Create

3 मौके जब भारतीय खिलाड़ियों ने दिया स्लेजिंग का मुंह तोड़ जवाब

श्रीसंथ और आंद्रे नील का बैंटर काफी मशहूर है
श्रीसंथ और आंद्रे नील का बैंटर काफी मशहूर है
South Africa v India 3rd Test - Day 2
South Africa v India 3rd Test - Day 2

क्रिकेट को जेंटलमैन गेम यानि भद्रजनों का खेल कहा जाता हैं, लेकिन यहां हर एक खिलाड़ी जैंटलमैन की तरह व्यवहार करे ये जरूरी नहीं है। साथ ही इस गेम से जुड़ा स्लेजिंग का शब्द इसके जैंटलमैन गेम होने की बात के साथ थोड़ा फिट नहीं बैठता। फिर भी स्लेजिंग क्रिकेट का अभिन्न हिस्सा है।

क्रिकेट के मैदान पर स्लेजिंग आम बात हो गई है। क्रिकेट में इस स्लेजिंग या शब्दों के आक्रामक आदान-प्रदान की शुरूआत तो उसी समय हो गई थी, जब क्रिकेट के पितामह कहे जाने वाले इंग्लैंड के ग्रेस ने एक बार अम्पायर के जल्दी आऊट दिये जाने पर उनसे कहा था, “दर्शक यहां मेरी बल्लेबाजी देखने आये हैं, तुम्हारी उंगली नहीं”, समझे….और दोबारा बल्लेबाजी करने लगे। लेकिन एक बार जब गेंद से उनकी गिल्ली उड़ गई, तो अम्पायर से बोले, “आज हवा काफ़ी तेज चल रही है, देखा गिल्लियां तक गिर गईं”, लेकिन अम्पायर भी कहां कम थे, वे बोले, “हां वाकई हवा तेज है, और पवेलियन जाते वक्त आपको जल्दी जाने में मदद करेगी”।

भारतीय खिलाड़ियों के साथ भी कई बार स्लेजिंग हुई और कई बार उन्होंने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया। हम आपको बताते हैं 3 ऐसी ही घटनाओं के बारे में जब भारतीय खिलाड़ियों ने स्लेजिंग का मुंहतोड़ जवाब दिया।

3 मौके जब भारतीय खिलाड़ियों ने दिया स्लेजिंग का मुंह तोड़ जवाब

1.श्रीसंथ बनाम आंद्रे नील

श्रीसंत बल्लेबाजी के दौरान
श्रीसंत बल्लेबाजी के दौरान

टीम इंडिया का साल 2006 का साउथ अफ्रीका दौरा ज्यादातर क्रिकेट प्रेमियों को याद होगा। पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया अपने शानदार प्रदर्शन की बदौलत 165 रनों की बढ़त ले चुकी थी और इसके बाद श्रीसंथ के 5 विकेट की मदद से साउथ अफ्रीका की पारी सिर्फ 84 रन के स्कोर पर समेट दी ।

खैर असल मायने में रोमांच तो इसके बाद शुरू हुआ। दूसरी पारी में जब श्रीसंथ बैटिंग करने उतरे तो टीम 9 विकेट के नुकसान पर 219 रन बनाकर मशक्कत कर रही थी। मैदान पर आते ही आंद्रे नील के साथ श्रीसंथ उलझ गए जो उस वक्त बॉलिंग कर रहे थे। आंद्रे नील विकेट चटकाने के लिए स्लेजिंग कर रहे थे, लेकिन थोड़ी ही देर बाद श्रीसंथ ने इसका करारा जवाब देते हुए अगली ही बॉल पर छक्का जड़ दिया। भारतीय टीम ने ये मैच 123 रनों से अपने नाम किया।

2. युवराज सिंह बनाम एंड्रु फ्लिंटॉफ

Portraits - 2018 Laureus World Sports Awards - Monaco
Portraits - 2018 Laureus World Sports Awards - Monaco

2007 में भारतीय टीम के धुआंधार बल्लेबाज युवराज सिंह के 6 छक्कों को शायद ही कोई भारतीय खेल प्रेमी कभी भूल सके। जब भी बात युवराज सिंह की होती हैं तो सबसे पहले जेहन में युवराज का ये शानदार प्रर्दशन ही आता है।

दिलचस्प बात तो ये है कि ये धुआंधार 6 छ्क्के भी स्लेजिंग का ही नतीजा थे। दरअसल युवराज ने फ्लिंटॉफ के 17वें ओवर में दो चौके लगाए थे और इसलिए वो युवी से उलझ गए थे। फ्लिंटॉफ ने उनके शॉट्स को बेहूदा बताया था। इस पर युवराज को गुस्सा आ गया और उन्होंने स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर की हर बॉल पर छक्का जड़ कर इस स्लेजिंग का अच्छे से हिसाब चुकता किया।

3. शोएब अख्तर बनाम हरभजन सिंह

India v England: Group B - 2011 ICC World Cup
India v England: Group B - 2011 ICC World Cup

भारत-पाकिस्तान के मैच में स्लेजिंग बहुत ही आम बात है। कोई कुछ भी कह ले और कितनी ही खेल भावना की बातें कर ली जाए लेकिन भारत-पाकिस्तान के बीच का मैच किसी जंग से कम नहीं होता। यूं तो भारत पाकिस्तान के बीच स्लेजिंग कई बार हुई लेकिन फिलहाल हम बात कर रहे हैं 2010 में एशिया कप के दौरान हरभजन सिंह औऱ शोएब अख्तर के बीच हुए स्लेजिंग मोमेंट की।

पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 267 रन का स्कोर बनाया। पाकिस्तान की गेंदबाजी और भारत के बैटिंग लाइन अप को देखते हुए ये मैच काफी रोमांचक था। मैच में रोमांच अपने चरम पर था और आखिरी ओवर में जीत के लिए 7 रनों की जरूरत थी। गौतम गंभीर और हरभजन सिंह क्रीज पर डटे हुए थे।

सेकेंड लास्ट ओवर डालने के बाद पाकिस्तान के तेज गेंदबाज शोएब अख्तर अपना आपा खो बैठे और हरभजन सिंह पर टिप्पणी करने लगे। लेकिन हरभजन ने भी इस स्लेजिंग का जवाब जोरदार छक्का लगाकर दिया। आखिरकार टीम इंडिया ने ये मैच भी जीता।

Quick Links

Edited by सावन गुप्ता
3 comments