Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

कप्तान सौरव गांगुली के 5 फैसले जिसने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया

ANALYST
Modified 08 Jul 2016, 13:25 IST
Advertisement
एक टीम जो मैच-फिक्सिंग से झटका खा बैठी थी, एक देश जिसे खिलाड़ियों के कारण शर्मिंदा होना पड़ा था, एक जुनूनी खेल जिसपर लोगों का गुस्सा बहुत बढ़ गया था। इतनी गंभीर परेशानियों के बीच सौरव गांगुली एक आदमी की तरह मैदान में आए और सारे मामलों को अपने सिर पर लेते हुए न सिर्फ टीम में नया जोश जगाया बल्कि जिस तरह हम क्रिकेट देखते थे, वह गर्व वाली भावना भी लौटाई। 'दादा' के नाम से लोकप्रिय गांगुली ने बहुत ही प्रतिभावान खिलाड़ियों की फौज तैयार की, जिन्होंने नम्र व्यक्तियों की छवि से बहार निकलते हुए जूझारू अहम अपनाया और विश्व की टीम से लोहा लेने में कोई घबराहट नहीं दिखाई। भारतीय क्रिकेट टीम को टीम इंडिया कहा जाने लगा और फिर प्रतिष्ठा की यात्रा शुरू हो गई। 'बंगाल टाइगर' ने 44 बरस पूरे कर लिए हैं, हम उन पांच कप्तानी फैसलों पर गौर करेंगे जो 'दादा' ने लिए और उनसे भारतीय क्रिकेट में बदलाव आया : #1 बादलों से ढंके हेडिंग्ले पर टॉस जीतकर बल्लेबाजी करने का फैसला leeds-1467901379-800 2002 में इंग्लैंड दौरे पर तीसरा टेस्ट लीड्स में खेला जाना था। हेडिंग्ले जो अपने बादलों से ढंके रहने और हरी पिच के लिए विश्व में मशहूर है। यह परिस्थिति भारतीय टीम के लिए बिलकुल विपरीत थी। गांगुली ने टॉस जीतकर सबको चौंकते हुए बल्लेबाजी का फैसला किया वो भी उस पिच पर जो तेज गेंदबाजों के लिए बेहद मददगार थी। पहले बल्लेबाजी करने का फैसला इसलिए लिया गया था क्योंकि भारत के पास अनिल कुंबले और हरभजन सिंह के रूप में दो स्पिनर मौजूद थे, गांगुली उन दोनों का चौथे और पांचवे दिन उपयोग करना चाहते थे। यह फैसला मास्टरस्ट्रोक साबित हुआ क्योंकि भारतीय टीम ने पहली पारी में 628 रन बनाए। इंग्लैंड की टीम कभी भी इस दबाव से उबर नहीं सकी और अनिल कुंबले से आखिरी पारी में 4 विकेट भी चटकाए। भारत ने एक पारी और 46 रन से यह टेस्ट जीता। अनिल कुंबले और हरभजन सिंह की जोड़ी ने पहली पारी में भी तीन विकेट लिए थे। दादा के इस फैसले ने अपने बल्लेबाजी लेने का कारण भी साबित किया।
1 / 5 NEXT
Published 08 Jul 2016, 13:25 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit