Create
Notifications

IPL में ये 5 ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी साबित हुए क़ामयाब कप्तान

Himanshu Kothari

क्रिकेट के खेल में ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी जहां भी खेलते हैं वहां पर हावी होने के लिए जाने जाते है। इंडियन प्रीमीयर लीग में भी कई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी ने अपना दबदबा कायम किया। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों की क्षमता पर कई आईपीएल फ्रैंचाइजी ने भी भरोसा जताया, जिसके चलते ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों को आईपीएल में टीम की कप्तानी करने का भी मौका दिया गया। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी अपने आक्रामक दिमाग के लिए जाने जाते हैं। खेल किस ओर जा सकता है इसको भांपने की भी क्षमता ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी रखते हैं। ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी कप्तान के रूप में भी टीम के लिए अपनी जी जान लगा देते हैं। अपनी आक्रामकता के चलते ही ग्लेन मैक्सवेल को किंग्स इलेवन पंजाब का नेतृत्व करने का मौका दिया गया था। इंडियन प्रीमीयर लीग में भी कई ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों ने टीम की कप्तानी की है और आईपीएल में कप्तान के तौर पर सफलता भी हासिल की है। आइए जानते हैं उन ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ियों के बारे में जो आईपीएल में कामयाब कप्तान बने...

#5 जॉर्ज बेली

दाएं हाथ के मध्यक्रम वाले बल्लेबाज जॉर्ज बेली ने माइकल क्लार्क की अनुपस्थिति में ऑस्ट्रेलियाई टीम का नेतृत्व किया था। वहीं उन्होंने महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपर किंग्स के लिए अपने आईपीएल के करियर का आगाज किया था। हालांकि बाद में वे किंग्स इलेवन पंजाब की टीम में शामिल हो गए, जहां साल 2014 में उन्हें कप्तान के तौर पर नियुक्त किया गया। साल 2014 में जॉर्ज बेली की कप्तानी में किंग्स इलेवन पंजाब ने शानदार प्रदर्शन किया। शांत स्वभाव वाले जॉर्ज बेली ने कप्तानी में अपना लोहा मनवाया और किंग्स इलेवन पंजाब को आईपीएल 2014 के फाइनल में एंट्री दिलवा दी। साल 2014 आईपीएल में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए एक बेहतरीन साल के तौर पर दर्ज हो गया। 2014 में जॉर्ज बेली की कप्तानी में टीम ने 14 मैच खेले। जिनमें 11 मैचों में टीम ने जीत हासिल की और अंक तालिका में शीर्ष पर बनी रही।

#4 स्टीव स्मिथ

वर्तमान में ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट टीम के कप्तान स्टीव स्मिथ हैं। स्टीव स्मिथ ने इंडियन प्रीमीयर लीग में पुणे वॉरियर्स इंडिया के लिए खेलते हुए आईपीएल करियर का आगाज किया था। इसके बाद आईपीएल में उन्होंने कई दूसरी फ्रेंचाइजी के लिए भी खेला। साल 2015 के आईपीएल सीजन में शेन वॉटसन कप्तान थे, लेकिन टूर्नामेंट में आगे चलकर वॉटसन की जगह उन्होंने कप्तानी संभाली। स्मिथ ने यह सुनिश्चित किया कि गत विजेता कोलकाता नाइट राइडर्स को हराकर रॉयल्स प्ले ऑफ में अपनी जगह बना ले। हालांकि वे एलिमिनेटर में आरसीबी से हार गए, लेकिन कुल मिलाकर स्मिथ की कप्तान के रूप में खराब शुरुआत नहीं हुई थी। इसके बाद राजस्थान रॉयल्स पर दो साल का प्रतिबंध लगा दिया गया। जिसके कारण राइजिंग पुणे सुपरज्वॉइंट्स ने स्मिथ को अपने साथ जोड़ लिया और आईपीएल में राइजिंग पुणे सुपरज्वॉइंट्स का स्मिथ ने साल 2017 के सीजन में नेतृत्व किया। आईपीएल में साल 2017 में राइजिंग पुणे सुपरज्वॉइंट्स की कप्तानी के लिए उनका प्रदर्शन काफी शानदार रहा। इस सीजन में उन्होंने टीम को फाइनल तक पहुंचा दिया। हालांकि फाइनल में इनकी टीम महज 1 रन से खिताब को अपने नाम करने से रह गई और आखिर में हार का सामना करना पड़ा। साल 2017 के आईपीएल सीजन में स्मिथ की कप्तानी में पूरी टीम ने काफी उत्साहजनक प्रदर्शन किया। इस सीजन में स्मिथ की कप्तानी में टीम ने 14 मुकाबले खेले और 9 में जीत हासिल की। इसके अलावा स्मिथ की टीम इस सीजन में मुंबई इंडियंस टीम पर भी हावी रही। मुंबई के खिलाफ पुणे ने 4 मुकाबलों में से 3 में जीत हासिल की। अब साल 2018 में आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की वापसी के बाद उन्हें राजस्थान ने रिटने किया है और अब इस सीजन वो राजस्थान के लिए कप्तानी करते हुए दिखाई दे सकते हैं।

#3 डेविड वॉर्नर

बाएं हाथ के सलामी बल्लेबाज डेविड वॉर्नर आईपीएल में सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाजों में से एक है। एक बल्लेबाज के तौर पर तो डेविड वॉर्नर शानदार बल्लेबाजी करते ही हैं, कप्तानी में भी डेविड वार्नर टीम की बेहतरीन तरीके से अगुवाई करने में सफल साबित हुए हैं। डेविड वॉर्नर एक आक्रामक ऑस्ट्रेलियाई कप्तान है, जो मैदान पर किसी भी प्रकार के दांव पेंच खेलने से पीछे नहीं हटते हैं। साथ ही यह कमाल की बात है कि उनकी कप्तानी ने उनकी बल्लेबाजी में भी बदलाव ला दिया। डेविड वार्नर एक ऐसे कप्तान हैं जो बल्लेबाजी में भी आखिरी तक टीम के लिए रन स्कोर कर सकते हैं। साल 2016 के आईपीएल में डेविड वॉर्नर सनराइजर्स हैदराबाद के सबसे सुसंगत बल्लेबाज थे। साथ ही इस सीजन में वे बल्लेबाज के अलावा टीम के कप्तान भी थे। अपनी बल्लेबाजी और कप्तानी के दम पर इस सीजन में उन्होंने अपनी टीम को आईपीएल का विजेता बना दिया। वहीं साल 2017 में डेविड वार्नर अपनी टीम को प्ले ऑफ में ले जाने से महज एक कदम पीछे रह गए।

#2 एडम गिलक्रिस्ट

ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट विश्व में क्रिकेट के सबसे खतरनाक बल्लेबाजों में से एक थे। रिकी पोंटिंग की अनुपस्थिति में वे ऑस्ट्रेलियाई टीम की अच्छे से अगुवाई करते थे। रिकी पोंटिंग की गैरहाजरी में ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी करते उन्होंने भारत में एक टेस्ट सीरीज भी जीती है। आईपीएल में डेक्कन चार्जर्स की टीम ने साल 2008 में खराब शुरुआत की थी। इस सीजन में वो अंक तालिका में आखिरी पायदान पर रही। इसके बाद साल 2009 का आईपीएल संस्करण दक्षिण अफ्रीका में खेला गया। इस बार गिलक्रिस्ट डेक्कन चार्जर्स के कप्तान थे। एडम गिलक्रिस्ट ने साल 2009 के आईपीएल सीजन में टीम का शानदार नेतृत्व किया और आखिर में टीम को खिताब जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा की। इस खिताब के साथ ही एडम गिलक्रिस्ट ऐसे दूसरे आस्ट्रेलियाई कप्तान बन गए, जिनकी कप्तानी में आईपीएल की टीम ने खिताब अपने नाम किया हो। इसके बाद वो किंग्स इलेवन पंजाब से जुड़ गए, जहां उन्हें ज्यादा सफलता नहीं मिली।

#1 शेन वॉर्न

ऑस्ट्रेलिया के महानतम गेंदबाजों में से एक शेन वॉर्न ने भी आईपीएल में अपना जलवा दिखाया। अपनी गेंदबाजी के अलावा अपनी कप्तानी से भी उन्होंने लोगों को आईपीएल के पहले सीजन से ही प्रभावित कर दिया। साल 2008 के पहले संस्करण में ही शेन वॉर्न को राजस्थान रॉयल्स का कप्तान नियुक्त किया गया। आईपीएल के पहले संस्करण में राजस्थान रॉयल्स की टीम युवाओं की टीम थी। इस टीम में मुश्किल से ही कोई बड़े नाम वाला खिलाड़ी था। लेकिन इस टीम के पास शेन वॉर्न जैसा कप्तान था। जिसने टीम को एक साथ बांधे रखा और टीम की जीत के लिए जी जान लगा दी। अपनी शानदार कप्तानी के बदौलत शेन वॉर्न ने आईपीएल के पहले सीजन में ही राजस्थान रॉयल्स को खिताब जीता दिया। अब शेन वॉर्न को इस सीजन से राजस्थान रॉयल्स के मेंटोर के रूप में नियुक्त किया गया है। लेखक: प्राटे ख़ान अनुवादक: हिमांशु कोठारी

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...