Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

ऑस्ट्रेलिया की टीम पहले टेस्ट में इन 5 क्षेत्रों में भारत पर पूरी तरह हावी रही

Modified 28 Feb 2017, 17:58 IST
Advertisement

टीम इंडिया की पुणे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया से हार वास्तव में इसलिए बड़ी है, क्योंकि वह न केवल घरेलू मैदान पर खेल रही थी, बल्कि लगभग हर चीज उसके अनुरूप ही थी। फिर चाहे मनफाफिक पिच की बात हो या टीम संयोजन की। खुद कप्तान विराट कोहली ने पुणे टेस्ट से पहले प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा था कि पिच उनकी मांग के अनुरूप है। और वह उससे खुश हैं। टीम की बात करें तो यह लगभग वही टीम है, जो इससे पहले के 19 टेस्ट मैचों से हारी नहीं थी। टेस्ट में वर्ल्ड नंबर वन टीम इंडिया के लिए जब सबकुछ अच्छा था, तो फिर कमी कहां रह गई। जाहिर है ऐसे में एक्सपर्ट और क्रिकेट पंडिच इस हार का पोस्टमार्टम कर रहे हैं, और जानने की कोशिश कर रहे हैं कि आखिर कंगारू टीम ने ये कमाल किया तो किया कैसे। अगर आपको लगता है कि ऑस्ट्रेलिया की इस जीत में सिर्फ ओ कीफ और स्मिथ का बड़ा योगदान था, तो आपको इन 5 फैक्टर्स पर भी गौर करना होगा, जिनमें स्मिथ की सेना कोहली की सेना से बेहतर रही :


#1 डिलीवरी की लेंथ

lenth

ऐसा बहुत कम देखने को मिलता है, जब भारत की स्पिन फ्रेंडली पिच पर भारतीय स्पिनर्स से अच्छा प्रदर्शन विरोधी टीम के स्पिनर्स करें। पुणे टेस्ट में स्टीव ओ कीफ और नाथन लॉयन ने मिलकर 17 विकेट चटकाए। जबकि भारतीय स्पिनर्स 14 विकेट ही हासिल कर पाए। खास बात ये है कि भारतीय स्पिनर्स की औसत 30.14 रन प्रति विकेट रही। जबकि ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर्स की औसत 8.29 प्रति विकेट थी। दोनों टीमों में बड़ा अंतर क्या था ? पिच पहले दिन से टर्न करने लगी थी और गेंद ने स्क्वेयर टर्न लेना शुरू कर दिया था। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज स्टीव स्मिथ भी आउट साइड ऑफ स्टंप पर बीच हो रहे थे। इसके बाद जब ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर्स गेंदबाजी के लिए उतरे, तो उन्होंने बल्लेबाज को आगे जाकर शॉट खेलने के लिए मजबूर किया। जिसकी वजह से भारतीय बल्लेबाजों के एज लगे और ऑस्ट्रेलियाई स्पिनर्स ने ज्यादा से ज्यादा विकेट हासिल किए।
1 / 5 NEXT
Published 28 Feb 2017, 17:58 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit