Create
Notifications

2016 में भारतीय खिलाड़ियों की वनडे रेटिंग

SENIOR ANALYST
Modified 17 Dec 2016
ज्यादा टी-20 मैचों के कारण वनडे मैच 2016 में कम ही हुए। टेस्ट मैचों की फिर से बढ़ती लोकप्रियता और ज्यादा टी-20 मैच होने के कारण वनडे मैच अपनी महत्ता खोता जा रहा है। आंकड़े भी इस बात की गवाही देते हैं, भारत ने इस साल 20 टी-20 मैच खेले हैं, लेकिन वनडे मैच सिर्फ 13, जिसमें से 7 जीते हैं और 6 मैचों में हार मिली है। साल की शुरुआत में ही भारत को ऑस्ट्रेलिया से वनडे मैचों में हार मिली, लेकिन टी-20 सीरीज में जीत के कारण उस हार को भुला दिया गया। ज़िम्बाब्वे के खिलाफ 3 मैचों की सीरीज जीत भारत ने वापसी की और आखिर में न्यूजीलैंड को घरेलू सीरीज में कांटे की टक्कर में मात दी। टेस्ट मैचों से संन्यास ले चुके धोनी वनडे और टी-20 मैचों में कप्तानी अच्छी कर रहे हैं। लेकिन उनका खुद का प्रदर्शन कुछ खास नहीं रहा है। आइए आपको बताते हैं भारतीय बल्लेबाजों का इस साल वनडे मैचों में कैसा प्रदर्शन रहा। विराट कोहली 9/10 बिना किसी शक के साल 2016 विराट कोहली का साल रहा है। कोहली एकदम अलग तरह की बल्लेबाजी करते हैं। गेंदबाज कोई भी हो कोहली को कोई फर्क नहीं पड़ता, वो मैदान के हर कोने में शॉट लगाते हैं। इस साल कोहली ने ना केवल वनडे बल्कि टी-20 और टेस्ट मैचों में भी शानदार प्रदर्शन किया। इस साल 10 वनडे मैचों में कोहली ने 92.37 की औसत से 739 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 3 शतक और 4 अर्धशतक जड़ा। जिम्बॉब्वे के खिलाफ 3 मैचों की वनडे सीरीज में कोहली को आराम दिया गया नहीं तो उनका इस साल का रिकॉर्ड और बेहतर होता। रोहित शर्मा 8.5/10 न्यूजीलैंड के खिलाफ 5 मैचों की वनडे सीरीज के बाद रोहित शर्मा चोट के कारण नहीं खेल पाए , लेकिन बाकी के साल उनके बल्ले ने खूब रन उगले हैं। इस साल 10 वनडे मैचों में उनका बैटिंग औसत 63 रहा है। ज़िम्बाब्वे के दौरे पर उन्हें आराम दिया गया था। शिखर धवन 8/10 सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के लिए भी ये साल ठीक-ठाक रहा है।  रोहित शर्मा के साथ मिलकर धवन ने कई मैचों में भारतीय टीम को ठोस शुरुआत दिलाई। बिना किसी हो-हल्ले के धवन दूसरे छोर से टीम के लिए उपयोगी पारियां खेलते रहे। इसी तरह आईपीएल में भी डेविड वॉर्नर का उन्होंने बखूबी साथ दिया। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 5 मैचों की सीरीज में धवन ने 2 अर्धशतक और कैनबरा वनडे में एक शतकीय पारी खेली। चोट के कारण धवन जिम्बॉब्वे और न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज नहीं खेल सके। अंजिक्य रहाणे 6.5/10 वनडे मैचों में अंजिक्य रहाणे का प्रदर्शन इस साल निराशाजनक रहा है। खासकर न्यूजीलैंड के खिलाफ सीरीज में उनके बल्ले से बिल्कुल भी रन नहीं निकले। रहाणे 5 मैचों में केवल एक बार 50 से ज्यादा रन बना सके। वहीं एक्सपर्ट्स का मानना था कि रहाणे के बैटिंग ऑर्डर में बहुत ज्यादा बदलाव किए गए, जिसकी वजह से उनकी बल्लेबाजी प्रभावित हुई। इस साल 9 वनडे मैचों में रहाणे 35.50 की औसत से महज 284 रन ही बना सके। इस साल उनके नाम 3 अर्धशतक हैं। महेंद्र सिंह धोनी 7/10
टेस्ट मैचों से संन्यास लेने के बावजूद इस साल वनडे मैचों में धोनी का प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। धोनी ने इस साल 13 वनडे और 21 टी-20 मैच खेले, लेकिन उनके बल्ले से ज्यादा रन नहीं निकले। इस साल भारत के सबसे सफल कप्तान का वनडे औसत महज 27.80 रहा, जो कि उनके ओवरऑल करियर औसत से भी कम है। किसी-किसी मैच में धोनी की विकेटकीपिंग भी उतनी अच्छी नहीं रही। हालांकि धोनी ने कई मैचों में इस साल बेहतरीन विकेटकीपिंग की। धोनी ने विकेट के पीछे बेहतरीन स्टंपिंग, बेहतरीन कैच और अपने प्रजेंस ऑफ माइंड की से बेहतरीन रन आउट किए। मनीष पांडेय 6.5/10 मनीष पांडेय आईपीएल में शतक लगाने वाले पहले भारतीय बल्लेबाज हैं। लेकिन साल 2009 के बाद आईपीएल में उनका प्रदर्शन गिरता गया। हालांकि इसका उनके क्रिकेट करियर पर कोई असर नहीं पड़ा और उन्हें भारतीय वनडे और टी-20 टीम में जगह मिल गई। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ विपरीत परिस्थियों में मैच जिताऊ शतक लगाकर पांडेय ने दिखा दिया कि उनके अंदर प्रतिभा की कमी नहीं है। लेकिन इसके बाद उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अगर 104 रन को छोड़ दें तो मनीष पांडेय अगली 7 पारियों में केवल 86 रन ही बना सके। भारतीय टीम को जब उनकी बल्लेबाजी की सबसे ज्यादा जरुरत थी, तब-तब वो गलत शॉट खेलकर आउट हो गए। इसकी वजह से उनका औसत इस साल बढ़िया नहीं रहा। अब देखना ये है कि अगले सीजन के लिए उनको टीम में चुना जाता है कि नहीं।
1 / 3 NEXT
Published 17 Dec 2016
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now