Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

टी-20 क्रिकेट में इन तीन बड़े बदलावों से और भी बढ़ जाएगा खेल का रोमांच

Modified 26 Feb 2018, 07:43 IST
Advertisement

ज़्यादातर लोग टी-20 क्रिकेट को सिर्फ़ रनों की तेज़ रफ़्तार और चौकों-छक्कों की बारिश से जोड़कर देखते हैं, जबकि यह भी क्रिकेट का ही एक प्रारूप है और इसलिए वनडे और टेस्ट की तरह ही बल्ले और गेंद के बीच की स्वाभाविक लड़ाई होती है। 200 रनों का स्कोर तो अब टी-20 के खेल में आम हो चुका है, जो संकेत है कि धीरे-धीरे टी-20 में बल्लेबाज़ों की भूमिका गेंदबाज़ों पर हावी होती जा रही है और अब यह दो बल्लेबाज़ों के बीच की प्रतियोगिता बनकर रह गया है। इन बातों को ध्यान में रखते हुए हम ऐसे तीन संभावित बदलावों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं, जो इस प्रारूप में गेंदबाजों की अहमियत को बढ़ाने में मददगार साबित हो सकते हैं:

#1 विकेटों की संख्या हो जाए आधी

10 मौके, यानी बल्लेबाज़ी करने वाली टीम के हाथों में 10 विकेट। 20 ओवरों में इतने मौके, गेंदबाज़ों के उपर भारी साबित होते हैं। ज़्यादातर टीमों के बैटिंग स्कॉयड में धुरंधर बल्लेबाज़ों की भरमार है। साथ ही, जिस तरह की पिचों पर टी-20 मैच खेले जा रहे हैं, उनपर अंतरराष्ट्रीय स्तर के बल्लेबाज़ों के विकेट लेना गेंदबाज़ों के लिए सहज साबित नहीं हो रहा। अगर इन विकेटों की संख्या को 5 या 6 तक सीमित कर दिया जाए तो गेंदबाज़ों का क़द कुछ बढ़ जाएगा और बल्लेबाज़ी करने वाली टीम पर दबाव बनेगा क्योंकि उनके पास ग़लतियां करने के मौके कुछ कम हो जाएंगे। यह स्थिति कुछ 'सुपर ओवर' जैसी हो सकती है, जिसमें बैटिंग टीम के हाथ में सिर्फ 2 मौके होते हैं।
1 / 3 NEXT
Published 26 Feb 2018, 07:43 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit