Create
Notifications

 3 भारतीय बल्लेबाज जिन्हें नम्बर चार पर खुद को साबित करने के लिए अधिक मौके मिलने चाहिए

Eसई
Ankit Pasbola
visit

आईसीसी विश्व कप 2019 तीस मई को इंग्लैण्ड में शुरू होना है, और सभी टीमें अपने सही संयोजन खोजने के लिए काफी पसीना बहा रही है। भारत और इंग्लैंड की टीमें टूर्नामेंट में सबसे पसंदीदा मानी जा रही है,लेकिन अन्य 8 टीमें भी कम नहीं हैं। गत चैंपियन ऑस्ट्रेलिया अपना पहला मैच 3 जून को अफगानिस्तान के खिलाफ खेलेगी।

भारतीय टीम भी अपने बल्लेबाजी और गेंदबाजी में अपने विकल्पों को आजमा के देख रही है ताकि विश्वकप के लिए सही टीम का चुनाव किया जा सके। टीम के लिए परेशानी का सबब नम्बर चार बना हुआ है।

भारत ने 2015 विश्व कप के बाद से इस स्थान के लिए 10 से अधिक खिलाड़ियों आजमाया है, लेकिन अभी तक कोई पुख्ता विकल्प नहीं मिला है। हाल ही में रायुडू को नम्बर चार पर आजमाके देखा था, लेकिन उनसे अपेक्षित परिणाम नहीं मिल पाए। विश्वकप के लिए 3 महीने से भी कम समय हैं, लेकिन टीम नंबर 4 स्थान के लिए एक बल्लेबाज को खोजने में विफल रही है।

आइये नजर डालते हैं उन तीन बल्लेबाजों पर जो नम्बर चार के लिए उपयुक्त विकल्प हो सकते हैं, बस आवश्यकता है उन्हें कुछ मौके दिए जाएं-

#1 अजिंक्य रहाणे

A

अजिंक्य रहाणे भारतीय टीम के भरोसेमंद बल्लेबाज के रूप में जाने जाते हैं। टेस्ट में भारत के उप-कप्तान रहाणे ने आखिरी बार फरवरी 2018 में एकदिवसीय मैच खेला था। कप्तान विराट कोहली ने कहा था कि टीम प्रबंधन उन्हें संभावित नंबर 4 के रूप में देख रहा है, लेकिन दक्षिण अफ्रीका के दौरे के बाद से वह टीम से बाहर हैं।

दायें हाथ के बल्लेबाज ने अब तक 90 एकदिवसीय मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने 35.26 की औसत व 78.63 के स्ट्राइक रेट से 2962 रन बनाए हैं। उन्होंने अपने पिछले तीन वर्षों में 41.38 की औसत से रन बनाए है।

Hindi Cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं।

#2 श्रेयस अय्यर

ECBवी

2017 में श्रीलंका के भारत दौरे के लिए विराट कोहली के विकल्प के रूप में श्रेयस ने अपने अवसर का पूरा उपयोग किया। 3 मैचों की श्रृंखला में उन्होंने 162 रन बनाए, जिसमें 2 अर्धशतक भी शामिल थे। यह काफी हद तक ऐसा लग रहा था कि वह नंबर 4 स्थान के लिए सही खिलाड़ी हो सकते हैं।

युवा बल्लेबाज अय्यर को दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ एक और मौका दिया गया हालाँकि, उस सीरीज़ में चीजें उनके लिए अच्छी नहीं रहीं। वह 2 पारियों में केवल 42 रन ही बना सके और उस श्रृंखला के तुरंत बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। उसके बाद से उन्हें लगातार अनदेखा किया गया।

आईपीएल में भी उनका शानदार प्रदर्शन रहा, जहां उन्होंने 11 पारियों में 411 रन बनाए, जिसमें 4 अर्धशतक भी शामिल थे। उनके लिए सबसे अच्छी बात यह थी कि कप्तानी की भूमिका के बावजूद भी उनका प्रदर्शन प्रभावित नहीं हुआ था।

#3 मयंक अग्रवाल

Australव

मयंक अग्रवाल बेहद प्रतिभाशाली खिलाड़ी हैं। वह कर्नाटक के साथ-साथ भारत-ए के सबसे बड़े घरेलू खिलाड़ियों में से एक रहे हैं। उन्होंने कर्नाटक के लिए 73 मैचों में 3372 रन बनाए हैं, इसके अलावा उन्होंने अब तक खेले गए 70 इंडिया-ए मैचों में 3472 रन बनाए हैं। 2017-18 के घरेलू सत्र में उन्होंने 2141 रन बनाए और सीजन के शीर्ष स्कोरर रहे थे।

लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के बाद मयंक को विंडीज़ के खिलाफ टीम में चुना गया, हालाँकि उन्हें कोई भी मैच खेलने को नहीं मिला। उन्हें मेलबर्न में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ तीसरे टेस्ट में अपना पहला मौका मिला और उन्होंने क्रमशः पहली और दूसरी पारी में 76 और 42 रन बनाए, उन्होंने टीम में अपने चयन को सही साबित किया। उनकी आक्रामक बल्लेबाजी उन्हें खास खिलाड़ी बनाती है।

हालांकि, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड के खिलाफ सीमित ओवरों के मुकाबलों के लिए उन्हें भारत की टीम में नहीं चुना गया था। उन्होंने अपनी 3 टेस्ट पारियों में स्पष्ट रूप से साबित कर दिया कि वह भारतीय क्रिकेट का भविष्य है।

Hindi cricket News, सभी मैच के क्रिकेट स्कोर, लाइव अपडेट, हाइलाइट्स और न्यूज़ स्पोर्ट्सकीड़ा पर पाएं

Edited by Naveen Sharma
Article image

Go to article

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now