Create
Notifications

क्रिकेट में बल्ले को लेकर हुए 5 बड़े विवाद, आईपीएल में भी दिखा असर

ANALYST
Modified 03 Oct 2020
टॉप 5 / टॉप 10

#4 आंद्रे रसेल - काले रंग का चमकीले विलो वाला बल्ला

आंद्रे रसेल
आंद्रे रसेल

बीबीएल 2016-17 सीज़न के दौरान आंद्रे रसेल ने सभी को अपने बल्ले के रंग और काया से आश्चर्यचकित कर दिया था। वह एक गुलाबी ग्रिप के साथ चमकदार ब्लैक विलो के बल्ले को लेकर मैदान बल्लेबाजी करने आए जिसे लेकर बड़ा विवाद खड़ा हुआ। सोशल मीडिया और क्रिकेट विशेषज्ञ सभी चर्चा कर रहे थे कि क्या इस बल्ले को कानूनों के अनुसार अनुमति दी गई थी।

हालांकि, क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया (सीए) ने पहले रसेल को उस बल्ले का उपयोग करने के लिए मंजूरी दे दी थी। लेकिन बाद में इस खास एडिशन वाले बल्ले के इस्तेमाल पर प्रतिबंध लगा दिया। जिसके चलते आंद्रे रसेल को अपने परंपरागत बल्ले पर स्विच करना पड़ा था।

#3 रिकी पोंटिंग - ग्रेफाइट बैट

रिकी पोंटिंग
रिकी पोंटिंग

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान रिकी पोंटिंग साल 2004 में एक बल्ले के उपयोग को लेकर विवादों में घिर गए थे। कहा जाता है कि इस बल्ले में कार्बन ग्रेफाइट की परत लगी थी जिसका निर्माण मशहूर कंपनी कुकाबुरा ने किया था। इस बल्ले का इस्तेमाल करते हुए पॉन्टिंग ने पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट में दोहरा शतक जड़ दिया था। लोगों द्वारा आपत्ति दर्ज करने के बाद एमसीसी ने बल्ले की जांच की। जांच में पता चला कि इस बल्ले से बैट्समैन को शॉट्स लगाने में फायदा होता है। जिसके बाद एमसीसी ने कड़ा फैसला लेते हुए इस बल्ले से खेलने पर रोक लगा दी थी।

PREVIOUS 2 / 3 NEXT
Published 03 Oct 2020
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now