COOKIE CONSENT
Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

4 भारतीय खिलाड़ी जिन्होंने टी-20 में विराट कोहली के साथ शुरुआत की, लेकिन उनका करियर जल्द ही खत्म हो गया

30   //    30 Jul 2018, 12:19 IST
भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली रिकॉर्ड के बाद रिकॉर्ड तोड़ रहे हैं और वह दुनिया के महानतम बल्लेबाज़ बनने की राह पर अग्रसर हैं। वहीं लक्ष्य का पीछा करते हुए उनका रिकार्ड अनुकरणीय है।

विराट ने 2008 में भारत को अंडर-19 विश्वकप का ख़िताब जिताया था और उसके बाद उन्होंने भारतीय टीम में अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर की शुरुआत की और वनडे में वह टीम इंडिया के स्टार बल्लेबाज़ बनकर उभरे हैं।

उन्होंने अपने टी-20 करियर की शुरुआत 2010 में जिम्बाब्वे के खिलाफ की थी और क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में भी बढ़िया प्रदर्शन किया है। हालाँकि, उनके साथ ही अपने टी-20 करियर की शुरुआत करने वाले खिलाड़ी कुछ खास नहीं कर पाए और धीरे धीरे क्रिकेट प्रशंसकों ने उन्हें भुला दिया।

तो आइये नज़र डालते हैं ऐसे 4 भारतीय खिलाड़ियों पर जिन्होंने टी-20 में अपनी शुरुआत लगभग विराट कोहली के साथ ही की थी लेकिन उनका करियर जल्दी खत्म हो गया:

नमन ओझा (पहला टी-20: जून, 2010, आखिरी टी-20: जून 2010 ) 



नमन ओझा आईपीएल के क्रिकेट इतिहास में एक जाना पहचाना नाम हैं और उन्होंने आईपीएल के दस सत्रों में हिस्सा लिया है। आईपीएल के दूसरे सत्र में उन्होंने राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलते हुए ज़बरदस्त प्रदर्शन किया था।

हालाँकि इतना क्रिकेट खेलने के बावजूद भी वह कभी भी शीर्ष स्तर पर खुद को स्थापित करने में सफल नहीं हुए। एमएस धोनी के टीम इंडिया में रहते हुए एक विकेटकीपर-बल्लेबाज़ के नाते उन्हें टीम इंडिया में खेलने का बहुत कम मौका मिला।

उन्हें जिम्बाब्वे के खिलाफ 2010 में भारतीय टीम के लिए बैकअप विकेट-कीपर के रूप में टीम में शामिल किया गया था जब चयनकर्ताओं ने एमएस धोनी को आराम करने का फैसला किया था। उस दौरे में ओझा ने तीन मैच खेले थे। उनमें से एक मैच टी-20 प्रारूप में था, जो कि उनके अंतराष्ट्रीय करियर में अब तक खेले गए केवल दो टी-20 मैचों में से एक है।

नमन ओझा ने जिम्बाब्वे दौरे में खेले दो मैचों में केवल 12 रन बनाए थे, नतीजतन उन्हें टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया। इसके बाद 2015 में श्रीलंका के खिलाफ कोलंबो में उन्हें एकमात्र टेस्ट खेलने का मौका मिला था, लेकिन उसके बाद से उन्हें टीम इंडिया में जगह नहीं मिली है।

आईपीएल में भी उनके दिन गिने-चुने ही रह गए हैं। इस साल के आईपीएल में दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए खेलने वाले ओझा को केवल एक ही मैच खेलने का मौका मिला क्योंकि ऋषभ पंत के रूप में दिल्ली के पास एक उम्दा विकेटकीपर-बल्लेबाज़ मौजूद था।
1 / 4 NEXT
Advertisement
Fetching more content...