Create
Notifications
New User posted their first comment
Advertisement

5 ऐसे क्रिकेटर जिन्होंने चैंपियंस ट्रॉफी और वर्ल्ड कप दोनो में बेहतरीन प्रदर्शन किया

SENIOR ANALYST
Modified 17 Jun 2017, 21:12 IST
Advertisement

कुछ क्रिकेटर ऐसे होते हैं जो कि बड़े इवेंट को काफी ज्यादा पसंद करते हैं और बड़े टूर्नामेंटों में काफी बेहतरीन प्रदर्शन करते हैं।  ऐसे प्लेयर वर्ल्ड कप या चैंपियंस ट्रॉफी जैसा बड़ा टूर्नामेंट आते ही फॉर्म में आ जाते हैं। बड़े टूर्नामेंटो में मैच विनिंग प्रदर्शन की वजह से इन खिलाड़ियों को हमेशा याद किया जाता है और क्रिकेट के पन्नों में उनके प्रदर्शन को सुनहरे अच्छरों में लिखा जाता है। हमने ऐसे ही 5 खिलाड़ियों की लिस्ट बनाई है जिन्होंने बड़े टूर्नामेंट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया।   राहुल द्रविड़ DRAVID




































बैटिंग पारी रन औसत स्ट्राइक रेट 50 100 बेस्ट
चैंपियंस ट्रॉफी रिकॉर्ड 15 627 48.23 73.33 6 0 76
वर्ल्ड कप रिकॉर्ड 21 860 61.43 74.98 6 2 145
भारत के भरोसेमंद बल्लेबाज और 'दीवार' के नाम से मशहूर राहुल द्रविड़ बड़े मैचों के खिलाड़ी माने जाते थे। उन्होंने अपने करियर में 6 आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में हिस्सा लिया। 1998 में टूर्नामेंट की शुरुआत से लेकर 2009 तक वो हर एक चैंपियंस ट्रॉफी में भारतीय टीम का हिस्सा रहे। इस दौरान उन्होंने कई क्रम पर बल्लेबाजी की। द्रविड़ ने नंबर 3 से लेकर टीम की जरुरत के हिसाब से नंबर 6 तक बल्लेबाजी की। 2002 के चैंपियंस ट्रॉफी में उन्होंने विकेटकीपर की भी भूमिका निभाई। नाजुक मौके पर अच्छी बल्लेबाजी करके द्रविड़ ने भारतीय टीम को कई अहम मैच जिताए।
Advertisement
वहीं द्रविड़ ने अपना पहला  वर्ल्ड कप 1999 में खेला था। उस समय वो टूर्नामेंट के हाईएस्ट स्कोरर रहे थे। द्रविड़ ने टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा 461 रन बनाए थे। केन्या के खिलाफ उन्होंने लगातार शतक जड़ा था। सचिन तेंदुलकर के साथ उन्होंने केन्या के खिलाफ 237 रनों की मैराथन साझेदारी की थी। वहीं श्रीलंका के खिलाफ मैच में सौरव गांगुली के साथ मिलकर द्रविड़ ने रिकॉर्ड 318 रनों की साझेदारी की।
2003 में दक्षिण अफ्रीका में हुए वर्ल्ड कप में भी राहुल द्रविड़ ने विकेटकीपर की भूमिका निभाई। इसकी वजह से भारत को एक अतिरिक्त बल्लेबाज खिलाने का मौका मिला। वो टूर्नामेंट में टीम के उपकप्तान भी थे।
Advertisement
हालांकि द्रविड़ के करियर में एक मौका ऐसा भी आया जब उनकी कप्तानी में 2007 के वर्ल्ड कप में भारतीय टीम टूर्नामेंट के लीग स्टेज से ही बाहर हो गई।
1 / 5 NEXT
Published 17 Jun 2017, 21:12 IST
Advertisement
Fetching more content...
App download animated image Get the free App now
❤️ Favorites Edit