Create
Notifications

साल 2008 अंडर-19 वर्ल्डकप जीतने वाली भारतीय टीम: आजकल कहाँ हैं सभी खिलाड़ी?

Modified 24 Jan 2017
जब भारतीय टीम धोनी की कप्तानी में साल 2008 में सीबी सीरिज जीतकर इतिहास रच रही थी, तब उसी दौरान विराट कोहली की कप्तानी में भारतीय अंडर-19 टीम मलेशिया में हुए वर्ल्डकप का ख़िताब जीतकर देश का नाम रोशन कर रही थी। इस टूर्नामेंट में भाग लेने वाले खिलाड़ियों के लिए ये टूर्नामेंट बड़ा टर्निंग पॉइंट बना। जिसमें कई खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खुद को स्थापित किया, कुछ असफल रहे और कुछ क्रिकेट को मैनेजमेंट और इनकम टैक्स ऑफिसर के तौर पर काम करना शुरू कर दिया है। साल 2008 में अंडर-19 टीम के सदस्य अब क्या कर रहे हैं आइये डालते हैं एक नजर: विराट कोहली साल 2008 की विश्व विजेता अंडर-19 टीम की कप्तानी विराट कोहली ने की थी। आज विराट भारतीय क्रिकेट के बड़े नाम हैं। 5 महीने बाद अगस्त 2008 में श्रीलंका के खिलाफ विराट को खेलने का मौका मिला था। दायें हाथ के इस बल्लेबाज़ ने अपने करियर की शुरुआत अच्छी की लेकिन उसके बाद एक साल तक वह टीम से बाहर रहे। साल 2009 में दिल्ली के लिए उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया जिसके बदौलत साल के आखिर तक उन्हें भारतीय टीम में दोबारा मौका मिला। विराट रन बनाते रहे और साल 2011 के वर्ल्ड कप विजेता टीम के हिस्सा रहे। इसी साल विराट ने टेस्ट में डेब्यू किया। शुरू में वह कई सीरिज में अच्छा नहीं खेले लेकिन साल 2012 में एडिलेड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शतक बनाकर विराट ने खुद को साबित किया। उसके बाद दुनिया ने एक अलग ही विराट कोहली देखा। विराट ने भी उसके बाद पीछे पलटकर नहीं देखा। आज वह अपनी पीढ़ी के सबसे होनहार बल्लेबाज़ हैं। साल 2014 में विराट भारतीय टेस्ट टीम के कप्तान और साल 2015-16 में उन्होंने शानदार प्रदर्शन करते हुए सभी फॉर्मेट में शतक भी बनाया। आज बिना किसी बहस के विराट दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक हैं। साल 2017 के पहले हफ्ते में धोनी ने सीमित ओवर के प्रारूप से भी कप्तानी छोड़ दी। जिसके बाद विराट कोहली को भारतीय टीम का कप्तान सभी प्रारूप बना दिया गया। रविन्द्र जडेजा
रविन्द्र जडेजा साल 2008 की अंडर 19 के सदस्य थे। वह उस वक्त सबसे अनुभवी खिलाड़ी थे, वह 2006 के संस्करण में भी खेले थे। बतौर उपकप्तान खेलने वाले जडेजा को बल्लेबाज़ी का मौका कम मिला था लेकिन भारत के सबसे सफल गेंदबाज़ बने उन्हें 10 विकेट मिले थे। उसके बाद जडेजा ने आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेले थे। जहां उनके कप्तान-कोच शेन वार्न ने उनकी प्रतिभा की तारीफ की थी। वह उन्हें रॉकस्टार कहते थे। 2 दिन के गैप में साल 2009 में जडेजा ने वनडे और टी-20 में श्रीलंका के दौरे पर अपना डेब्यू किया था। उनके प्रदर्शन में निरन्तरता की कमी के चलते और बतौर आलराउंडर उनकी असफलता की वजह से उन्हें आलोचना भी झेलनी पड़ी। लेकिन साल 2013 में आईसीसी चैंपियंस ट्राफी में विजेता भारतीय टीम के सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज़ बने थे। मौजूदा समय में जडेजा भारतीय टीम के अहम सदस्य हैं और कप्तान के लिए सभी फॉर्मेट में चहेते गेंदबाज़ हैं। तन्मय श्रीवास्तव हैरानी की बात है अंडर 19 वर्ल्डकप 2008 में तन्मय कप्तान विराट कोहली से भी ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज़ थे। वास्तव में वह टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे। 6 मैचों में 52 के औसत से तन्मय ने 262 रन बनाये थे। तन्मय काफी प्रतिभावान खिलाड़ी थे लेकिन बड़े स्तर पर वह मौका नहीं पा सके। वर्तमान समय में वह यूपी की तरफ से खेलते हैं।
1 / 3 NEXT
Published 24 Jan 2017
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now