COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 ऐसे भारतीय क्रिकेटर जो शायद दोबारा कभी टेस्ट क्रिकेट न खेल पाएं

18   //    28 Jul 2018, 11:57 IST
आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में टीम इंडिया फ़िलहाल टॉप पर बनी हुई है, इसका सबसे बड़ा श्रेय उन भारतीय क्रिकेटर्स को जाता है जिन्होंने पिछले कुछ सालों में शानदार प्रदर्शन किया है और टीम को ऊंचाइयों पर ले जाने में अहम भूमिका निभाई है। पिछले 5 सालों की बात करें तो हम पाएंगे में कि टीम इंडिया टेस्ट में काफ़ी मज़बूत हुई है और उसे अपने घर में हराना बेहद मुश्किल है।

महेंद्र सिंह धोनी के टेस्ट क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद विराट कोहली ने टीम इंडिया की ज़िम्मेदारी बख़ूबी निभाई है, उन्होंने टीम को वो मज़बूती दी है जिसका तोड़ निकाल पाना आसान नहीं है। पिछले कुछ सालों में विराट कोहली ने टेस्ट क्रिकेट में कई खिलाड़ियों को मौका दिया है जिससे ये खिलाड़ी क्रिकेट के सबसे लंबे फ़ॉर्मेट में ख़ुद को स्थापित कर सकें। इस मौके का कई खिलाड़ियों ने जमकर फ़ायदा उठाया है और टीम इंडिया में अलग पहचान बनाई है। वहीं कुछ भारतीय क्रिकेटर ऐसे भी हैं जो मौके का फ़ायदा उठाने में नाकाम रहे।

एक टीम के तौर पर भारत की कोशिश है कि एक मज़बूत टेस्ट दल तैयार किया जाए, जो विदेशी हालात में शानदार प्रदर्शन कर सके। राष्ट्रीय चयनकर्ताओं ने कुछ कड़े फ़ैसले लिए हैं और उन खिलाड़ियों को टीम से बाहर किया है जो उम्मीदों पर खरे उतरने में नाकाम रहे हैं। चूंकि आजकल युवा गेंदबाज़ उभरकर सामने आ रहे हैं, ऐसे में कई सीनियर खिलाड़ियों की चमक फीकी पड़ रही है।

हम यहां उन 3 खिलाड़ियों की बात कर रहे हैं, जो शायद कभी दोबारा कभी टीम इंडिया की तरफ़ से टेस्ट क्रिकेट न खेल पाएं।

#3 पार्थिव पटेल



गुजरात के इस खिलाड़ी ने साल 2002 में इंग्लैंड को ख़िलाफ़ अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू किया था। उस वक़्त उनकी उम्र महज़ 17 साल की थी। इतनी कम उम्र में अपने अंतरराष्ट्रीय करियर की शुरुआत करने के बावजूद वो टीम इंडिया में ख़ुद को स्थापित करने में नाकाम रहे। आज उनकी उम्र 33 साल है, लेकिन उन्होंने टीम इंडिया की तरफ़ से महज़ 25 टेस्ट मैच खेले हैं।

वो मैच में हालात के हिसाब से नहीं खेल पाते थे, अपने प्रदर्शन में सुधार न कर पाने की वजह से उनके करियर में ज़बरदस्त गिरावट देखने को मिली और वो टीम से बाहर हो गए। बल्लेबाज़ी के दौरान उनके अंदर संयम की काफ़ी कमी देखने को मिलती थी, वो अकसर गलत टाइमिंग की वजह से अपना विकेट गंवा बैठते थे।

पार्थिव पटेल ने क़रीब 8 साल बाद नवंबर 2016 में टीम इंडिया में वापसी की थी, और कुछ अच्छी पारियां खेलीं थीं। वो इस साल दक्षिण अफ़्रीकी दौरे पर भी गए थे लेकिन वो बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे। वो अपने 16 साल के टेस्ट क्रिकेट में आज तक कोई शतक नहीं लगा पाए हैं। चयनकर्ताओं के नज़र अब ऋषभ पंत पर है, जिन्हें बैक-अप विकेटकीपर के तौर पर टीम में शामिल किया जा सकता है। ऐसे में पार्थिव पटेल के सभी रास्ते बंद नज़र आ रहे हैं।
1 / 3 NEXT
Advertisement
Fetching more content...