5 मौके जब टेस्ट क्रिकेट में एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बने

New Zealand v Sri Lanka - 1st Test: Day 1

एक क्रिकेट फैन कभी भी 2007 टी-20 वर्ल्डकप में स्टुअर्ट ब्रॉड की गेंदों पर युवराज सिंह द्वारा लगाए गए 6 छक्कों को नहीं भूल सकता है और ना ही वो आईपीएल में क्रिस गेल की तूफानी पारियों को भूल सकता है | पिछले कुछ सालों से रन के मामले में टी-20 और वनडे में कई बड़े ओवर आए | हर मैच में कोई ना कोई रिकॉर्ड बनता है | लेकिन क्या ये टेस्ट मैचों में ये संभव है ?- हमने बहुत कम ही देखा है कि टेस्ट मैचों में बल्लेबाजों की स्ट्राइक रेट हाई रही हो | ज्यादातर बल्लेबाज धीरे-धीरे अपनी इनिंग को बनाते हैं और चौको-छक्कों में कम विश्वास रखते हैं | लेकिन पिछले कुछ सालों में कई बल्लेबाज इसका अपवाद रहे हैं | टी-20 क्रिकेट आने के बाद टेस्ट मैचों में भी बल्लेबाजों ने तेजी से रन बनाना शुरु कर दिया है, जिसकी वजह से उनका स्ट्राइक रेट भी हाई रहा है | यहां हम आपको उन 5 बल्लेबाजों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्होंने टेस्ट क्रिकेट में भी एक ओवर में सबसे ज्यादा रन बनाने का रिकॉर्ड बनाया | 5. 26 रन (सुरंगा लकमल टू ब्रेंडन मैकलम, पहली पारी, 55वां ओवर ) न्यूजीलैंड vs श्रीलंका, क्राइस्टचर्च, 2014-15 पिछले कुछ सालों में श्रीलंका ट्रांजिशन के दौर से गुजर रहा है, बहुत सारे नए खिलाड़ी टीम में आए हैं | कुमार संगकारा और महेला जयवर्द्धने के संन्यास के बाद श्रीलंकाई टीम अब वैसी नहीं रही जैसा कि एक दौर में हुआ करती थी | 2014 में श्रीलंका के न्यूजीलैंड दौरे पर भी कुछ ऐसा ही हुआ , टीम का कीवियों के खिलाफ प्रदर्शन निराशाजनक रहा | तब से वो लगातार संघर्ष कर रहे हैं | क्राइस्टचर्च में पहले टेस्ट के दौरान 4 विकेट खोकर 212 रन बनाकर न्यूजीलैंड मजबूत स्थिति में था | क्रीज पर थे जिमी नीशम और कप्तान ब्रैंडन मैकलम | दोनों ही बल्लेबाजों ने उस पारी में बिल्कुल वनडे मैच की तरह बल्लेबाजी की, उन्होंने ग्राउंड के चारों तरफ गेंद को सीमा रेखा के पार पहुंचाया | मैकलम ने तो महज 74 गेंदों पर ही शतक जड़ डाला | 55वें ओवर में ब्रैंडन मैकलम को आउट करने के लिए सुरंगा लकमल को वापस बॉलिंग अटैक पर लगाया गया | लेकिन श्रीलंका का ये दांव उल्टा पड़ गया | मैकलम ने लकमल के उस ओवर में 3 छक्के और 2 चौकों की मदद से 26 रन ठोंक डाले | एक ओवर में रन के हिसाब से टेस्ट क्रिकेट में 5वां सबसे बड़ा ओवर था | हालांकि मैकलम महज 5 रनों से टेस्ट क्रिकेट में सबसे तेज दोहरा शतक लगाने से चूक गए और 195 रन पर आउट हो गए | न्यूजीलैंड ने आसानी से वो मैच 8 विकेट से जीत लिया | वहीं दूसरा मैच भी 193 रनों से अपने नाम कर न्यूजीलैंड ने 2-0 से सीरीज जीत ली | 4. 26 रन (दानिश कनेरिया टू ब्रायन लारा, पहली पारी, 84वां ओवर) वेस्टइंडीज का पाकिस्तान दौरा, पहला टेस्ट, मुल्तान, 2006-07 68570 इस मैच में ब्रायन लारा ने पाकिस्तानी गेंदबाजों की जमकर खबर ली | उन्होंने शानदार दोहरा शतक जड़ा | 3 मैचों की सीरीज में पाकिस्तान ने हालांकि दूसरा मैच जीतकर सीरीज में 2-0 की बढ़त बना ली थी | टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने पहली पारी में 357 रनों का अच्छा स्कोर खड़ा किया | पाकिस्तान के टॉप ऑर्डर ने अच्छी बल्लेबाजी की | वेस्टइंडीज ने भी अपने टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों के शानदार प्रदर्शन की बदौलत पाकिस्तान को अच्छा जवाब दिया | तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक वेस्टइंडीज ने पाकिस्तान पर 234 रनों की बढ़त ले ली | ब्रायन लॉरा ने टेस्ट क्रिकेट में नौंवा दोहरा शतक जड़ा | उस मैच में ब्रायन लारा ने काफी आक्रामक तरीके से बल्लेबाजी की, उन्होंने मात्र 79 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया | दानिश कनेरिया के एक ओवर में तो उन्होंने 26 रन ठोंक दिए, उन्होंने कनेरिया को एक ही ओवर में 3 छक्के और 2 चौके जड़े | उस समय टेस्ट क्रिकेट में एक ओवर में बनाया गया ये चौथा सबसे बड़ा स्कोर था | बाद में ब्रैंडन मैक्कलम ने इस रिकॉर्ड की बराबरी की | हालांकि वेस्टइंडीज क्रिकेट इन दिनों मुश्किलों से घिरी हुई है | उनके कोच फिल सिमंस को बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है, जबकि स्टार खिलाड़ी आंद्रे रसेल कोर्ट की कार्रवाई का सामना कर रहे हैं | उन पर 2 साल का बैन भी लगाया जा सकता है | पिछले कुछ समय से भले ही वेस्टइंडीज क्रिकेट जूझ रही हो लेकिन t-20 में उनका प्रदर्शन लाजवाब रहा है | वर्ल्ड क्रिकेट में सिर्फ वेस्टइंडीज के पास 2 T-20 वर्ल्ड कप का खिताब है | 3. 27 रन (हरभजन सिंह टू शाहिद अफरीदी, पहली पारी- 136वां ओवर) भारत का पाकिस्तान दौरा- पहला टेस्ट, मुल्तान, 2006, 07 58214 पाकिस्तान के खिलाफ घर से बाहर ऐतिहासिक टेस्ट सीरीज जीतने के एक साल बाद भारत ने 2006 में पाकिस्तान का दौरा किया | भारत का इरादा पाकिस्तान के खिलाफ लगातार दूसरी टेस्ट सीरीज जीत का था | जिस तरह की पिच बनाई गई उसमें गेंदबाजों के लिए कुछ भी नहीं था | 5 दिनों में 1000 से ज्यादा रन बने और सिर्फ 8 विकेट ही गिरे | टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करते हुए पाकिस्तान ने 657 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किया | पाकिस्तान के ज्यादातर बल्लेबाजों ने धीरे-धीरे अपनी इनिंग को संवारा, लेकिन शाहिद अफरीदी और कामरान अकमल ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की | इन दोनों बल्लेबाजों ने महज 126 गेंदों पर 170 रनों की साझेदारी कर डाली | अफरीदी और अकमल दोनों ने ही 80 गेंदों पर अपना शतक पूरा किया | अफरीदी ने 7 छक्कों की मदद से 103 रन बनाए | इन 7 छक्कों में से 4 केवल उन्होंने 136वें ओवर में हरभजन सिंह के ओवर में जड़े | 4 में से 2 छक्के दीप मिडविकेट पर, एक छक्का बॉलर के सिर के ऊपर से सीधे स्ट्रेट बाउंड्री पर और चौथा छक्का स्क्वायर लेग बाउंड्री के ऊपर से लगाया | अगली 2 गेंदों को वो सीमा रेखा के पार नहीं पहुंचा सके | हरभजन सिंह के उस ओवर में अफरीदी ने 27 रन बनाए | टेस्ट क्रिकेट में एक ओवर में रनों के लिहाज से ये अब तक का तीसरा सबसे बड़ा ओवर था | दोनों देशों के बीच तनाव के कारण उसके बाद भारत ने कभी पाकिस्तान का दौरा नहीं किया | 2. 28 रन (जेम्स एंडरसन vs जॉर्ज बेली- 87वां ओवर) एशेज सीरीज, तीसरा टेस्ट, पर्थ, ऑस्ट्रेलिया, 2013 174207 4 साल के बाद ऑस्ट्रेलिया ने जबरदस्त वापसी करते हुए 2013 में इंग्लैंड को एशेज सीरीज में हरा दिया | उम्मीद के विपरीत ऑस्ट्रेलिया ने ये एशेज सीरीज आसानी से अपने नाम कर लिया, कंगाउरुओं ने पर्थ टेस्ट में 150 रनों से जीत हासिल करने के साथ ही 5 मैचों की सीरीज में 3-0 की बढ़त बना ली | इंग्लैंड को पर्थ टेस्ट में हराने के बाद हर ऑस्ट्रेलियाई खिलाड़ी और फैंस के आंखों में आंसू थे, जिससे इस बात का पता चलता है कि इस जीत के लिए उनके लिए क्या मायने थे | मिचेल जॉनसन ने पूरी सीरीज में अपनी कहर बरपाती गेंदों से इंग्लैंड के बल्लेबाजों को खूब छकाया, किसी भी इंग्लिश बल्लेबाज के पास जॉनसन का तोड़ नहीं था | तीसरे मैच में ऑस्ट्रेलिया मजबूत स्थिति में थी | पहली पारी में 395 रनों का सम्मानजनक स्कोर खड़ा करने के बाद उन्होंने इंग्लैंड को 251 पर ही समेट दिया | दूसरी पारी में भी शेन वॉटसन और डेविड वॉर्नर के शतकों की बदौलत ऑस्ट्रेलिया बड़े स्कोर की तरफ बढ़ रहा था | 340 रनों पर छठा विकेट गिरने के बाद जॉर्ज बेली का साथ देने मिचेल जॉनसन क्रीज पर आए | इंग्लैंड के गेंदबाज कंगारूओं को जल्द समेटने के मूड में दिख रहे थे, लेकिन तभी एक ओवर में कुछ ऐसा हुआ जिसकी किसी ने कल्पना तक नहीं की होगी | जॉर्ज बेली ने इंग्लैंड के सबसे होनहार गेंदबाजों में से एक जेम्स एंडरसन के एक ही ओवर में ताबड़तोड़ 28 रन कूट डाले | 1 ओवर में रनों के लिहाज से टेस्ट क्रिकेट में संयुक्त रुप से ये अब तक का सबसे बड़ा ओवर था | बेली ने एंडरसन के उस ओवर में 3 छक्के और 2 चौके जड़े | इसके बाद ऑस्ट्रेलिया ने तुरंत पारी घोषित कर इंग्लैंड को जीत के लिए 504 रनों का लक्ष्य दिया | #1 28 रन (रॉबिन पीटरसन टू ब्रायन लारा-120वां ओवर) वेस्टइंडीज का दक्षिण अफ्रीका दौरा, पहला टेस्ट, जोहान्सबर्ग, दक्षिण अफ्रीका, 2003-04 9510e9268ac6acdad58364aec1c81e7c 2003 में 4 टेस्ट मैचों की सीरीज के लिए वेस्टइंडीज का दक्षिण अफ्रीका दौरा कुछ खास नहीं रहा | पूरी सीरीज के दौरान ब्रायन लारा एकमात्र ऐसे बल्लेबाज रहे जिन्होंने अफ्रीकी गेंदबाजों का डटकर सामना किया | वेस्टइंडीज की टीम 3-0 से वो सीरीज बुरी तरह हार गई | पूरी सीरीज के दौरान प्रोटियाज बल्लेबाज अपने रंग में दिखे, उन्होंने कैरिबियाई गेंदबाजों की जमकर पिटाई की | दक्षिण अफ्रीका के टॉप ऑर्डर के बल्लेबाजों ने कई शतक लगाए | वहीं दूसरी तरफ साउथ अफ्रीका के गेंदबाजों ने भी शानदार प्रदर्शन किया | उन्होंने वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों को क्रीज पर पैर जमाने का मौका तक नहीं दिया | जोहानिसबर्ग में खेले गये पहले टेस्ट मैच में वेस्टइंडीज ने अच्छा संघर्ष किया, लेकिन पूरी सीरीज में वो इसे दोहरा ना सके | पहले टेस्ट में पहले बल्लेबाजी करते हुए साउथ अफ्रीका ने ग्रीम स्मिथ और जैक कैलिस के शतकों की बदौलत 561 रनों का विशाल स्कोर खड़ा किय़ा | जवाब में वेस्टइंडीज ने भी उसी अंदाज में बल्लेबाजी की, लेकिन साउथ अफ्रीका के बल्लेबाजों की तरह वो डटकर नहीं खेल सके | पूरी टीम 410 रनों पर ऑल आउट हो गई | एकमात्र बल्लेबाज ब्रायन लारा वेस्टइंडीज के लिए संघर्ष करते रहे, लेकिन दूसरे छोर से सिवाय डेरेन गंगा के अलावा उन्हें कोई साथ नहीं मिला | डेरेन गंगा ने मैच में अर्धशतकीय पारी खेली | अपने 150 रन पूरे करने के बाद और विकेट गिरता देख ब्रायन लारा ने तेजी से रन बनाने शुरु कर दिए | विकेट की तलाश में दक्षिण अफ्रीका की तरफ से रॉबिन पीटरसन को गेंदबाजी पर लगाया गया, लेकिन लारा के मन में तो कुछ और ही चल रहा था | लारा रॉबिन पीटरसन पर टूट पड़े, उन्होंने पीटरसन के एक ओवर में 4 चौके और 2 छक्कों की मदद से 28 रन ठोंक डाले| उस समय टेस्ट क्रिकेट में एक ओवर में रनों के लिहाज से वो सबसे बड़ा स्कोर था | लेकिन इसके तुरंत बाद ब्रायन लारा आउट हो गए, और उनके आउट होते ही वेस्टइंडीज की हार लगभग तय हो गए | आखिर में दक्षिण अफ्रीका ने य़े मैच 189 रनों से अपने नाम किया |

Edited by Staff Editor