Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 क्रिकेटर जो विश्व कप का मैन ऑफ़ द टूर्नामेंट पुरस्कार जीतने के हक़दार नहीं थे

Rahul Pandey
ANALYST
Modified 15 Oct 2017, 10:08 IST
Advertisement

किसी भी खिलाड़ी के लिए अपने देश के लिए विश्व कप जीतना हमेशा विशेष है, चाहे वह कोई भी खेल क्यों न हो। टूर्नामेंट के विजेताओं को सम्मानित करने के अलावा, खेल के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी का सम्मान भी किया जाता है।  यह  क्रिकेट में भी कोई अलग नहीं है क्योंकि आईसीसी विश्व कप के सबसे बेहतरीन खिलाड़ी को प्लेयर ऑफ़ दी टूर्नामेंट से सम्मानित भी करती है। हालाँकि क्रिकेट विश्व कप पहली बार 1975 में खेला गया था, मगर पहली बार 1992 में इस पुरस्कार से किसी खिलाड़ी को सम्मानित किया गया था। तब से, कम से कम एक खिलाड़ी को आईसीसी विश्व कप और विश्व टी -20 में प्रत्येक बार इस पुरस्कार से सम्मानित किया गया है। अक्सर खिलाड़ी विजेता टीम से होता है पर कुछ अवसरों पर, ऐसी टीम से भी जो टूर्नामेंट जीतने में नाकाम रही हो। इस पुरस्कार का कारण, टूर्नामेंट भर में एक खिलाड़ी के व्यक्तिगत प्रदर्शन को पुरस्कृत करना है। यद्यपि हर अवसर पर योग्य खिलाड़ियों ने यह पुरस्कार जीता, पर कई अवसरों कुछ अयोग्य नाम भी पुरस्कार जीत ले गये। यहाँ हम ऐसे नामों पर नज़र डाल रहे जो अयोग्य होते हुए भी इस पुरस्कार को जीत ले गये, साथ ही उन नामों पर भी जो इसे जीतने के योग्य थे।


1992 विश्व कप 659c4-1507889950-800 1992 के विश्व कप में अंडरडोग रहे पाकिस्तान के विश्वकप जीतने की कल्पना भी किसी ने नही की होगी, वो भी तब जब वह टूर्नामेंट में जल्दी ही बाहर होने की कगार पर था। उन्होंने फाइनल में इंग्लैंड को 22 रन से हराकर अपनी पहली आईसीसी चैंपियनशिप जीत ली। पाकिस्तान के लिए जीत के वास्तुकार उनके बाएं हाथ के तेज गेंदबाज वसीम अकरम थे, जो पूरे टूर्नामेंट में एक अलग ही खिलाड़ी नज़र आये। उन्होंने हर एक बल्लेबाज को परेशान किया जिसको उन्होंने टूर्नामेंट में गेंदबाजी की थी। इस तेज गेंदबाज ने 10 मैचों में 18.77 की औसत से 18 विकेट लिये थे, जिसमें 3.7 की इकॉनमी थी और जब भी उनकी टीम को जरूरत पड़ती थी, तब उन्होंने अपनी टीम को महत्वपूर्ण सफलता दिलायी। लेकिन, उन्हें प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट के लिए अनदेखा किया गया क्योंकि किवी कप्तान मार्टिन क्रो को उनके 9 मैचों में 114 के औसत से बनाये गये 456 रनों के लिए यह पुरस्कार दिया था। विश्व कप में क्रो की उपलब्धि अभूतपूर्व थी, लेकिन वसीम का टूर्नामेंट पर बड़ा असर पड़ा था, क्योंकि उन्होंने अपनी टीम के लिये विश्व कप ख़िताब की जीत तक का सफ़र तय किया था।
1 / 5 NEXT
Published 15 Oct 2017, 10:08 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit