलाड़ी भी होते हैं जो टेस्ट और वनडे दोनों में ही शानदार प्रदर्शन करने की हिम्मत रखते हैं। उदाहरण के तौर पर एलिस्टेयर कुक ने टेस्ट मैचों में शानदार प्रदर्शन किया तो वहीं वनडे मुकाबले में माइकल बेवन को अपने शानदार खेल के लिए जाना जाता है। इनके अलावा जब एकदिवसीय और टेस्ट दोनों ही मैचों में शानदार पारी खेलने की बात की जाए तो सचिन तेंदुलकर का नाम सबसे आगे है। आइए जानते हैं उन बल्लेबाजों के बारे में जिनकी टेस्ट क्रिकेट में औसत 40 से उपर रही लेकिन वनडे क्रिकेट में उनकी औसत 30 के आस पास घूमती रही: (यहां खिलाड़ियों के औसत को हमने पैमाना माना है)

#10 वीवीएस लक्ष्मण

वीवीएस लक्ष्मण भारतीय टेस्ट टीम के एक मुख्य सदस्य थे। उन्होंने टेस्ट मैचों में 45.97 की औसत से 8781 रन बनाए। इनमें 17 शतक भी शामिल हैं। कोलकाता के ईडन गार्डन्स में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेली गई 281 रनों की पारी उनके लिए काफी महत्वपूर्ण रही और बाद में ये पारी काफी यादगार बन गई। हालांति वनडे क्रिकेट में वीवीएस कुछ खास कमाल नहीं दिखा पाए। वनडे क्रिकेट में उन्होंने 30.76 की औसत से 2338 रन बनाए हैं। वीवीएस ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेलना काफी पसंद करते थे। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उन्होंने 739 रन बनाए हैं और इस दौरान उनकी औसत 46.18 रही।

#9 यूनिस खान

पाकिस्तान के यूनिस खान टेस्ट मैचों के एक मंझे हुए खिलाड़ी थे। टेस्ट मैचों में उनके आकंड़े पाकिस्तान की ओर से सबसे बेहतरीन हैं। यूनुस खान टेस्ट में 10,000 रन बनाने वाले एकमात्र पाकिस्तानी खिलाड़ी हैं। उन्होंने 52.05 की औसत से टेस्ट में 10,099 रन बनाए। इसमें उनके नाम 34 शतक भी शामिल हैं। टेस्ट मैचों की चौथी पारी में शानदार खेल दिखाने के लिए भी यूनिस खान जाने जाते हैं। टेस्ट मैचों की चौथी पारी में बल्लेबाजी करते हुए पूर्व पाकिस्तानी कप्तान ने 50.51 की औसत से 1465 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने पांच शतक भी लगाए हैं। वहीं दूसरी तरफ वनडे क्रिकेट में उनकी औसत 31.24 की रही है और उन्होंने 7249 रन बनाए हैं। हालांकि अपने वनडे करियर में उन्होंने 7 शतक भी लगाए हैं, टीम के लिए 7000 से ज्यादा रन बनाना अपने आप में उपलब्धि होती है लेकिन टेस्ट में उनके प्रदर्शन की तुलना में वनडे में उनका प्रदर्शन उतना बेहतर नहीं है।

#8 महेला जयवर्धने

श्रीलंका के महेला जयवर्धने उन कुछ खिलाड़ियों में से एक है, जिन्होंने टेस्ट और वनडे दोनों में 10,000 रन स्कोर किए हैं। टेस्ट मैचों में महेला जयवर्धने ने 49.84 की औसत से 11,814 रन स्कोर किए। इस दौरान उन्होंने 34 शतक भी लगाए। जुलाई 2006 में कोलंबो में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 374 रन बनाने के अलावा उन्होंने छह दोहरे शतक भी लगाए हैं। वहीं वनडे में उन्होंने 33.37 की औसत से 12650 रन बनाए हैं। वनडे में उन्होंने 1 से लेकर 9 नंबर तक सभी क्रम पर बल्लेबाजी की है। हालांकि चौथे नंबर पर बल्लेबाजी करने पर महेला जयवर्धने ज्यादा प्रभावी रहते थे। नंबर चार पर बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 35.08 की औसत से 6947 रन स्कोर किए।

#7 सनथ जयसूर्या

श्रीलंका के सनथ जयसूर्या वनडे इतिहास में महान आलराउंडर के तौर पर भी जाने जाते हैं। वनडे करियर में सनथ जयसूर्या ने 32.36 की औसत और 91.20 की स्ट्राइक रेट से 13,430 रन बनाए हैं। इसके अलावा गेंदबाजी से कमाल दिखाते हुए उन्होंने 323 विकेट भी अपने नाम किए हैं। रोमेश कालुविथराना के साथ मिलकर उन्होंने साल 1996 के विश्व कप में शानदार खेल दिखाया, जिसकी बदौलत श्रीलंका ने 1996 का विश्व कप भी अपने नाम किया। हालांकि वनडे से इतर टेस्ट में उनकी औसत ज्यादा रही। टेस्ट करियर में उन्होंने 40.07 की औसत से 6973 रन बनाए, जिसमें 14 शतक भी शामिल हैं। उन्होंने अगस्त 1997 में कोलंबो में भारत के खिलाफ 340 रनों की पारी खेली थी, इस मैच में श्रीलंका ने रिकॉर्ड 6 विकेट के नुकसान पर 952 रन बनाए थे।

#6 स्टीव वॉ

स्टीव वॉ ऑस्ट्रेलिया के महानतम कप्तानों में से एक है। 1999 में विश्व कप जीतने वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम का नेतृत्व भी स्टीव वॉ ने किया था। वहीं टेस्ट मैचों शानदार प्रदर्शन करते हुए में स्टीव वॉ ने 51.06 की औसत से 10,927 रन बनाए हैं। इसमें 32 शतक भी शामिल हैं। टेस्ट मैचों में नंबर 6 पर बल्लेबाजी करते हुए इस दाएं हाथ के बल्लेबाज ने अपने करियर के सबसे ज्यादा 6754 रन बनाए हैं। इस दौरान इनकी औसत 56.28 की रही। दूसरी तरफ वनडे में स्टीव वॉ की औसत 32.90 की रही और इस औसत से बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने वनडे में 7569 रन बनाए हैं। वनडे में स्टीव वॉ महज 3 शतक ही बना पाने में सफल हो पाए हैं।

#5 जस्टिन लैंगर

जस्टिन लैंगर ने ऑस्ट्रेलिया के लिए 105 टेस्ट मैच खेले और 45.27 की औसत से 7696 रन बनाए। उन्होंने 23 शतकों के साथ ही टेस्ट मैचों में 30 अर्धशतक भी लगाए। हालांकि बाएं हाथ के बल्लेबाज टीम के एक प्रमुख सलामी बल्लेबाज के तौर पर अपनी पहचान रखते थे लेकिन वनडे मैचों में वो अपना कमाल नहीं दिखा पाए। उन्होंने सिर्फ 8 वनडे खेले हैं क्योंकि वनडे के लिए ऑस्ट्रेलिया के पास मार्क वॉ, एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडन जैसे बल्लेबाज मौजूद थे। उन्होंने 1994 में अपने एकदिवसीय करियर की शुरुआत की और साल 1997 में अपना आखिरी वनडे मैच खेला। इस दौरान उन्होंने अपने करियर में 32 की औसत से केवल 160 रन बनाए।

#4 मोहिंदर अमरनाथ

मोहिंदर अमरनाथ 1983 के क्रिकेट विश्व कप जीत में भारत के लिए शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ियों में एक थे। साल 1983 में भारतीय टीम ने क्रिकेट विश्व कप को अपने नाम किया था। इस विश्व कप के सेमीफाइनल और फाइनल मुकाबले में मोहिन्दर अमरनाथ मैन ऑफ द मैच बने थे। इसके अलावा टेस्ट मैचों के भी वो शानदार खिलाड़ी थे। टेस्ट मैचों में उन्होंने 42.50 की औसत से 4378 रन बनाए। जिसमें 11 शतक भी शामिल हैं। उन्होंने घरेलू मैदानों के बाहर अच्छे प्रदर्शन किया है। विदेशी जमीन पर खेलते हुए उन्होंने 51.86 की शानदार औसत से 3008 रन बनाए हैं। वहीं वनडे करियर में मोहिंदर अमरनाथ ने 30.53 की औसत से 1924 रन बनाए। अपने वनडे करियर में मोहिंदर अमरनाथ ने 85 मैचों में टीम के लिए मैदान पर प्रदर्शन किया और महज दो शतक लगाने में ही कामयाबी हासिल की है।

#3 एलन बॉर्डर

ऑस्ट्रेलिया के एलन बॉर्डर ने टेस्ट मैचों में 50.56 की औसत से 11,174 रन बनाए हैं। इस दौरान उन्होंने टेस्ट मैचों में 27 शतक और 63 अर्धशतक भी अपने नाम किए। उन्होंने कई वर्षों तक क्रिकेट के लंबे प्रारूप में सबसे ज्यादा रन बनाने का विश्व रिकॉर्ड भी अपने नाम रखा लेकिन बाद में ब्रायन लारा ने इसे तोड़ दिया। टेस्ट करियर के अलावा वनडे करियर में बॉर्डर ने 273 मैच खेले और 30.62 की औसत से 6,524 रन बनाए। वनडे करियर में इतने मैच खेलने के बावजूद एलन बॉर्डर सिर्फ तीन शतक ही लगा पाए।

#2 डेरिल कलिनन

1990 के शुरुआती मध्य सालों में दक्षिण अफ्रीका की बल्लेबाजी क्रम में डेरिल कलिनन एक महत्वपूर्व स्थान रखते थे। टेस्ट मैचों में बल्लेबाजी करते हुए उन्होंने 44.21 की औसत से 4554 रन बनाए। इसमें उन्होंने 14 शतक भी लगाए। वहीं 1999 में ऑकलैंड में न्यूजीलैंड के खिलाफ उन्होंने नाबाद 273 रनों की पारी खेली थी। वनडे में उन्होंने 32.99 की औसत से 3860 रन बनाए। उन्होंने अपने 7 साल के करियर में 3 शतक और 20 अर्धशतक वनडे में लगाए।

#1 मार्क टेलर

मार्क टेलर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और सलामी बल्लेबाज थे। उन्होंने टेस्ट में 43.49 की औसत से 7525 रन बनाए। इसमें उन्होंने 19 शतक भी लगाए। वहीं वनडे मैचों में उनका करियर कुछ खास नहीं रहा। वनडे में उन्होंने 32.23 की औसत से 3514 रन बनाए। इसके साथ ही उनकी वनडे मैचों में 59.46 की स्ट्राइक रेट रही है। शतकों मामले में वनडे में मार्क टेलर सिर्फ एक शतक लगाने में ही कामयाब हो सके हैं। लेखक: टेविन जोसेफ़ अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...