Create
Notifications

वर्ल्ड कप में गोल्डन बैट जीतने वाले 3 भारतीय बल्लेबाज

सचिन तेंदुलकर, वर्ल्ड कप 2003 (दक्षिण अफ्रीका)
सचिन तेंदुलकर, वर्ल्ड कप 2003 (दक्षिण अफ्रीका)
reaction-emoji
Naveen Sharma

क्रिकेट वर्ल्ड कप में अपनी टीम के लिए खेलने का सपना हर खिलाड़ी का होता है। भारतीय टीम में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है। घरेलू क्रिकेट से लेकर सीनियर स्तर तक भारतीय टीम में कई शानदार खिलाड़ी है। वर्ल्ड कप में मौका सभी को नहीं मिलता। वर्ल्ड कप भी खिलाड़ी के लिए और ज्यादा ख़ास तब बन जाता है जब खिलाड़ी को सबसे ज्यादा रन बनाने के लिए गोल्डन बैट या गेंदबाज को सबसे ज्यादा विकेट के लिए गोल्डन बॉल मिलता हो। भारतीय टीम के कई ऐसे खिलाड़ी हुए हैं जिन्होंने वर्ल्ड कप में अपने प्रदर्शन से सभी को मुरीद बना लिया।

भारतीय टीम ने दो बार आईसीसी वनडे वर्ल्ड कप का ख़िताब जीता है। इसके अलावा एक बार टीम को फाइनल में शिकस्त का सामना करना पड़ा है। कई मौकों पर टीम के खिलाड़ियों ने सबसे ज्यादा रन बनाकर देश और टीम का नाम किया है। ऐसे ही तीन भारतीय खिलाड़ियों की चर्चा इस आर्टिकल में की गई है जो वर्ल्ड कप में सबसे ज्यादा रन बनाकर गोल्डन बैट जीते।

वर्ल्ड कप में गोल्डन बैट जीतने वाले भारतीय

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर का नाम यहाँ होना लाजमी है
सचिन तेंदुलकर का नाम यहाँ होना लाजमी है

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वल्ले सचिन तेंदुलकर ने वनडे क्रिकेट में जिस तरह अपना परचम लहराया है, उसके अनुसार वर्ल्ड कप में भी ऐसी अपेक्षा थी। 1996 के वर्ल्ड कप में उन्होंने सबसे ज्यादा रन बनाए थे। सचिन तेंदुलकर ने इस वर्ल्ड कप के सिर्फ 7 मैचों में 523 रन बनाए। इस दौरान सचिन के बल्ले से दो शतक और तीन अर्धशतक निकले। इस तरह पहली बार कोई भारतीय बल्लेबाज वर्ल्ड कप में गोल्डन बैट जीतने में सफल रहा था।

राहुल द्रविड़

राहुल द्रविड़ भी लिस्ट में शामिल हैं
राहुल द्रविड़ भी लिस्ट में शामिल हैं

टेस्ट क्रिकेट में दीवार माने जाने वाले राहुल द्रविड़ ने वनडे में भी जबरदस्त प्रदर्शन किया है। धीरे-धीरे कब उनके पचास रन पूरे होते थे यह पता नहीं चलता था। राहुल द्रविड़ ने 1999 के विश्व कप में गोल्डन बैट जीता। इस दौरान द्रविड़ ने 8 मैचों में 461 रन बनाए। उनके बल्ले से 2 शतक और 3 अर्धशतक आए। द्रविड़ ने इसमें उच्चतम स्कोर 145 रन बनाया। इस वर्ल्ड कप में तीन व्यक्तिगत उच्च स्कोर में सभी भारतीय थे और ये गांगुली, द्रविड़ और सचिन थे। इंग्लैंड में खेला गया यह वर्ल्ड कप द्रविड़ के लिए यादगार बन गया।

सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर ने दो बार ऐसा किया है
सचिन तेंदुलकर ने दो बार ऐसा किया है

सचिन तेंदुलकर ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्हें दो बार गोल्डन बैट मिला है। उन्होंने 2003 में दक्षिण अफ्रीका में खेले गए वर्ल्ड कप में भी सबसे ज्यादा रन बनाए थे। इस दौरान तेंदुलकर ने 11 मैचों में 673 रन बनाए थे जो एक रिकॉर्ड है। नामीबिया के खिलाफ उन्होंने 152 रन की शतकीय पारी खेली थी। तेंदुलकर के बल्ले से यह एकमात्र शतक आया था लेकिन उन्होंने छह अर्धशतक भी जड़े थे। भारतीय टीम को फाइनल में ऑस्ट्रेलिया से हार का सामना करना पड़ा था।

रोहित शर्मा

रोहित शर्मा यहाँ एक ताजा नाम हैं
रोहित शर्मा यहाँ एक ताजा नाम हैं

यह खिलाड़ी वर्ल्ड क्रिकेट में किसी परिचय का मोहताज नहीं है। इंग्लैंड में 2019 में खेले गए विश्वकप में उन्होंने चारों तरफ अपना डंका बजा दिया। हर टीम को उनके सामने परेशानी हुई। रोहित शर्मा ने इस वर्ल्ड कप में आठ मैच खेले और 648 रन बनाए। इस दौरान उन्होंने 5 शतक और एक अर्धशतक जड़कर गोल्डन बैट पर कब्जा जमाया।

Edited by Naveen Sharma
reaction-emoji

Comments

Quick Links:

More from Sportskeeda
Fetching more content...