Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

3 दुर्भाग्यशाली भारतीय खिलाड़ी जिन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ वन-डे सीरीज के लिए टीम में जगह नहीं मिली

ANALYST
टॉप 5 / टॉप 10
Published 14 Oct 2018, 23:56 IST
14 Oct 2018, 23:56 IST

Enter caption

वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट सीरीज के बाद टीम इंडिया को 5 वन-डे मैचों की सीरीज भी खेलनी है। इसके लिए बीसीसीआई ने टीम की घोषणा भी कर दी है। पहले दो वन-डे मैचों के लिए टीम में कई बदलाव किये गए हैं। इंग्लैंड में खेलने वाले कुछ नाम इसमें शामिल नहीं है। जहां भुवनेश्वर कुमार और जसप्रीत बुमराह को आराम दिया गया, तो दिनेश कार्तिक को टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया। यह भी कह सकते हैं कि ऐसा रोटेशन प्रणाली के तहत किया गया हो।

मोहम्मद शमी की टीम में वापसी हुई लेकिन ऋषभ पन्त को पहली बार टीम में शामिल कर लिया गया। टेस्ट क्रिकेट में शानदार प्रदर्शन का तोहफा पन्त को मिला है। इनके अलावा भी कई बदलाव हुए हैं। बाहर होने वाले कुछ दुर्भाग्यशाली खिलाड़ियों के बारे में हम यहां बात करेंगे।


सुरेश रैना

Enter caption

सुरेश रैना वह नाम है जो 2011 विश्वकप की भारतीय टीम में संकटमोचक की भूमिका में थे। विजय हजारे ट्रॉफी के अंतिम मुकाबलों में यूपी के लिए उनका खेल संतोषजनक कहा जा सकता है। वेस्टइंडीज के खिलाफ छठे नम्बर के लिए उनका चयन किया जा सकता था। केदार जाधव पूरी तरह फिट नहीं दिखते और टीम में भी उनको शामिल नहीं किया गया है। मनीष पांडे को खराब फॉर्म के बाद भी जगह मिली है। यहां सुरेश रैना के नाम पर विचार किया जा सकता था। हालांकि रैना गेंदबाजी नहीं करते लेकिन मध्यक्रम में विपक्षी टीम के गेंदबाजों की लय बिगाड़ने में वे सक्षम हैं। इसके अलावा रैना फील्डिंग में भी काफी रन बचाते हैं। बल्लेबाजी और फील्डिंग में उम्दा खेल के जरिये वे टीम को अपनी सेवाएं दे सकते हैं। मनीष पांडे और केदार जाधव की तुलना मेंबाएं हाथ का यह बल्लेबाज काफी फिट है और पावरप्ले के दौरान घेरे के अन्दर और अंतिम ओवरों में सीमा रेखा पर बेहतरीन फील्डिंग कर कई रन बचा सकता है।


1 / 3 NEXT
Modified 20 Dec 2019, 19:16 IST
Advertisement
Advertisement
Fetching more content...