Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

कप्तानों के 5 ऐसे साहसिक निर्णय जिसने श्रृंखला या प्रतियोगिता का रुख ही बदल दिया

Modified 11 Oct 2017, 15:06 IST
Advertisement
क्रिकेट ने कई ऐसे महान कप्तानों का निर्माण किया है जिन्होंने टीम को जीत दिलाने के लिए अपनी प्रतिभा के साथ साथ अपनी बुद्धि का भी चतुराई से इस्तेमाल किया है। अच्छे कप्तानों के पास हमेशा अच्छी रणनीतियां होती हैं और वे उसे मैदान पर प्रभावी रूप से लागू भी करते हैं। हालांकि हर बार हर कप्तान ड्रेसिंग रूम में बनायी गयी रणनीति को योजनाबद्ध तरीके से मैदान पर लागू नहीं कर पाता है। लेकिन एक महान कप्तान वही होता है जो अपनी रणनीति में परिस्थिति के अनुसार उसमें बदलाव करता है। वह अलग-अलग परिस्थितियों में खुद को ढालता है और उस अनुसार मैदान पर अपनी योजना को बदलता है। क्रिकेट के इतिहास में कई ऐसी घटनाएं हुई हैं जो दिखाती हैं कि एक महान कप्तान अपनी बुद्धि का प्रयोग करके कभी भी मैच का पासा अपनी तरफ पलट सकता है। आईये आज बताते हैं ऐसे ही कुछ निर्णयों के बारें में जिसने बदल दिया पूरे मैच का रुख- #5 सौरभ गांगुली ने नंबर 3 पर द्रविड़ की बजाय लक्ष्मण से बल्लेबाजी करने के लिए कहा ऑस्ट्रेलिया टीम का 2001 में भारत दौरा भारतीय क्रिकेट के इतिहास में एक महत्वपूर्ण मोड़ माना जा सकता है। इसका टेस्ट क्रिकेट पर एक ऐसा प्रभाव पड़ा जैसा 1983 में विश्वकप जीतने के बाद एदिवसीय क्रिकेट में पड़ा था। ऑस्ट्रेलिया का उस समय विश्व क्रिकेट में एकछत्र राज था। ऑस्ट्रेलियाई टीम लगातार जीत हासिल कर रही थी और मुंबई में खेले गये सीरीज के पहले टेस्ट मैच में तीन दिनों के अंदर ही 10 विकेट से जीत हासिल करके कंगारुओं ने लगाताक 16 मैच जीतने का विश्व रिकॉर्ड बनाया था। ऑस्ट्रेलियाई टीम बेहतरीन फॉर्म में थी और कोलकाता में दूसरे टेस्ट में उन्होंने पहली पारी में 445 रन बनाये थे और भारत को पहली पारी में केवल 171 रन पर समेट दिया था। ऑस्ट्रेलिया ने भारत से दूसरी पारी में फॉलोऑन के  खेलने के लिए कहा था, भारत ने शुरुआत अच्छी की लेकिन 50 रन पर भारत का पहला विकेट गिर गया। पहला विकेट गिरने के बाद गांगुली के एक निर्णय ने सबको हैरान कर दिया जिसने पूरी श्रृंखला की दिशा बदल दी। दादा ने वीवीएस लक्ष्मण को राहुल द्रविड़ की जगह नंबर 3 पर जाने के लिए कहा। नंबर 3 पर लक्ष्मण और नंबर 5 पर राहुल को भेजने का निर्णय सफल साबित हुआ और दोनों ने ही बेहतरीन पारियां खेंली। लक्ष्मण ने टेस्ट का अपना सर्वोच्च स्कोर 281 बनाया और द्रविड़ ने 180 रन बनाकर ऑस्ट्रेलिया के सामने 384 रन का टारगेट दिया। इस सहासिक निर्णय से ना सिर्फ ऑस्ट्रेलिया को इस टेस्ट मैच से हार मिली बल्कि चेन्नई में खेला गया तीसरा टेस्ट भी ऑस्ट्रेलिया हार गया और सीरीज 2-1 से गंवानी पड़ी।
1 / 5 NEXT
Published 11 Oct 2017, 15:06 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit