Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

नम्बर तीन पर बल्लेबाजी करने वाले 5 महान बल्लेबाज

Modified 03 Sep 2017
Advertisement

क्रिकेट के खेल को कई वर्षों के दौरान कई बदलावों से गुजरना पड़ा है, जहां सफेद कपड़े रंगीन हो गये तो वहीं टेस्ट की जगह ओडीआई और फिर टी-20 ने ले ली। इस खेल के तीन अलग-अलग स्वरूप अपने आप में विशिष्ट कौशल की मांग करते हैं और ऐसे बहुत कम खिलाड़ी हैं जो एक प्रारूप से दूसरे प्रारूप में आने पर अपने आपमें बदलाव कर सकते हैं और प्रारूप की जरूरतों के अनुरूप खेल सकते हैं।

प्रत्येक खिलाड़ी की टीम में एक विशिष्ट भूमिका होती है, लेकिन नंबर 3 का स्पॉट शायद उन सभी में से सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है। नंबर 3 पर उतरने वाले खिलाड़ी से जल्दी विकेट गिर जाने पर टीम में स्थिरता लाने की उम्मीद की जाती है और यह भी उम्मीद की जाती है कि अगर टीम अच्छी शुरुआत करने में नाकामयाब हो गई है, तो वह अपने बल्ले से टीम के स्कोर बोर्ड को बेहतर बनाये।

जब एक बल्लेबाज बल्लेबाजी करते आता है तो अच्छी तकनीक उसके लिए महत्वपूर्ण है क्योंकि उसे दोनों गेंदबाजी यानि गति और स्पिन का सामना करने के लिए तैयार होना आवश्यक है। आंकड़े यह साबित करते हैं कि एक टीम हमेशा अच्छा प्रदर्शन करती है जब नंबर 3 के बल्लेबाज़ ने परफॉर्म किया है जैसे विराट कोहली और वनडे में भारत का लक्ष्य का पीछा करने का रिकॉर्ड भी यह साबित करता है।

कोहली की बात करें, तो भारतीय कप्तान इस समय इंग्लैंड के जो रूट के साथ विश्व के सबसे महान बल्लेबाज हैं। उनकी निरंतरता का स्तर काफी अच्छा है और वास्तव में खेल में अपनी महानता को स्थापित किया है।

हालांकि, खेल के उच्चतम स्तर पर बने रखने के लिए उन्हें अभी लंबा रास्ता तय करना है और नंबर 3 पर टॉप 5 बेस्ट खिलाडियों की सूची में इन्हें शामिल करना अभी थोड़ी जल्दबाजी होगी। लेकिन हां टॉप-10 की सूची जगह दी जा सकती है, लेकिन शीर्ष 5 में अभी नहीं, खासकर तब जब आपके पास उनसे आगे महान खिलाड़ियों की सूची मौजूद हो-

Advertisement

#1 सर डॉन ब्रैडमैन

sirdon

यह ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज खेल के सिर्फ एक ही प्रारूप को खेल सका है लेकिन सच तो यही है कि बल्ले के साथ उनका विध्वंस ये बताने के लिए काफी है कि आखिर क्यों एक फॉर्मेट में खेलने के बावजूद इस महान बल्लेबाज को पूरे समय के नंबर 3 के पांच बल्लेबाजों में जगह दी गई है

सर ब्रैडमैन ने अपने युग के दौरान इस खेल पर अपना वर्चस्व कायम किया, जैसा कोई भी प्रतिद्वंदी और आसपास भी आ पाया जब क्रिकेट अनकवर्ड पिचों में खेल जाता था। ऐसी सतहों पर रन बनाना आसान नहीं था, विशेष रूप से इस तथ्य को जानने के बावजूद डॉन ने बहुत कम सुरक्षा से बल्लेबाजी की क्योंकि उस समय हेड गिर और अन्य सुरक्षा उपकरण नहीं प्रचलित थे - कुछ इंग्लैंड ने अपने कुख्यात बॉडीलाइन रणनीति के साथ फायदा उठाने की कोशिश की। जिस आसानी से ब्रैडमैन ने विरोधियों पर रनों की बौछार की वह आज भी सांख्यिकविदों को चकरा देती है क्योंकि वह टेस्ट क्रिकेट में अपनी 52 पारियों में 99.94 की औसत से बल्लेबाजी कर चुके हैं।

6996 में से 5078 रन उनके बल्ले से तब निकले हैं जब उन्होंने नंबर 3 पर बल्लेबाजी की है। तीसरे नंबर पर उनका बल्लेबाजी औसत 103.63 का था जो अविश्वसनीय है। जबकि उनके 29 शतकों में से 20 शतक नंबर तीन पर बल्लेबाजी करते हुए ही आये हैं।

उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के कप्तान के रूप में ज्यादा समय बिताया लेकिन इस अतिरिक्त जिम्मेदारी को उनकी बल्लेबाजी को प्रभावित नहीं करने दिया, खासकर अपने कड़ी एशेज सीरीज के दौरान भी।यह केव अनुमान लगाया जा सकता है कि वह सीमित ओवरों के क्रिकेट में कैसे प्रदर्शन करेंगे, लेकिन एक ऐसा खिलाड़ी जो टेस्ट मैच के एक दिन में 300 से ज्यादा रन बना सकता है लेकिन डॉन का वह हमलावर रूख देखने योग्य होगा।

  don bradman

1 / 5 NEXT
Published 03 Sep 2017, 12:56 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now