Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

इन 3 भारतीय कप्तानों ने कभी नहीं हारी इंग्लैंड में कोई सीरीज़

ANALYST
24 Jun 2018, 09:55 IST

भारतीय क्रिकेट इतिहास में कई महान कप्तान हुए हैं। इन कप्तानों ने अपने नेतृत्व में टीम इंडिया को बुलंदियों पर पहुंचाने का काम किया। हालांकि सफलता केवल कुछ ही कप्तानों को मिली। क्रिकेट में कप्तानों के जरिए विदेशी धरती पर किसी सीरीज को बचा लेना भी काफी महत्वपूर्ण रहता है। क्रिकेट के खेल में किसी टीम के जरिए किसी दूसरे देश का दौरा करते हुए दूसरे देश को हरा देना आसान काम नहीं है। वहीं क्रिकेट के खेल में इंग्लैंड एक ऐसा देश है जिसे आसानी से उसी के घर में नहीं हराया जा सकता है।


टेस्ट क्रिकेट में इंग्लैंड जैसी टीम को हरा पाना शुरू से ही मुश्किल काम रहा है। इसके पीछे की वजह है कि वहां की पिचें हर गेंदबाज और बल्लेबाज को सूट नहीं हो पाती है। जिसके कारण इंग्लैंड का दौरा करने वाली टीमें घुटने टेक कर वापस आ जाती है। हालांकि कई ऐसे देश भी हुए हैं जिन्होंने क्रिकेट के खेल में इंग्लैंड को उसी के घर में मात दी है। लेकिन टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में भारत ज्यादा बार ऐसा नहीं कर पाया है।


आइए यहां जानते एक नजर उन भारतीय कप्तानों पर जिनकी कप्तानी में भारत को कभी भी टेस्ट में इंग्लैंड दौरे के दौरान हार का सामना नहीं करना पड़ा।



#1 कपिलदेव (1986: भारत जीता, 2-0)




 

भारत के क्रिकेट इतिहास में कपिल देव की कप्तानी में भारतीय टीम ने कई कीर्तिमान स्थापित किए हैं। कपिल देव की कप्तानी में भारत 1983 में पहली बार क्रिकेट विश्व कप को जीतने में कामयाब हो सका था। कपिल देव ने अपने समय में सफलता का नया स्तर तैयार किया और बेहतरनी कप्तान साबित हुए। साल 1978 में राष्ट्रीय टीम का हिस्सा बने कपिल देव ने गेंद और बल्ले दोनों से बेहतरीन प्रदर्शन किया। वहीं 1983 विश्व कप जीतने के बाद कपिल देव की कप्तानी में और निखार देखा गया।


टेस्ट और एकदिवसीय मुकाबलों में कपिल देव ने न केवल देश में बल्कि देश से बाहर कामयाबी के झंड़े गाड़े। इसी क्रम में भारतीय टीम की इंग्लैंड के खिलाफ इंग्लैंड में सीरीज भी काफी मायनों में अहम रही। साल 1986 में भारतीय क्रिकेट टीम इंग्लैंड के दौरे पर थी। तीन टेस्ट मैचों की सीरीज में भारत ने शानदार खेल दिखाया था। भारतीय टीम ने इंग्लैंड को उसी के घर में धूल चटा दी थी और इंग्लैंड का इस सीरीज में सूपड़ा ही साफ कर दिया था। इस टेस्ट सीरीज में इंग्लैंड भारत के खिलाफ एक भी टेस्ट मैच जीतने में नाकाम साबित हुए और भारत ने इस सीरीज में 2-0 से जीत हासिल की थी। टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में यह भारत की दूसरी टेस्ट सीरीज थी, जिसमें टीम ने जीत दर्ज की। कपिल देव ने 1983 से 1987 तक 34 टेस्ट मैचों में कप्तानी की है।
1 / 2 NEXT
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...