Create
Notifications

क्रिकेट में 5 द्विपक्षीय श्रृखंलाओं की ट्रॉफियां

SENIOR ANALYST
Modified 27 Dec 2016
  क्रिकेट एक ऐसा खेला है जिसमें 2 देशों की टीम के बीच कड़े मुकाबले होते हैं। इस खेल का सबसे बड़ा ट्रॉफी विश्व कप है, क्रिकेट खेलने वाली हर टीम इसे जीतने के लिए हर संभव कोशिश करती है। लेकिन इन सबके अलावा क्रिकेट में दो देशों के बीच द्विपक्षीय सीरीज का भी एक अलग महत्व है। क्योंकि टूर्नामेंट की बजाय टीमें द्विपक्षीय सीरीज ज्यादा खेलती हैं। इसलिए इसमें नाक की लड़ाई काफी ज्यादा होती है। क्रिकेट शुरु होने से लेकर अब तक कई ऐसी द्विपक्षीय श्रृंखलाएं हुई हैं, जिसे जीतने के लिए दोनों देशों ने हर तरकीब का सहारा लिया। मैदान पर ये रोमांच देखते ही बनता है। इनमें से कुछ सीरीज वर्ल्ड क्रिकेट में काफी मशहूर हैं। आइए आपको बताते हैं क्रिकेट की सबसे मशहूर 5 द्विपक्षीय ट्रॉफियों के बारे में   1.वॉर्न-मुरली ट्रॉफी warne-murali-trophy-1482685274-800   इस ट्रॉफी का नाम इन देशों के 2 दिग्गज स्पिनरों मुथैया मुरलीधरन और शेन वॉर्न के नाम पर रखा गया है। श्रीलंका और ऑस्ट्रेलिया के बीच जो भी टेस्ट सीरीज खेली जाती है वो इसी नाम के तहत खेली जाती है। मुरलीधरन और शेन वॉर्न दुनिया में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाजों की सूची में पहले 2 नंबरों पर हैं। मुरलीधरन के नाम वर्ल्ड क्रिकेट में सबसे ज्यादा विकेट का रिकॉर्ड है, वहीं शेन वॉर्न दूसरे नंबर पर हैं। 2007 में ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका के बीच टेस्ट क्रिकेट के 25 साल पूरे होने के मौके पर इस सीरीज का नाम वॉर्न-मुरली ट्रॉफी रखा गया था। 2007 से लेकर अब तक 4 बार ये सीरीज खेली जा चुकी है, जिसमें 2 बार ऑस्ट्रेलिय़ा ने और 2 बार श्रीलंका ने इस सीरीज की मेजबानी की है। अब तक इस सीरीज में ऑस्ट्रेलियाई टीम का पलड़ा भारी रहा है, कंगारू टीम ने वॉर्न-मुरली ट्रॉफी की पहली 3 श्रृंखलाएं बिना कोई मैच गंवाए अपने नाम की। लेकिन 2016 में जब श्रीलंकाई टीम ने इस सीरीज को होस्ट किया तो उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को 3-0 से व्हाइटवाश कर दिया और श्रृंखला अपने नाम की। वर्ल्ड क्रिकेट में वॉर्न और मुरली के योगदान को देखते हुए ये ट्रॉफी काफी मायने रखती है। वॉर्न और मुरली दोनों अपने जमाने के दिग्गज स्पिनर रहे हैं।
1 / 5 NEXT
Published 27 Dec 2016
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now