Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

4 क्रिकेटर जिन्हें डॉन ब्रैडमैन से भी बेहतर बल्लेबाज माना जाता था

सर डॉन ब्रैडमैन
सर डॉन ब्रैडमैन
EXPERT COLUMNIST
Modified 21 Jun 2020, 12:32 IST
टॉप 5 / टॉप 10
Advertisement

वैसे तो सर डॉन ब्रैडमैन से किसी बल्लेबाज की तुलना करने से पहले बहुत बार सोचा जाना चाहिए लेकिन कुछ ऐसे बल्लेबाज भी हुए जिन्हें अपने समय में ब्रैडमैन से भी बेहतर बल्लेबाज माना जाता था।

डॉन ब्रैडमैन को अभी तक का सबसे बेहतरीन बल्लेबाज माना जाता है लेकिन कुछ लोग हैं जो इसपर सवाल उठा सकते हैं। इस आर्टिकल का ये उद्देश्य नहीं है कि ब्रैडमैन और बाकी के बल्लेबाजों की तुलना करें लेकिन उन बल्लेबाजों पर एक नज़र डालने की कोशिश की गई है जो अपने समय के बहुत ही शानदार बल्लेबाज हुआ करते थे।

आइये नज़र डालते हैं इस लिस्ट में कौन से बल्लेबाज शामिल हैं:

#1 जॉर्ज हेडली 

जॉर्ज हेडली 
जॉर्ज हेडली 

वेस्टइंडीज के जॉर्ज हेडली को 'ब्लैक ब्रैडमैन' कहा जाता था, लेकिन वेस्टइंडीज वाले इसके उलट ब्रैडमैन को 'वाइट हेडली' कहते थे। पनामा में जन्म लेने वाले हेडली एक स्पेनिश बोलने वाले परिवार से आते थे। उनके माता पिता उन्हें डेंटिस्ट बनाना चाहते थे और इसी कारण उन्हें अंग्रेजी सीखने जमैका भेज दिया गया जहाँ उन्होंने क्रिकेट में हाथ आजमाना शुरू किया।

19 साल की उम्र में उन्हें टेनीसन XI के खिलाफ जमैका की टीम में शामिल किया गया। नौबी क्लार्क की तेज़ गेंदबाजी के सामने उन्होंने 16, 71, 211, 40 और 71 के स्कोर बनाए। अगर हेडली वो मैच नहीं खेल पाते तो फिर शायद क्रिकेट को ये अनमोल खिलाड़ी नहीं मिल पाता। 1928 में इंग्लैंड जाने वाली टीम में उन्हें अपने रंग के कारण जगह नहीं मिली। लेकिन 1929 में उन्हें टीम में शामिल किया गया और उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ 8 परियों में 703 रन बनाए। उनके द्वारा चौथे टेस्ट की चौथी पारी में बनाए गए 223 रन आज भी चौथी पारी में किसी भी बल्लेबाज का सबसे बड़ा स्कोर है।

1930-31 के ऑस्ट्रेलिया दौरे में उन्होंने 1000 से ज्यादा रन बनाए और उनके अलावा सिर्फ ब्रैडमैन ही इतने रन बना सके थे। 1932 में इंग्लैंड की प्रथम श्रेणी की टीम के खिलाफ उन्होंने 344 रन बनाए। टेनिसन के इंग्लैंड के खिलाफ उन्होंने सिर्फ 2 बार आउट होते हुए 723 रन बनाए। इसमें उनका निम्नतम स्कोर 84 था और औसत 361.5 था। उनके पास हर तरह के शॉट थे और उन्हें आउट करना लगभग असंभव था। ब्रैडमैन ने भी उनकी तारीफ में कहा था कि वो लेग साइड में बहुत ताकतवर थे और मैं उनकी बहुत इज्जत करता हूँ।

1939 तक वेस्टइंडीज की तरफ से जो 22 शतक लगे थे उसमें से 10 सिर्फ हेडली के थे। उन्हें उस समय एटलस कहा जाता था जो पूरी वेस्टइंडीज टीम की जिम्मेदारी संभाल रहे थे। 1935 की इंग्लैंड सीरीज के आखिरी टेस्ट में उन्होंने 270 रन बनाए थे और वेस्टइंडीज ने पहली बार इंग्लैंड में सीरीज जीती। जमैका के निचले वर्ग के लोगों के लिए वो पहले क्रिकेट सुपरस्टार थे। उन्हें काफी समझदार क्रिकेटर माना जाता था।

1939 में उन्हें कप्तान बनाना चाहिए था लेकिन रंगभेद के कारण उन्हें ये मौका नहीं मिला। लेकिन जब हैडली अपने चरम फॉर्म में थे तब दूसरे विश्व युद्ध ने क्रिकेट पर रोक लगा दी। जब सब कुछ शांत हुआ तब 1948 में उन्हें वेस्टइंडीज का कप्तान बनाया गया जो जमैका के अश्वेतों के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि थी। 45 साल की उम्र में वेस्टइंडीज़ चाहती थी कि 1954 में हेडली टीम में वापसी करें।

Advertisement

जॉर्ज हेडली ने 22 टैस्ट में 60.83 कीई औसत से 10 शतक लगाये। अगर उन्हें अपने समय में ज्यादा मौका मिले होते तो उन्हें ब्रैडमैन के बराबर ही प्रसिद्धि मिलती। हालाँकि रिकॉर्ड इस बात को सही नहीं ठहराते लेकिन जिन्होंने उन्हें खेलते देखा वो उन्हें ब्रैडमैन से बेहतर बल्लेबाज मानते थे।

यह भी पढ़ें - भारत की तरफ से सबसे तेज टेस्ट अर्धशतक लगाने वाले 2 बल्लेबाज

1 / 4 NEXT
Published 21 Jun 2020, 12:32 IST
Advertisement
Fetching more content...
Get the free App now
❤️ Favorites Edit