Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 क्रिकेट अम्पायर जिन्हें भारतीय फैन्स नापसंद करते हैं

  • इनकी खराब अम्पायरिंग की वजह से भारतीय टीम को कई बार मैच में हार का सामना करना पड़ा है
ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
Modified 20 Dec 2019, 19:42 IST

Enter caption

क्रिकेट के मैदान पर अम्पायर का निर्णय सर्वमान्य होता है। उन्हें चंद सेकंड के समय में कोई निर्णय लेना होता है। ऐसे में कई बार फैसले बल्लेबाज के खिलाफ जाते हैं। आलोचनाएं होती है और उन्हें अगले मैच से हटाने की मांग तक होते हुए देखा गया है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में ऐसा बहुत बार देखने को मिला है। भारतीय टीम और खिलाड़ी खराब अम्पायरिंग के शिकार बहुत बार हुए हैं। इनमें एक बार ऐसा भी हुआ कि खराब अम्पायरिंग के कारण भारत को ड्रॉ होने जा रहे टेस्ट मैच में शिकस्त का सामना करना पड़ा।

तकनीक आने से खराब निर्णयों में कमी आई है। कई ऐसे मामले भी हैं जहां तकनीक का इस्तेमाल किये बिना अम्पायर खराब निर्णय देते हुए दिखे हैं। ऐसे ही कुछ अम्पायर हैं जो भारत के खिलाफ फैसले देते रहे और दर्शकों की नफरत का शिकार हुए।


अशोका डी सिल्वा

Enter caption

भारत और श्रीलंका मैच में अगर अशोका डी सिल्वा अम्पायर होते थे तो कम से कम एक निर्णय उनका जरुर टीम इंडिया के खिलाफ रहने की आशंका रहती थी। इसके अलावा भारतीय टीम में अशोका डी सिल्वा का शिकार सौरव गांगुली कई बार हुए हैं। नवंबर 2002 में वेस्टइंडीज के खिलाफ मुकाबले में भारत की पहली पारी में सौरव गांगुली को मर्विन डिल्लन की गेंद पर पगबाधा आउट दिया गया। मुख्य अम्पायर उस समय अशोका डी सिल्वा ही थे। साफ़ नजर आ रहा था कि गेंद गांगुली के बल्ले का अंदरूनी किनारा लेकर पैड पर लगी थी। इस निर्णय पर अम्पायर की काफी आलोचना हुई थी। गांगुली ने भी कहा था कि तकनीक आने से खेल के इस क्षेत्र में सुधार हो सकता है।

डी सिल्वा को 2011 में कुछ खराब फैसलों की वजह से मुख्य मैचों से हटा दिया गया था। भारत के खिलाफ उनके कई निर्णय गलत रहे और इसी वजह से भारतीय फैन्स इन्हें पसंद नहीं करते हैं।


1 / 3 NEXT
Published 07 Nov 2018, 18:20 IST
Advertisement
Fetching more content...