COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit

तीन मौके जब भारत ने विराट कोहली के गलत फैसले के कारण गँवा दिया टेस्ट मैच

12   //    18 Aug 2018, 16:47 IST

विराट कोहली एक चतुर कप्तान के रूप में जाने जाते हैं जो हमेशा बल्ले और मैदान में कप्तानी को एकसाथ लेकर आगे बढ़ते हैं। भारतीय कप्तान की निरंतर आक्रामकता खिलाड़ियों के लिए प्रेरणा का सबसे बड़ा स्रोत रहा है क्योंकि उन्होंने एमएस धोनी की जगह पदभार संभाला था। विराट कोहली ने पहली बार साल 2014 में एडीलेड में टेस्ट क्रिकेट में भारत का नेतृत्व किया, जहां उन्होंने शतकों की झड़ी ही लगा दी थी। एमएस धोनी के संन्यास लेने के बाद कोहली ने उसी सीरीज में सिडनी टेस्ट में टीम का नेतृत्व किया और वहीं से उनकी कप्तानी यात्रा की शुरुआत हुई।

हालांकि हाल के दिनों में कप्तान के रूप में विराट कोहली के कुछ अजीब टीम चयन देखे गए जो कि हार का कारण बने। इसके बाद कोहली की काफी आलोचना भी हुई।

आइए जानते हैं कोहली की कप्तानी में टीम चयन को लेकर किए गए तीन गलत फैसले, जिसके कारण टेस्ट मैचों में टीम इंडिया को हार झेलनी पड़ी:

#3 भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, पुणे (2017)



साल 2017 की शुरुआत में ऑस्ट्रेलिया भारत दौरे पर आई थी। इस दौरान ऑस्ट्रेलिया ने भारत के साथ टेस्ट सीरीज खेली। इसमें से सीरीज का पहला मुकाबला पुणे के एमसीए स्टेडियम में खेला गया, जिसकी पिच पहले ही दिन से स्क्वायर टर्न ले रही थी। इस मैच में विराट कोहली टॉस गंवा बैठे थे। वहीं इस मुकाबले के लिए कोहली का अजीब टीम चयन देखने को मिला।

इस टेस्ट मैच के लिए कोहली ने आश्चर्यजनक रूप से बल्लेबाज करुण नायर की जगह जयंत यादव को तीसरे स्पिनर के रूप में खिलाने का फैसला किया, जो कि नंबर 6 पर स्पष्ट विकल्प था। हालांकि उस मैच में जिस तरह की परिस्थिति थी, उनमें टीमें अतिरिक्त बल्लेबाज के साथ खेलती हैं. लेकिन कोहली के एक गलत फैसले के कारण पूरी भारतीय क्रिकेट टीम को इसका नुकसान उठाना पड़ा। इस मुकाबले में बल्लेबाज एकदम नाकाम रहे और गेंदबाजी भी बेदम देखने को मिली।

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ इस मैच में भारतीय टीम की पहली पारी 105 रन तो वहीं दूसरी पारी 107 रन पर ही सिमट गई। जयंत ने इस टेस्ट मैच में दो विकेट ही हासिल किए और टीम इंडिया को इस मुकाबले में 333 रनों से हार का मुंह देखना पड़ा।

1 / 3 NEXT
Fetching more content...