Create

3 भारतीय खिलाड़ी जिन्हें वनडे क्रिकेट में कभी बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला

ये खिलाड़ी एक भी गेंद नहीं खेल पाए थे
ये खिलाड़ी एक भी गेंद नहीं खेल पाए थे
मनप्रीत गोनी सिर्फ गेंदबाजी तक ही सीमित रहे
मनप्रीत गोनी सिर्फ गेंदबाजी तक ही सीमित रहे

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में वनडे प्रारूप आने के बाद यह अपनी अलग स्तर की लोकप्रियता पर पहुंचा। हालांकि यह प्रारूप तब आया था जब विश्व क्रिकेट में गेंदबाजों का बोलबाला ज्यादा हुआ करता था और बड़े बल्लेबाज ज्यादा देखने को नहीं मिलते थे। ऑल राउंडर की संख्या अच्छी देखी जा सकती थी। समय के साथ इन सभी चीजों में बदलाव आया तथा बल्लेबाजी में उचित सुधार देखने को मिले। गेंदबाज भी कई बार अच्छी बल्लेबाजी करते हुए इस प्रारूप में देखे गये हैं। भारतीय टीम ने भी अपनी बल्लेबाजी शैली में बदलाव किया और उनके कई गेंदबाज बड़े शॉट खेलते हुए दिखे।

बल्लेबाजों से तो शॉट की अपेक्षा की जाती है लेकिन गेंदबाजों को मौका मिलने पर ऐसा देखते हुए काफी सुखद अनुभव माना जा सकता है। भारतीय टीम ने वनडे में कई बड़े और दिग्गज खिलाड़ी वर्ल्ड क्रिकेट को दिए हैं। इस प्रारूप में कई खिलाड़ी ऐसे रहे जिनका बल्लेबाजी में निचला या पुछल्ला क्रम रहा है। कई खिलाड़ी हुए जिन्हें इस स्थिति में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला और टीम से बाहर होने के बाद वे वापस नहीं आए। ऐसे ही तीन खिलाड़ियों का जिक्र इस आर्टिकल में किया गया है जिन्हें वनडे क्रिकेट में कभी बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला।

आरपी सिंह

आरपी सिंह सीनियर का नाम इसमें शामिल है
आरपी सिंह सीनियर का नाम इसमें शामिल है

रुद्रप्रताप सिंह नाम का यह खिलाड़ी 90 के दशक में टीम इंडिया के लिए दो मैच खेला था। लखनऊ में जन्म लेने वाला यह खिलाड़ी दाएं हाथ का बल्लेबाज और बाएँ हाथ का मीडियम पेसर था। गेंदबाजी में उनके नाम एक विकेट है लेकिन बल्लेबाजी का मौका नहीं मिला। उन्होंने 1986 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ डेब्यू किया था। दो मैचों के बाद रुद्रप्रताप सिंह सीनियर को भारतीय टीम में वापस नहीं देखा गया। उन्होंने भारत के लिए सिर्फ एक ही प्रारूप खेला।

मनप्रीत गोनी

मनप्रीत गोनी ने हांगकांग के खिलाफ डेब्यू किया था
मनप्रीत गोनी ने हांगकांग के खिलाफ डेब्यू किया था

इस खिलाड़ी के पास अच्छे शॉट लगाने की पूरी क्षमता थी। 2008 में कराची में हांगकांग के खिलाफ डेब्यू करने वाले गोनी ने भारत के लिए दो वनडे मैच खेले। दो विकेट अपने करियर में लेने वाले गोनी को बल्लेबाजी करने का मौका कभी नहीं मिला। आईपीएल में बेहतर प्रदर्शन के कारण उन्हें भारतीय टीम में मौका मिला था।

जयदेव उनादकट

जयदेव उनादकट ने जिम्बाब्वे के खिलाफ डेब्यू किया
जयदेव उनादकट ने जिम्बाब्वे के खिलाफ डेब्यू किया

इस भारतीय खिलाड़ी ने 2013 में भारतीय टीम के लिए डेब्यू किया था। हरारे में जिम्बाब्वे के खिलाफ उन्होंने अंतरराष्ट्रीय जीवन का पहला वनडे खेला। उनादकट ने अब तक 7 वनडे मैच खेलकर 8 विकेट चटकाए हैं। बल्लेबाजी में उन्हें कभी मौका नहीं मिला। हालांकि उनकी उम्र ज्यादा नहीं हुई है इसलिए टीम में वापसी करने का मौका रहेगा।

Quick Links

Edited by Naveen Sharma
Be the first one to comment