ICC World Cup 2019 के लिए 4 ख़तरनाक सलामी जोड़ियां

इंग्लैंड में अगले साल होने वाले क्रिकेट विश्व कप में, एक बात स्पष्ट है कि पावरप्ले के पहले दस ओवरों में अधिक से अधिक रन बनाने वाली टीमों के मैच जीतने की संभावना अधिक है। जबसे वनडे क्रिकेट में दूसरी नई गेंद इस्तेमाल करने का चलन चला है, बल्लेबाज़ी करने वाली टीम के लिए पॉवरप्ले में ज़्यादा से ज़्यादा रन बनाना बेहद अहम हो गया है। मैच में दो बार नई गेंद का इस्तेमाल होने के वजह से बल्लेबाजी करने वाली टीम के लिए ज़्यादा स्कोर करना आसान हो गया है, ऐसे में सीमित ओवरों के मैचों में पिचों की हालत में भी सुधार हुआ है, इस से पॉवरप्ले के पहले 10 ओवरों का महत्व और बढ़ जाता है। इस लेख में हमने विश्व कप की 4 दिग्गज जोड़ियों का उल्लेख किया है:

डेविड वॉर्नर और ट्रैविस हेड (ऑस्ट्रेलिया)

ऑस्ट्रेलिया के लिए खतरनाक सलामी जोड़ी संयोजन बनाना कठिन नहीं है। ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट और मैथ्यू हेडन की सलामी जोड़ी दुनिया की सबसे खतरनाक सलामी जोड़ी मानी जाती है। विशेष रूप से वेस्टइंडीज में हुए 2007 के विश्वकप में उन्होंने अपनी टीम को लगातार तीसरी बार विश्व विजेता बनाने में अहम भूमिका निभाई थी। हालाँकि, वर्तमान समय में डेविड वार्नर और ट्रेविस हेड को दुनिया की सर्वश्रेष्ठ सलामी जोड़ी नहीं कहा जा सकता लेकिन उनके पास अपनी टीम को फिर से विश्व विजेता बनाने की क्षमता है। डेविड वार्नर खेल के सभी प्रारूपों में विश्व क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ सलामी बल्लेबाजों में से एक है। वनडे क्रिकेट में उन्होंने 100 मैचों में 43.22 के औसत से 4322 रन बनाए हैं। वनडे में उन्होंने 14 शतक और 17 अर्धशतक लगाए हैं। वार्नर ने वनडे प्रारूप में 96.22 की प्रभावशाली स्ट्राइक रेट के साथ रन बनाए हैं। वहीं अगर बात करें ट्रेविस हेड की तो उन्होंने बिग बैश के पिछले तीन सत्रों में शानदार प्रदर्शन किया है और अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में भी उनकी प्रतिभा से हम भली-भांति परिचित हैं। अंतरराष्ट्रीय सलामी बल्लेबाज के रूप में, हेड ने 48.4 की बेहतरीन औसत से 10 मैचों में 484 रन बनाए हैं, जिसमें 1 शतक और 4 अर्धशतक शामिल हैं। उनकी सलामी जोड़ी कई कारणों से दिलचस्प है। विश्व कप 2019 में छोटी सीमाएं और बल्लेबाज़ों के लिए मुफीद पिचें दोनों खिलाड़ियों के अनुकूल होंगी।

मार्टिन गप्टिल और कॉलिन मुनरो (न्यूज़ीलैंड)

कीवी बल्लेबाज़ मार्टिन गप्टिलऔर कॉलिन मुनरो की प्रतिभा से हम सभी भली-भांति परिचित हैं। अपनी सर्वश्रेष्ठ फॉर्म में यह दोनों खिलाड़ी किसी भी विरोधी गेंदबाज़ी आक्रमण को तहस-नहस कर सकते हैं। हालाँकि इन दोनों खिलाड़ियों के बीच हुई सलामी बल्लेबाज़ों के तौर पर तो कोई सांझेदारी नहीं हुई लेकिन, इस सूची में इन दोनों का शामिल होना, इनके व्यक्तिगत प्रदर्शनों पर आधारित है। मार्टिन गुपटिल वनडे क्रिकेट में दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ों में से एक हैं लेकिन मुनरो का वनडे में अपना यादगार प्रदर्शन करना अभी बाकी है। गुपटिल ने वेस्टइंडीज के खिलाफ 2015 विश्व कप के क्वार्टर फाइनल में उस समय इतिहास रच दिया जब उन्होंने उस मैच में नाबाद 237 रन बना डाले और कीवी टीम को टूर्नामेंट के सेमीफाइनल में पहुंचाया। गुपटिल के वनडे प्रदर्शन की बात करें तो उन्होंने लगभग 45 के औसत से 5351 रन बनाए हैं। उनके पूरे करियर में 13 शतक और 29 अर्धशतक उनके नाम हैं। इसके अलावा, उन्होंने 84 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। वहीं, कॉलिन मुनरो अभी तक वनडे क्रिकेट में अपनी क्षमता के अनुरूप प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। 16 पारियों में उन्होंने 26.56 के औसत से 425 रन बनाए हैं और उनके नाम पर 3 अर्धशतक हैं। हालाँकि मुनरो की स्ट्राइक रेट काफी अच्छी है और उन्होंने 113 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। इसके अलावा, टी-20 में इन दोनों बल्लेबाज़ों ने बेहतरीन खेल दिखाया है। 2017 में न्यूज़ीलैंड के भारत दौरे में कॉलिन मुनरो ने टी-20 सीरीज़ के दौरान 109 रनों की धमाकेदार पारी खेली थी और टीम की जीत के सूत्रधार बने थे। वहीं, गुपटिल और मुनरो के बीच टी-20 प्रारूप में तीन से ज़्यादा बार शतकीय सांझेदारियाँ हुई हैं। दोनों ने मिलकर 41.87 की औसत के साथ कुल 670 रन बनाए हैं।

रोहित शर्मा और शिखर धवन (भारत)

रोहित शर्मा और शिखर धवन भारतीय टीम को काफी लंबे समय के लिए सलामी बल्लेबाज़ों के तौर पर अपनी सेवाएं दे सकते हैं। वे तर्कसंगत रूप से विश्व क्रिकेट में सबसे बेहतरीन सलामी बल्लेबाज़ों में से एक हैं। पिछले कुछ वर्षों से इन दोनों बल्लेबाज़ों ने लगभग हर मैच में अपनी टीम को अच्छी शुरुआत दिलाकर जीत की नींव रखी है। रोहित शर्मा की बात करें तो उन्हें मध्य-क्रम से शीर्ष क्रम पर पद्दोनत किया गया है और सलामी बल्लेबाज़ के रूप में रोहित ने उत्कृष्ट प्रदर्शन किया है। सलामी बल्लेबाज के रूप में, रोहित शर्मा ने 53.8 की बेहतरीन औसत से 4627 रन बनाए हैं। उनके नाम वनडे में 17 शतक, 34 अर्धशतक और 3 शानदार दोहरे शतक दर्ज हैं। इसके अलावा उन्होंने अब तक वनडे में 91.1 की स्ट्राइक रेट के साथ रन बनाए हैं। वहीं शिखर धवन वर्षों से भारत के सलामी बल्लेबाज़ के रूप में अच्छा प्रदर्शन करते आ रहे हैं। अभी तक खेले अपने 101 मैचों में उन्होंने 45.61 की औसत 43611 रन बनाए हैं। धवन ने अपने वनडे करियर में 13 शतक और 25 अर्धशतक लगाए हैं जबकि उनका स्ट्राइक रेट 93.44 रहा है। ये दोनों खिलाड़ी विश्व-स्तरीय बल्लेबाज़ हैं। वे दोनों अपने खेल को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं और समझते हैं कि इंग्लैंड की परिस्थितियों में कैसे खेलना है। ऐसे में अगले साल होने वाले विश्व कप को देखते हुए यह सलामी जोड़ी भारत के लिए बेहद अहम होगी।

जॉनी बेयरस्टो और जेसन रॉय (इंग्लैंड)

अगले साल होने वाले विश्व कप में यह इंग्लिश जोड़ी भी काफी घातक सिद्ध हो सकती है। जेसन रॉय और जॉनी बेयरस्टो ने कुछ ही मैच में सलामी बल्लेबाज़ों के तौर पर खेला है लेकिन यह दोनों पावर हिटर्स अकेले दम पर किसी भी मैच का परिणाम बदलने का माद्दा रखते हैं। रॉय ने अपने वनडे करियर में 39 रनों की औसत से 2383 रन बनाए हैं। इसमें 6 सैकड़ों और 12 अर्धशतक शामिल हैं। इसके अलावा उनकी स्ट्राइक रेट 104 की रही है जो कि बहुत शानदार है। वहीं बेयरस्टो ने सलामी बल्लेबाज के रूप में, 63.09 की अविश्वसनीय औसत के साथ अपने वनडे करियर में 1209 रन बनाए हैं। इसमें 6 शतक और 7 अर्धशतक शामिल हैं। उनकी स्ट्राइक रेट भी असाधारण रही है और उन्होंने 113 की स्ट्राइक रेट से रन बनाए हैं। यह जोड़ी विश्व कप 2019 में इंग्लैंड के लिए बेहद अहम होने वाली है। लेखक: निक क्वांट अनुवादक: आशीष कुमार

App download animated image Get the free App now