Create

2 ऐसे उदाहरण जब प्रशंसकों ने महज छोटी सी बात पर भारतीय क्रिकेटरों का किया विरोध

India v England: Group B - 2011 ICC World Cup
India v England: Group B - 2011 ICC World Cup

भारत में क्रिकेट एक धर्म है, यहां हर एक इंसान के रग-रग में क्रिकेट बसा हुआ है। यहां के लोग जितना खेल में रुचि लेते हैं उतना ही क्रिकेटरों के निजी जीवन के बारे में भी जानने को उत्सुक रहते हैं। इसके लिए सोशल मीडिया उनके लिए सबसे बड़ा प्लेटफॉर्म है, जिससे वो क्रिकेटरों से जुड़े रह सकते हैं और बातचीत कर सकते हैं। कहा जाता है कि हर चीज की एक सीमा होती है। इंसान को उस सीमा को पार करने की कोशिश कभी नहीं करनी चाहिए। लेकिन भारतीय क्रिकेट प्रशंसकों को इन सब चीजों की कोई परवाह नहीं होती वो छोटी सी छोटी बात के लिए भी क्रिकेटरों की तारीफ और उनकी आलोचना करने में पीछे नहीं हटते हैं।

ये स्थिति तब और बुरी हो जाती है जब सोशल मीडिया के जरिए फैंस क्रिकेटरों के निजी जीवन के बारे में अपनी राय देने लगते हैं। कई भारतीय क्रिकेटर इसका शिकार हो चुके हैं। आइए आपको बताते हैं ऐसी ही 2 घटनाओं के बारे में।

2 ऐसे उदाहरण जब प्रशंसकों ने महज छोटी सी बात पर भारतीय क्रिकेटरों का किया विरोध

1. बर्थडे ट्वीट को लेकर हरभजन सिंह को लोगों के गुस्से का शिकार होना पड़ा था

India v England: Group B - 2011 ICC World Cup
India v England: Group B - 2011 ICC World Cup

हरभजन सिंह भारत के सबसे बेहतरीन स्पिनरों में से एक रहे हैं। वहीं हरभजन सिंह सोशल मीडिया पर भी खूब सक्रिय रहते हैं और लगातार अपने प्रशंसकों और साथी क्रिकेटरों से बातचीत करने में मशगूल रहते हैं। 2016 में उन्होंने भारतीय टीम के विकेटकीपर बल्लेबाज ऋद्धिमान साहा को ट्वीट कर जन्मदिन की बधाई दी थी और उन्हें दुनिया का बेस्ट विकेटकीपर बताया था।

हरभजन सिंह यहां अपनी खुद की पसंद बता रहे थे, लेकिन प्रशंसकों को ये हजम नहीं हुआ। खासकर धोनी के चाहने वालों को ये बात ज्यादा चुभ गई। सबको लगा कि हरभजन सिंह, धोनी का अपमान कर रहे हैं। उन सबकी नजरों में धोनी दुनिया के सबसे बेहतरीन विकेटकीपर थे।

2. बायोपिक्स पर अपनी राय रखने के लिए गौतम गंभीर को निशाना बनाया गया

गौतम गंभीर के एक ट्वीट पर हुआ था बवाल
गौतम गंभीर के एक ट्वीट पर हुआ था बवाल

गौतम गंभीर को उस वक्त सोशल मीडिया पर एम एस धोनी के प्रशंसकों के गुस्से का शिकार होना पड़ा जब उन्होंने एक मुद्दे पर अपनी राय रखनी चाही। बाएं हाथ के इस सलामी बल्लेबाज ने बस इतना कहा था कि क्रिकेटरों की बजाय देश के लिए अपनी जान न्यौछावर करने वाले वीर जवानों के ऊपर अगर बायोपिक फिल्में बनें तो ज्यादा अच्छा होगा।

उनका ये ट्टीट उरी में हुए आतंकी हमले के बाद आया था और ठीक उसी समय कप्तान धोनी की जिंदगी पर बनी बायोपिक फिल्म 'एम एस धोनी-द अनटोल्ड स्टोरी' रिलीज होने वाली थी। फिर क्या था, गंभीर के इस ट्वीट पर धोनी के प्रशंसक भड़क गए और ट्विटर उनके ट्वीट की आलोचना करने लगे। हालांकि बाद में गंभीर ने अपने ट्वीट के बारे में स्पष्टीकरण भी दिया लेकिन तब तक काफी देर हो चुकी थी।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता
3 comments