Ashes 2017: क्या स्टीव स्मिथ इन रिकॉर्ड्स में से कोई एक भी तोड़ पाएंगे ?

9d199-1511174893-800

कहते हैं रिकॉर्ड टूटने के लिए ही बनते हैं लेकिन एक आदमी इस नियम के लिए अपवाद रहा है। उस व्यक्ति ने रिकॉर्ड बनाने का इतना ऊंचा मुकाम खड़ा कर दिया है कि कोई भी उसके आसपास के क्षेत्र में प्रवेश करने में सफल नहीं हो सका है। यह महान व्यक्ति कोई और नहीं बल्कि क्रिकेट की दुनिया का बेताज बादशाह और सबसे महान बल्लेबाज सर डोनाल्ड जॉर्ज ब्रैडमैन हैं। सर डॉन ब्रैडमैन की महानता इस तथ्य में निहित है कि 1932 में इंग्लैंड सर्वश्रेष्ठ तेज गेंदबाजों से भरी हुई थी लेकिन उसके पास महान खिलाड़ी को रोकने के लिए कोई हथियार नहीं था। इसलिए डगलस जार्डाइन की कप्तानी के तहत इंग्लिश टीम ने 'बॉडीलाइन' जाल को विकसित किया ताकि वह शॉर्ट बॉल को सीधे उनके शरीर की तरफ फेंक कर उन्हें फंसा सकें। क्रिकेट के इतिहास में इसके पहले और इसके बाद कभी भी किसी भी टीम ने एक बल्लेबाज को रोकने के लिए ऐसा कदम नहीं उठाया। वह सीरीज निश्चित रूप से एशेज सीरीज ही थी, 1882 में ओवल के मैदान पर ऑस्ट्रेलिया के हाथों इंग्लैंड अप्रत्याशित हार पर अंग्रेजी अखबार द्वारा लिखी गई कहानी से शुरू हुई। तब से इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच इस खिताब को लेकर क्रिकेट कैलेंडर की सबसे बड़ी जंग शुरु हो गई और सर ब्रैडमैन इस सीरीज में अभी तक के सबसे बड़े नायक साबित हुए हैं। 52 मैचों के अपने छोटे से करियर में सर ब्रैडमैन ने कुल 37 मैच एशेज सीरीज के लिए खेले थे। उन 37 मैचों में सर ब्रैडमैन ने कई ऐसे रिकॉर्ड बना डाले जो 70 साल बाद आज भी कायम हैं। नजर डालते हैं ऐसे ही 5 रिकॉर्ड पर जो अभी भी डॉन ब्रैडमैन के नाम हैं:

#5 एशेज़ के इतिहास में सर्वाधिक रन

ब्रैडमैन रनों के शंहशाह रहे हैं इसलिए इस लिस्ट का सबसे कम चौंकाने वाला रिकॉर्ड यानि एशेज में सर्वाधिक रन बनाने का रिकॉर्ड सर ब्रैडमैन के नाम ही कायम है। सर ब्रैडमैन ने सिर्फ 37 मैचों में 89.78 की अद्भुत औसत के साथ विशाल 5028 रन बनाये थे । ब्रैडमैन और रनों का साथ चोली दामन का रहा है और इस उपलब्धि को और अधिक विशेष बनाने के लिए एक तथ्य यह भी है कि इस सूची में दूसरा खिलाड़ी उनसे 1392 रन से पीछे है। दूसरे नंबर पर मौजूद एक और महान क्रिकेटर जैक हॉब्स ने 41 टेस्ट में 54.26 की औसत से 3636 रन बनाये। वहीं इस लिस्ट में एलन बॉर्डर ने तीसरे स्थान पर कब्जा किया हुआ है, उन्होंने 47.45 की औसत से 3548 रन बनाए। यद्यपि यह महान प्रदर्शन हैं लेकिन ब्रैडमैन के रिकॉर्ड के आगे काफी कमजोर नजर आते हैं। ब्रैडमैन ने 102.79 के अविश्वसनीय औसत से इंग्लैंड में 2674 रन बनाए। वहीं ऑस्ट्रेलिया में इंग्लैंड के खिलाफ उनका औसत 78.46 का था। वर्तमान खिलाड़ियों में एलिस्टेयर कुक 2117 रनों के साथ सबसे क़रीब हैं।

#4 एक एशेज़ सीरीज़ में सबसे ज्यादा रन

bradman1

8, 131, 254, 1, 334, 14, 232

यह टेस्ट क्रिकेट में स्कोर का सबसे प्रतिष्ठित क्रम है। ऑस्ट्रेलिया के युवा धमाकेदार बल्लेबाज ने इंग्लैंड की सरजमी पर अपनी पहली टेस्ट सीरीज खेलते हुए कुछ ऐसा कर दिया जो पहले कभी नहीं देखा गया था और इस विशेष श्रृंखला के साथ ही क्रिकेट प्रेमियों के दिलों में डॉन ब्रैडमैन ने अपना नाम हमेशा के लिए दर्ज करा दिया। ब्रैडमैन ने 5 टेस्ट मैचों में कुल 974 रन बनाए। ब्रैडमैन द्वारा बनाए गए एक सीरीज में यह रन ना सिर्फ एशेज पर ही लागू है बल्कि अब तक खेली गयी सभी सीरीज में बनाए गए सर्वाधिक रन है, जिसे तोड़ा नहीं जा सका है। इस रिकॉर्ड के जो सबसे करीब बल्लेबाज पहुंच सके वह थे वॉल्टर हैमंड जो 1928-1929 एशेज सीरीज की 9 पारियों में 905 रन बना सके थे। ब्रैडमैन ने नॉटिंघम में खेले गये पहले टेस्ट में 8 और 131 रनों की पारी खेली, लेकिन ऑस्ट्रेलिया 93 रनों से टेस्ट मैच हार गया। दूसरे टेस्ट में, उन्होंने अपना पहला दोहरा शतक बनाया, जिसकी मदद से ऑस्ट्रेलिया 729/6 रनों का पहाड़ खड़ा कर सका। यह रन ऑस्ट्रेलिया के लिए पर्याप्त साबित हुए क्योंकि टेस्ट मैच जीतने के लिए मेहमानों ने अपनी दूसरी पारी में केवल 73 रन का पीछा किया और मैच अपने नाम कर लिया। इसके बाद के टेस्ट मैचों में ब्रैडमैन अपने बल्ले का जादू बिखेरते रहे। लीड्स में शानदार तीहरा शतक (334) और ओवल में धमाकेदार 232 रन बनाकर ब्रैडमैन ने रनों का तूफान ला दिया। इस सीरीज में दूसरा सर्वाधिक स्कोर हर्बर्च सूटक्लिफ के नाम था जिन्होंंने 436 रन बनाये थे।

#3 एशेज सीरीज़ में सर्वाधिक शतक

bradman2

भले ही 13 बल्लेबाज़ ब्रैडमैन के 29 टेस्ट शतकों के रिकॉर्ड को पीछे छोड़ आगे निकल गये हैं, लेकिन कोई भी बल्लेबाजी इतनी तेजी के साथ उसे पा नहीं सका जो कारनामा उन्होंने 52 टेस्ट मैचों में कर दिखाया। इसके अलावा, ब्रैडमैन ने एशेज सीरीज़ के दौरान 19 टेस्ट शतक अपने नाम किए हैं। उनके बाद एशेज सीरीज में सबसे ज्यादा शतक लगाने का नंबर जिसका आता है वह हैं जैक हॉब्स, जिन्होंने 12 शतक अपने रिकॉर्ड बुक में दर्ज किए हैं। 1928-29 एशेज में इंग्लैंड के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया में 2 शतकों से शुरू होने के बाद ब्रैडमैन ने 1930 की श्रृंखला के दौरान 4 शतक बना डाले। 'बॉडीलाइन' सीरीज़ ने ब्रैडमैन को एक सीमा पर रोक कर दिया जब वह 1932 के एशेज में केवल एक ही शतक लगा सके थे। लेकिन वह पूरे स्टाइल के साथ इंग्लैंड वापस लौटे और दूसरा तीहरा शतक जड़ दिया। ब्रैडमैन ने 7 और शतक लगाये जब तक द्वितीय विश्व युद्ध के लिए मजबूर कर क्रिकेट को पूरी तरह से रोक दिया गया था। अपने करियर के बाद के चरण में ब्रैडमैन ने अपने खजाने में 4 और शतक जोड़े और उन्हें कुल 19 एशेज़ शतक तक पहुंचा दिया और यह रिकॉर्ड भी इतने सालों के बाद कायम है।

#2 एशेज़ के एक दिन में सर्वाधिक रन

bradman3

सभी 'एशेज में सबसे अधिक रन', 'एक श्रृंखला में सबसे अधिक' और ' एक दिन में सबसे अधिक रन' : महान व्यक्ति ने रिकॉर्ड किताब के हर एक पन्ने पर अपना नाम दर्ज किया है। 11 जुलाई 1930 को तीसरे एशेज टेस्ट में ब्रैडमैन टेस्ट क्रिकेट में एक दिन में 300 रन बनाने वाले पहले व्यक्ति बने और अब तक ऐसा करने वाले वह एकमात्र खिलाड़ी हैं। ऑस्ट्रेलियाई कप्तान बिल वुडफुल ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। जिसके बाद नंबर 3 पर ब्रैडमैन सालमी बल्लेबाज आर्ची जैक्सन का विकेट गिरने के बाद 2/1 के स्कोर पर बल्लेबाजी करने उतरे। पहले दिन की समाप्ति तक ऑस्ट्रेलिया ने 458 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया, जिसमें ब्रैडमैन 309 रन पर नाबाद रहे। अगले दिन, उन्होंने व्यक्तिगत रूप से 334 रनों की सर्वश्रेष्ठ पारी खेली। इंग्लैंड ने जवाब में 391 रन ही बनाए, और ऑस्ट्रेलिया ने फॉलोऑन पर मजबूर कर दिया। लेकिन बारिश ने मैच में खलल डाल दिया और यह टेस्ट ड्रॉ में समाप्त हो गया। हालांकि वॉल्टर हैमंड (295), वीरेन्दर सहवाग (284), और डेनिस कॉम्पटन (273) इस रिकॉर्ड के बेहद करीब तो पहुंचे लेकिन इसे तोड़ नहीं सके। एशेज के संदर्भ में डॉन ब्रैडमैन ने इस रिकॉर्ड के लिए पहले तीन स्थान पर काबिज है। 1934 में लीड्स में अपना दूसरा तीहरा शतक लगाया और उन्होंने एक ही दिन में 271 रन बनाए थे। अगले टेस्ट में, ब्रैडमैन और बिल पोन्सफोर्ड ने 451 रनों की विश्व रिकॉर्ड साझेदारी की। ब्रैडमैन ने पहले दिन 271 गेंदों पर 244 रनों की पारी खेली। जिसमें उन्होंने अविश्वसनीय 90 की स्ट्राइक रेट से रन बनाये।

#1 एशेज में सर्वाधिक दोहरे व तीहरे शतक

bradman4

रनों के लिए अतृप्त भूख का मतलब था कि जब भी सर डॉन ने 100 रनों का आंकड़ा पार किया, उन्होंने यह सुनिश्चित किया कि वह बड़ी पारी खेलेंगे। उनके दो तीहरे शतक और 12 दोहरे शतक अब भी टेस्ट क्रिकेट में विश्व रिकॉर्ड हैं। कुछ खिलाड़ी इस रिकॉर्ड लिस्ट में उनके करीब पहुंचने में कामयाब हुए, लेकिन कोई भी इसे अभी तक नहीं पार कर पाया है। वहीं एशेज के संदर्भ में, वह बाकियों से काफी आगे नजर आते हैं। इंग्लैंड के खिलाफ 2 ट्रिपल सेंचुरी और 6 दोहरे शतक के साथ वह इस श्रेणी में दूसरे सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन से दोगुने हैं। वाल्टर हैमंड ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 4 दोहरे शतक के साथ दूसरे स्थान पर हैं। लीड्स चार साल के अंतराल के अंदर सर डॉन द्वारा लगाये गए दो तीहरे शतकों का गवाह बना। 1930 की एशेज सीरीज़ में उन्होंने बेहतरीन 334 रन बनाए, जहां उन्होंने एक ही दिन में 309 रन का स्कोर बनाकर इंग्लिश बॉलिंग लाइनअप को तहस नहस कर दिया था। यह उनकी महानता का एक प्रमाण है कि आज के युग में आसान बल्लेबाजी पिच और छोटी बाउंड्री होने के बावजूद उनका वह रिकॉर्ड आज भी कायम है। उनके 6 दोहरे शतक समान रूप से ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड की भूमि के बीच विभाजित थे। 270, 234 और 212 के स्कोर क्रमशः मेलबर्न, सिडनी और एडिलेड में आए थे, जबकि लॉर्ड्स और ओवल ब्रैडमैन के 254, 244 और 232 रनों का गवाह रहा था। मेलबर्न में उनके द्वारा बनाये गये 270 रन का विशेष उल्लेख होना चाहिए क्योंकि इस पारी को विस्डेन ने 'सर्वश्रेष्ठ खेली गयी पारी' के रूप में चुना था। मेलबर्न में बादल छाए रहने की स्थिति को देखते हुए, ब्रैडमैन ने अपने बल्लेबाजी क्रम को तीसरी पारी में उलट दिया। वह सातवें नंबर पर बल्लेबाजी करने के लिए आए थे जब टीम 97/5 के साथ संकट से जूझ रही थी। उन्होंने जैक फिंग्लटन के साथ 6ठे विकेट के लिए 346 रन बनाए। जिसके बाद ऑस्ट्रेलिया यह मैच 365 रन के विशाल अंतर से जीत गया। लेखक- ओमकार मांकमे अनुवादक- सौम्या तिवारी

Edited by Staff Editor