COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

4 कारण जो बताते हैं कि हार्दिक पांड्या का प्रदर्शन भारत की मुख्य समस्या नहीं हैं

15   //    16 Aug 2018, 11:16 IST

यह कहना उचित होगा कि भारत का इंग्लैंड दौरा अभी तक अच्छा नहीं रहा है। पांच मैचों की टेस्ट श्रृंखला में भारतीय टीम इस समय 2-0 से पिछड़ रही है। लॉर्ड्स में एक पारी और 159 रनों की हार लंबे समय बाद भारतीय क्रिकेट टीम के लिए सबसे शर्मनाक हार थी।

ऐसे समय में, टीम इंडिया के प्रदर्शन पर सवाल उठने लाज़मी हैं के लिए बाध्य हैं। प्रशंसकों और मीडिया द्वारा इस लचर प्रदर्शन का ठीकरा हार्दिक पांड्या पर फोड़ा जा रहा है। टेस्ट टीम में उनको शामिल किया जाना विवादास्पद था और इसलिए स्पॉटलाइट उनके ऊपर रहा है, हालांकि, उनमें से अधिकतर अनुचित हैं।
तो आइये चार ऐसे कारणों पर नज़र डालें जो हार्दिक पांड्या की आलोचना को अनुचित बनाते हैं:

#4. पांड्या का प्रदर्शन

पहले दो टेस्ट मैचों की अपनी चार पारियों में 22, 31, 11 और 26 रन बनाने वाले हार्दिक पांड्या का स्कोर अच्छा नहीं कहा जा सकता लेकिन अपनी चार पारियों में 90 रनों के साथ, पांड्य कप्तान विराट कोहली के बाद श्रृंखला में भारत के दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी है। कोहली और रविचंद्रन अश्विन को छोड़कर, अन्य कोई भी भारतीय बल्लेबाज श्रृंखला में अब तक कुल 50 रन भी नहीं बना पाया। एजबेस्टन टेस्ट में जब कप्तान कोहली ने पांड्या को गेंद सौंपी तो उन्होंने शानदार गेंदबाज़ी करते हुए तीन विकेट लिए थे।

आठ महीने पहले, दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अपनी 6 पारियों में 119 रन बनाए और विराट कोहली के बाद वह श्रृंखला में भारत के दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाला खिलाड़ी थे। लेकिन, वह टीम का नियमित हिस्सा बनना चाहते हैं तो निश्चित रूप से पांड्या को निरंतर अच्छा प्रदर्शन करना होगा।

1 / 4 NEXT
Fetching more content...