Create
Notifications

दो पूर्व भारतीय कप्तान जिनका आखिरी मैच काफी यादगार रहा

सौरव गांगुली
सौरव गांगुली
SENIOR ANALYST
Modified 16 Jul 2020
टॉप 5 / टॉप 10

कोई भी खिलाड़ी जब क्रिकेट खेलना शुरु करता है तो उसकी सबसे बड़ी ख्वाहिश यही होती है कि वो एक दिन अपने देश का प्रतिनिधित्व करे। इनमें से कुछ खुशनसीब खिलाड़ियों को ये मौका मिल जाता है लेकिन कुछ प्लेयर्स को ये मौका नहीं मिलता है। 

फैंस अपने पसंदीदा खिलाड़ियों को हमेशा खेलते हुए देखना चाहते हैं लेकिन एक ना एक दिन इन दिग्गजों को भी संन्यास लेना पड़ता है और जब ये क्रिकेट को अलविदा कहते हैं तो वो पल फैंस और क्रिकेटर्स दोनों के लिए काफी इमोशनल होता है। हम आपको भारतीय टीम के उन 2 कप्तानों के बारे में बताएंगे जिन्होंने अपने करियर में कई रिकॉर्ड बनाए लेकिन एक दिन उन्हें भी संन्यास लेना पड़ा। हालांकि उनका जो आखिरी मुकाबला रहा, वो काफी यादगार रहा।

ये भी पढ़ें: एक वनडे सीरीज में 10 विकेट और 250 से ज्यादा रन बनाने वाले 3 भारतीय खिलाड़ी

2.सौरव गांगुली

सौरव गांगुली
सौरव गांगुली

सौरव गांगुली ने 6 नवंबर को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ नागपुर में एम एस धोनी की कप्तानी में अपना आखिरी टेस्ट मुकाबला खेला। उस वक्त गांगुली के सम्मान में धोनी ने उनको आखिर के कुछ ओवरों में कप्तानी करने के लिए कहा और गांगुली ने भी उसका पूरा मान रखा। सौरव गांगुली ने अपने आखिरी मुकाबले में 85 रन बनाए और भारत ने ऑस्ट्रेलिया से वो मैच 172 रनों से जीता। मैच के बाद पूरी टीम ने अपने फेवरिट कप्तान को कंधों पर बैठा लिया और उस सम्मान के साथ उनको विदाई दी, जो सम्मान गांगुली ने भारतीय टीम को इतने सालों तक दिलाया था। वाकई में कह सकते हैं कि सौरव गांगुली के उस विदाई टेस्ट मैच को हमेशा याद रखा जाएगा।

ये भी पढ़ें: 4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में बिना शतक लगाए सबसे ज्यादा रन बनाए हैं

1 / 2 NEXT
Published 16 Jul 2020
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now