Create

5 ऐसे बल्लेबाज़ जिन्होंने अपने पहले वनडे शतक से पहले लगाया था रनों का अंबार

शारिक़ुल होदा Shariqul Hoda

साल 1971 में इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच पहला वनडे मैच खेला गया था। वनडे का इतिहास अपने 50वें साल की तरफ़ धीरे-धीरे बढ़ रहा है। पिछले कई दशकों में वनडे के नियमों में कई बदलाव भी आए हैं। पहले 60 ओवर का मैच होता था और 1 ओवर में 8 गेंद फेंकी जाती थी। वनडे फ़ॉर्मेट अब 11 वर्ल्ड कप पुराना हो चुका है, टी-20 के आगमन से 50 ओवर का खेल अपने वजूद की लड़ाई भी लड़ रहा है। लेकिन आज भी काफ़ी क्रिकेट फ़ैंस वनडे को ही सबसे ज़्यादा पसंद करते हैं। वनडे की तुलना अक्सर टेस्ट मैच की संजीदगी और टी-20 के रोमांच से की जाती है। क्रिकेट फ़ैस वनडे में भी तेज़ी से रन बनते देखना पसंद करते हैं। वनडे में शतक बनाना हर खिलाड़ी की कोशिशों में शुमार होता है। ये कोशिश और भी तेज़ हो जाती है जब टीम बड़े लक्ष्य का पीछा कर रही होती है। मास्टर ब्लास्टर यानी सचिन तेंदुलकर ने वनडे से संन्यास लेने के वक़्त 49 शतक बना डाले थे, लेकिन ये काम उनके लिए इतना आसान नहीं रहा था। सचिन ने अपना पहला वनडे शतक बनाने के लिए 78 मैच का वक़्त लिया था। क्रिकेट इतिहास में कई ऐसे क्रिकेटर हैं जिनको पहला शतक बनाने में सचिन से भी ज़्यादा वक़्त लगा है। शॉन पोलॉक ने 189वें मैच में पहला वनडे शतक लगाया था। अगर पहले वनडे शतक से पहले सबसे ज़्यादा रन बनाने की बात हो तो सचिन और पोलॉक दोनों ही इस लिस्ट में शामिल नहीं हैं। हम यहां उन 5 खिलाड़ियों के बारे में बता रहे हैं जिन्होंने वनडे में शतक बनाने से पहले सबसे ज़्यादा रन बनाए थे।

#5 मार्क बाउचर

मैच - 219; पारी – 159 ; रन - 3183; औसत - 26.52; सर्वाधिक स्कोर- 76

दक्षिण अफ़्रीका के पूर्व विकेटकीपर-बल्लेबाज़ मार्क बाउचर ने अपने वनडे करियर की शुरुआत साल 1998 में की थी। बतौर विकेटकीपर उनका रिकॉर्ड शानदार रहा है, उन्होंने अपने वनडे करियर में 425 शिकार किए हैं। बाउचर मध्य क्रम के उपयोगी बल्लेबाज़ रहे हैं। बाउचर ख़ासकर छठे और सांतवें नंबर पर बल्लेबाज़ी करने आते थे, यही वजह है कि उन्हें पिच पर ज़्यादा देर तक रहने का वक़्त नहीं मिल पाता था। उन्होंने अपना पहला शतक 220वें वनडे मैच में बनाया था, तब तक उन्हें वनडे में 8 साल का तजुर्बा हो चुका था। उन्होंने ज़िम्बाब्वे के ख़िलाफ़ महज़ 44 गेंदों में पहला शतक लगाया था। उन्होंने 68 गेंदों में 147 रन की पारी खेली थी। साउथ अफ़्रीका ने पहले खेलते हुए 418 रन का स्कोर खड़ा किया था और ये मैच 151 रन से जीता था। बाउचर ने इसके बाद वनडे में कोई भी शतक नहीं बनाया। उन्होंने कुल 295 वनडे मैच में 28.57 की औसत से 4686 रन बनाए हैं।

#4 एंजेलो मैथ्यूज़

मैच - 137; पारी - 115; रन - 3213; औसत - 39.18; सर्वाधिक स्कोर- 82

श्रीलंका के ऑलराउंडर एंजेलो मैथ्यूज़ ने अपने देश के लिए क्रिकेट के हर फ़ॉर्मेट में योगदान दिया है। अपने अंतरराष्ट्रीय करियर के दौरान वो कई बार चोट का शिकार हुए थे। वो मध्य क्रम में बल्लेबाज़ी करने आते थे, कभी कभी उन्होंने निचले क्रम में भी बल्लेबाज़ी की है। मैथ्यू ने साल 2008 में वनडे में डेब्यू किया था। उन्होंने 115 पारियों तक एक भी शतक नहीं बनाया था। अपनी 116वीं पारी के दौरान उन्होंने रांची के मैदान पर भारत के ख़िलाफ़ 116 गेंदों में 139 रन बनाए थे। भारत ने इस मैच में 287 रन के लक्ष्य का पीछा किया था और सीरीज़ पर 5-0 से कब्ज़ा जमाया था। #3 एल्टन चिगुंबुरा मैच - 173; पारी - 160; रन - 3468; औसत - 24.94; सर्वाधिक स्कोर- 90 जिंम्बाब्वे के इस खिलाड़ी ने 200 से ज़्यादा वनडे मैच खेलेहैं। उन्होंने साल 2004 में अपने वनडे करियर की शुरुआत की थी। उन्होंने क़रीब 18 महीने तक वनडे और टी-20 में ज़िम्बाब्वे की कप्तानी भी की थी। चिंगुंबुरा के पास हरफ़नमौला हुनर मौजूद है। उन्होंने अपने करियर में सिर्फ़ 2 शतक बनाए हैं वो भी लगातार 2 मैचों में। उन्हें अपने पहले शतक के लिए काफ़ी इंतेज़ार करना पड़ा। पहले 173 वनडे मैच मॆं उन्होंने 3468 रन बनाए थे, लेकिन एक भी शतक अपने नाम नहीं किया था। ये शतक पाकिस्तान के ख़िलाफ़ बना था। लाहौर के गद्दाफ़ी स्टेडियम में 376 रन का पीछा करते हुए जिंम्बाब्वे टीम 41 रन से पीछे रह गई थी। इस मैच में चिगुंबुरा ने 95 गेंद पर 117 रन बनाए थे। इसके अलगे ही मैच में भारत के ख़िलाफ़ चिगुंबुरा ने दूसरा शतक लगाया था।

#2 स्टीव वॉ

मैच - 186; पारी - 166; रन - 3863; औसत - 30.41; सर्वाधिक स्कोर- 86

ये बड़े ताज्जुब की बात है कि जिस खिलाड़ी ने टेस्ट मैच में 32 शतक अपने नाम किया हो उसने वनडे में महज़ 3 शतक लगाया है। ऑस्ट्रेलिया के महान क्रिकेटर स्टीव वॉ टॉप ऑर्डर में बल्लेबाज़ी करते थे। टेस्ट के मुक़ाबले उन्हें वनडे में काफ़ी कम वक़्त के लिए बल्लेबाज़ी करने का मौक़ा मिलता था। स्टीव वॉ क्रिकेट इतिहास के महानतम कप्तानों में से एक हैं। वॉ एक आक्रामक बल्लेबाज़ थे लेकिन वो हालात के मुताबिक बल्लेबाज़ी करना जानते थे। उन्होंने कई बार कंगारू टीम के लिए मैच जिताऊ पारी खेली है। अपने पहले शतक से पहले वो 166 पारियों में 3863 रन बना चुके थे। स्टीव ने अपना पहला वनडे शतक मेलबर्न के एमसीजी मैदान में लगाया था। उन्होंने साल 1996 में श्रीलंका के ख़िलाफ़ 102 रन बनाए थे। इसके बाद स्टीव ने 2 और शतकीय पारी खेली थी, ये दोनों पारियां प्रोटियास टीम के ख़िलाफ़ खेली गई थी। साल 1999 के वर्ल्ड कप के सुपर सिक्स मैच में उन्होंने दक्षिण अफ़्रीका के खिलाफ़ 120 रन बनाए थे। इस पारी की बदौलत स्टीव की टीम सेमीफ़ाइनल में पहुंची थी।

#1 अजुर्न रणतुंगा

मैच - 152; पारी - 144; रन - 4100; औसत - 34.74; सर्वाधिक स्कोर- 98

श्रीलंका के पूर्व कप्तान अजुर्न रणतुंगा इस लिस्ट में टॉप पर हैं। उन्हें पहले वनडे शतक के लिए 12 साल का इंतेज़ार करना पड़ा था। साल 1982 में रणतुंगा ने अपने वनडे करियर का आग़ाज़ किया था। 152 वनडे मैच तक उन्होंने कोई भी शतक नहीं लगाया था, लेकिन उन्होंने 4100 रन बना लिए थे। साल 1996 वर्ल्ड कप में उन्होंने अपनी कप्तानी में श्रीलंका को वर्ल्ड चैंपियन बनाया था। 1990 के दशक में श्रीलंका टीम का प्रदर्शन शानदार रहा था। साल 1994 में डरबन के किंग्समीड मैदान में पाकिस्तान के ख़िलाफ़ रणतुंगा ने अपने वनडे करियर का पहला शतक लगाया था। उन्होंने इस मैच में नाबाद 101 रन बनाया था, लेकिन वो श्रीलंका को हार से बचाने में नाकाम रहे थे। रणतुंगा ने इसके अलावा 3 और वनडे शतक बनाया था। लेखक – प्रांजल मेच अनुवादक – शारिक़ुल होदा

Edited by Staff Editor

Comments

Fetching more content...