Create
Notifications

5 ऐसे बल्लेबाज जिनका प्रदर्शन करियर के ढलान पर आते-आते अच्छा नहीं रहा

वीरेंदर सहवाग
वीरेंदर सहवाग
सावन गुप्ता
visit

किसी भी खिलाड़ी के लिए हमेशा करियर के पीक पर रहना आसान नही होता है। जरुरी नही कोई खिलाड़ी हमेशा अच्छे फॉर्म मे ही हो। दुनिया में कई ऐसे सफल खिलाड़ी हुए हैं जिनका प्रदर्शन करियर के अंत तक आते-आते गिर गया। कई खिलाड़ियों के साथ ऐसा हुआ है।

हम आपको इस आर्टिकल में 5 ऐसे ही दिग्गज खिलाड़ियों के बारे में बताएंगे जिनका प्रदर्शन करियर के ढलान पर आते-आते अच्छा नहीं रहा। ये अपने जमाने के दिग्गज खिलाड़ी थे लेकिन करियर के आखिरी पड़ाव पर इनका प्रदर्शन उतना अच्छा नहीं रहा।

आइए आपको बताते हैं उन 5 बल्लेबाजों के बारे में जिनका प्रदर्शन अपने करियर के अंतिम पड़ाव पर उतना अच्छा नहीं रहा जितना कि शुरुआत में था।

5 खिलाड़ी जिनका प्रदर्शन करियर के अंतिम पड़ाव पर अच्छा नहीं रहा

1.एडम गिलक्रिस्ट

एडम गिलक्रिस्ट
एडम गिलक्रिस्ट

गिलक्रिस्ट अपने जमाने के धाकड़ बल्लेबाज थे। आज भी जब ऑल टाइम महान खिलाड़ियों की टीम बनती है तो विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर गिलक्रिस्ट का नाम जरुर आता है। उनकी काबिलियत का अंदाजा आप इसी बात से लगा सकते हैं कि अपने करियर के दौरान उन्हे एक भी टेस्ट मैच से ड्रॉप नही किया गया। अगर दुनिया भर के विकेटकीपरों की बात करें तो गिलक्रिस्ट ने अपने समकालीन खिलाड़ी मार्क बाउचर से लगभग 2300 रन ज्यादा बनाए हैं।

अगर हम गिलक्रिस्ट के करियर को दो भागों में बांटें तो वो एकदम अलग नजर आता है। 2005 एशेज सीरीज से पहले गिलक्रिस्ट एकदम अलग खिलाड़ी थे। उनका बल्ला जमकर बोल रहा था। लेकिन 2005 एशेज सीरीज के बाद गिलक्रिस्ट के बल्ले की धार कम हो गई।

2005 एशेज सीरीज से पहले उन्होंने 68 टेस्ट मैचो में 55.65 की औसत से 4500 रन बनाए थे। लेकिन उसके बाद 28 टेस्ट मैचो में गिलक्रिस्ट महज 30.21 की औसत से ही रन बना पाए। इस दौरान वो सिर्फ 2 ही शतक लगा पाए। हालांकि इस दौरान उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ पर्थ टेस्ट में टेस्ट इतिहास का दूसरा सबसे तेज शतक जड़ा।

2.रिकी पोटिंग

रिकी पोंटिंग
रिकी पोंटिंग

रिकी पोटिंग दुनिया के शायद इकलौते ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने महान सचिन तेंदुलकर के लिए रनों के मामले में चैलेंज पैदा किया। कई बार ऐसा लगा कि वो तेंदुलकर का रिकॉर्ड तोड़ सकते हैं। अगर ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेट इतिहास को उठाकर देखें तो डॉन ब्रेडमैन और ग्रेग चैपल के बाद महान बल्लेबाजों की सूची में पोटिंग का नाम आएगा।

2001 से लेकर 2006-07 की एशेज सीरीज तक रिकी पोटिंग का करियर अपने पीक पर रहा। इन 5 सालों में उन्होंने 70 की भी ज्यादा औसत से टेस्ट क्रिकेट में 6 हजार रन बनाए। हालांकि इसके बाद उनका फॉर्म गिरता गया।

मार्च 2010 तक उन्होंने भले ही उस तरह की बल्लेबाजी नही कि लेकिन रन फिर भी वो बनाते रहे। पोटिंग एकदम से फ्लॉप नही हुए। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान माइकल क्लार्क से विवाद के बाद नवंबर 2012 में उन्होंने क्रिकेट से संन्यास ले लिया।

मार्च 2010 के बाद पोटिंग 26 टेस्ट मैचो में सिर्फ 33.75 की औसत से ही रन बना पाए। इस दौरान उनके बल्ले से केवल 2 ही शतक निकले। इसकी वजह से उनके ओवरऑल करियर का औसत 55.68 से घटकर 51.85 रह गया।

3. सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

बहुत से लोगों का मानना था कि 2011 वर्ल्ड कप के बाद सचिन तेंदुलकर को संन्यास ले लेना चाहिए था। लेकिन कहना अलग बात और उसे करना अलग बात। ये तब और भी मुश्किल हो जाता है जब कोई बल्लेबाज अपने करियर में 99 शतक लगा चुका हो और शतकों का शतक पूरा करने के लिए उसे महज 1 ही शतक चाहिए हों। 2011 वर्ल्ड कप में तेंदुलकर का प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। उन्होंने टूर्नामेंट में 482 रन बनाए। उनसे ज्यादा सिर्फ तिलकरत्ने दिलशान के ही रन थे जिन्होंने 500 रन बनाए।

वर्ल्ड कप से कुछ ही महीने पहले तेंदुलकर ने साउथ अफ्रीका में शानदार शतक जड़ा था। टेस्ट और वनडे दोनो ही फॉर्मेट में तेंदुलकर अच्छा प्रदर्शन कर रहे थे। हालांकि इसके बाद तेंदुलकर का प्रदर्शन अचानक एकदम नीचे आ गया। उस समय से लेकर अपने संन्यास के समय तक तेंदुलकर ने 23 टेस्ट मैच खेले। लेकिन हैरानी की बात ये रही कि 39 पारियों में वो एक भी शतक नहीं लगा सके। उनका औसत सहवाग और गंभीर से भी नीचे चला गया। हालांकि इस दौरान उन्होंने अपने शतकों का शतक जरुर पूरा किया।

4. विव रिचर्ड्स

विव रिचर्ड्स
विव रिचर्ड्स

विव रिचर्ड्स दुनिया के महान क्रिकेटरों में से एक हैं। दुनिया के किसी भी गेंदबाज की धज्जियां उड़ाने में वो सक्षम थे। वो इतनी विस्फोटक बल्लेबाजी करते थे कि गेंदबाज को लाइन लेंथ पर ध्यान देने का मौका ही नहीं मिलता था।

रिचर्ड्स ने अपने खेल से क्रिकेटरों की पूरी जेनरेशन को प्रभावित किया। कई खिलाड़ी आज भी उन्हे अपना आइडल मानते हैं। हालांकि करियर के अंतिम पड़ाव पर आकर उनके बल्ले से रन निकलना कम हो गए। दिसंबर 1988 के बाद उनका प्रदर्शन गिरता गया।

5. वीरेंदर सहवाग

वीरेंदर सहवाग
वीरेंदर सहवाग

विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग दुनिया के महान सलामी बल्लेबाजों में से एक हैं। जब तक वो क्रीज पर रहते थे रन काफी तेज गति से बनते थे। क्रिस गेल के बाद सहवाग बाउंड्री से रन बनाने के मामले में दूसरे नंबर पर हैं। गेल ने 66.15 प्रतिशत रन बाउंड्री से बनाए तो सहवाग ने 63.80 प्रतिशत रन बाउंड्री से बनाए। सहवाग सिंगल-डबल पर विश्वास नहीं रखते थे और सिर्फ चौके-छक्कों की मदद से वो अपनी पारी को आगे बढ़ाते थे।

वो शायद दुनिया के अकेले ऐसे बल्लेबाज होंगे जो अपने करियर के पहले तिहरे शतक के मुहाने पर खड़े होकर छक्का लगाने की हिम्मत रखते हों। उन्होंने अपने टेस्ट करियर में एक नहीं बल्कि 2-2 तिहरे शतक जड़े, लेकिन उनका बल्ला भी करियर के अंत में खामोश होने लगा। 2010 से लेकर 2013 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अपनी आखिरी सीरीज तक सहवाग का बल्ला खामोश ही रहा। इस दौरान 20 टेस्ट मैचो में सहवाग केवल एक ही शतक लगा पाए। उनका औसत महज 28.77 का रह गया।

Edited by सावन गुप्ता
Fetching more content...
Article image

Go to article
App download animated image Get the free App now