COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

ये तीन टीमें जीत सकती हैं उद्घाटन टेस्ट चैम्पियनशिप

7   //    10 Jul 2018, 07:05 IST
अगले साल टेस्ट क्रिकेट को बचाने के लिए एक महत्वपूर्ण पहल की जा रही है। पहली बार खेली जा रही टेस्ट चैम्पियनशिप में टेस्ट खेलने वाली टीमों को दो साल की अवधि में तीन घरेलू और तीन विदेशी टेस्ट श्रृंखलाएं खेलनी हैं।

इस चैम्पियनशिप में सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड रखने वाली 2 टीमें फाइनल में खेलेंगी और विजेता को टेस्ट चैम्पियन घोषित किया जायेगा। बड़ी इनामी राशी और नियमित खेल कार्यक्रम इस चैम्पियनशिप को रोमांचक बढ़ाएगा। इस टूर्नामेंट से यह उम्मीद है कि कुछ देशों में जहां क्रिकेट का सबसे लंबा प्रारूप लगभग ख़त्म होने के कगार पर है, वहां टेस्ट क्रिकेट को पुनर्जीवित करने में मदद मिलेगी।

इस लेख में, हम उन तीन टीमों का विश्लेषण करेंगे जिनकी इस टेस्ट चैंपियनशिप को जीतने की सबसे ज़्यादा संभावना है:

दक्षिण अफ्रीका की सफलता के लिए महत्वपूर्ण 3 प्रमुख खिलाड़ी:




 

डीन एल्गर

डीन एल्गर को अपने टेस्ट कैरियर की शुरुआत में कठिनाई का सामना करना पड़ा था। लेकिन उसके बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उछाल वाली WACA की पिच पर काफी अच्छा प्रदर्शन किया था। तब से एल्गर के लिए चीजें और बेहतर हो गई हैं। अब तक उन्होंने अपने टेस्ट करियर में 11 शतक और 12 अर्धशतक के साथ 42.59 की शानदार औसत के साथ रन बनाए हैं।

दक्षिण अफ्रीका टेस्ट टीम के लिए एल्गर ने पिछले एक साल में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया है। उन्होंने पिछले कैलेंडर वर्ष में 53.71 की सर्वोत्तम औसत से 1000 से अधिक टेस्ट रन बनाए हैं जिसमें 5 शतक और 4 अर्धशतक शामिल हैं।

पिछले कुछ सालों में एबी डीविलियर्स और जैक्स कैलिस जैसे महान खिलाड़ियों के संन्यास के बाद, दक्षिण अफ्रीकी टीम टेस्ट चैम्पियनशिप जीतने के लिए एल्गर से अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद करेगी।

कगिसो रबाडा

पेस, स्विंग, और रवैया, एक अच्छा तेज गेंदबाज बनने के लिए इन सभी गुणों का होना बहुत ज़रूरी है और यह तीनों गुण दक्षिण अफ़्रीकी तेज़ गेंदबाज़ कगिसो रबाडा में हैं। 2015 में रबाडा ने भारत के खिलाफ टेस्ट मैच में बेहतरीन प्रदर्शन कर अपने टेस्ट करियर का शानदार आगाज़ किया था। तब से खेले गए प्रत्येक टेस्ट मैच में उन्होंने विकेट लिए हैं।

रबाडा ने 30 टेस्ट मैचों में महज़ 21.43 रनों की औसत से कुल 143 विकेट लिए हैं। टेस्ट क्रिकेट में डेल स्टेन के चोटिल होने और मॉर्न मॉर्केल के हाल ही में लिए संन्यास के बाद दक्षिण अफ़्रीकी के गेंदबाज़ी आक्रमण की ज़िम्मेवारी रबाडा के कंधों पर आ गई है।

यदि दक्षिण अफ्रीका को किसी मैच में पूरे 20 विकेट लेने हैं तो उनको 23 वर्षीय जोहान्सबर्ग के इस खिलाड़ी की तरफ ही देखना पड़ेगा।

हाशिम अमला

इस चैंपियनशिप में दक्षिण अफ़्रीका के धाकड़ बल्लेबाज़ हाशिम अमला उतने ही महत्वपूर्ण है जितना कि वह दक्षिण अफ्रीकी टीम के लिए हमेशा से रहे हैं।

अनुभवी अमला ने 117 टेस्ट मैचों में 48.03 की औसत से शानदार 8982 रन बनाए हैं, जिसमें 28 शतक और 39 अर्धशतक शामिल हैं।

अपनी अपरंपरागत तकनीक के बावजूद, अमला वर्तमान में टेस्ट क्रिकेट के महान खिलाड़ियों में से एक हैं। आमला सभी प्रकार की स्थितियों में रन बनाने में सक्षम हैं। इस टेस्ट चैंपियनशिप के दौरान दक्षिण अफ्रीका के भारत दौरे का उनका अनुभव और कौशल विशेष रूप से महत्वपूर्ण होगा।

एल्गर की तरह ही, कैलिस और डीविलियर्स के संन्यास के बाद अमला के कंधों पर टीम को जीत दिलाने की ज़िम्मेदारी होगी। अगर अमला दक्षिण अफ्रीका के लिए इस चैंपियनशिप में अपनी फॉर्म बरकरार रखते हैं तो निश्चित रूप से दक्षिण अफ़्रीका इस टूर्नामेंट को जीतने का प्रबल दावेदार होगा।
1 / 3 NEXT
Advertisement
Fetching more content...