Create
Notifications
Favorites Edit
Advertisement

IPL 2018: 4 कारण जो दिल्ली डेयरडेविल्स को बनाते हैं ख़िताब के दावेदार

  • गौतम गंभीर की कप्तानी और रिकी पॉन्टिंग की कोचिंग में दिल्ली डेयरडेविल्स पूरी तरह से बदली हुई दिखाई दे रही है
Rahul Pandey
ANALYST
Modified 20 Dec 2019, 18:37 IST
  दिल्ली डेयरडेविल्स का आईपीएल इतिहास अब तक कुछ ख़ास नही रहा है। पहले आईपीएल में सेमीफाइनल तक पहुँचने में सफल रही इस टीम के लगातार संस्करणों में, उनके प्रदर्शन में निरंतर गिरावट आती रही है और वे अपने प्रशंसकों की अपेक्षाओं को पूरा करने में नाकाम रहे। जयवर्धने, युवराज सिंह, सहवाग, जहीर खान जैसे महान खिलाडियों के समय समय पर टीम में होने के बावजूद, डीडी कभी भी वास्तव में सफलता का इंतज़ार ही कर रही है। यह तथ्य इससे पता लगाया जा सकता है कि सक्रिय आईपीएल टीमों के बीच, डीडी एकमात्र ऐसी टीम है जो कभी आईपीएल फाइनल तक नहीं पहुंची है। हालांकि, इस बार उनकी शुरुआत भले ही अच्छी नही रही है, यह टीम कहानी बदलने को तैयार है क्योंकि नीलामी में कई अच्छे खिलाड़ी चुनने के बाद, इस समय के दिल्ली एक बेहद संतुलित टीम है। यहाँ हम ऐसे चार कारणों का पता लगा रहे हैं जो कि दिल्ली को इस आईपीएल का ख़िताब का दावेदार बनाते हैं।  

# 1 विस्फोटक विदेशी बल्लेबाज़


  टी -20 क्रिकेट में किसी भी टीम की सफलता ज्यादातर विस्फोटक बल्लेबाजी और गेंदों पर शक्तिशाली प्रहार करने पर निर्भर करती है। दिल्ली डेयरडेविल्स के पास इस सीजन में सबसे विनाशकारी और विस्फोटक विदेशी बल्लेबाजी संयोजन है। कॉलिन मुनरो, ग्लेन मैक्सवेल, और जेसन रॉय जैसे खिलाड़ियों की टीम शीट को देखते हुए, डीडी कागज पर काफी मजबूत लग रही है। जेसन रॉय इंग्लैंड के लिए काफी समय से शानदार प्रदर्शन कर रहे हैं और इंग्लैंड के सीमित ओवरों के क्रिकेट में कायाकल्प में उनका काफी योगदान है। वह हाल ही में इंग्लैंड के लिए सबसे बड़ा वनडे व्यक्तिगत स्कोर (190) बना चुके हैं। उनके साथ कीवी सलामी बल्लेबाज कॉलिन मुनरो भी हैं, जो कि टी 20 क्रिकेट के पावर हिटर में से एक हैं। मुनरो को हाल ही में कीवी टीम ने एक सलामी बल्लेबाज के रूप में पदोन्नत किया और तब से वह शानदार फॉर्म में चल रहे है, और उन्हें वेस्टइंडीज के खिलाफ हाल में प्लेयर ऑफ द सीरीज़ पुरस्कार मिला था। उनकी क्षमता का अंदाज़ा इस बात से लगाया जा सकता है कि वह 3 अंतर्राष्ट्रीय टी 20 शतक लगाने वाले एकमात्र खिलाड़ी हैं, वह पावरप्ले ओवरों का पूरा फायदा उठा सकते हैं। हालांकि पहले मैच में किंग्स-XI पंजाब के ख़िलाफ़ मुनरो नाकाम रहे थे, पर आने वाले मैचों में उनसे उम्मीद ज़रूर रहेगी। इन दोनों के साथ, डीडी में ग्लेन मैक्सवेल पसंद भी है, जिनका आईपीएल में पिछला प्रदशन ही उनकी क्षमता बताता है, और डेनियल क्रिश्चियन के साथ क्रिस मॉरिस जैसे बल्लेबाजों के पास लम्बे शॉट लगाने और अपने दम पर टीम को मैच जीताने की क्षमता है।
1 / 4 NEXT
Published 09 Apr 2018, 07:45 IST
Advertisement
Fetching more content...